अमेरिका / 102 और 88 साल के मित्रों का पहला एलबम सीनियर सॉन्ग बुक हिट, इसमें 8 गीत हैं

ट्रिप्प 102 साल के हैं और वीसबॉर्ड की उम्र 88 है। ट्रिप्प 102 साल के हैं और वीसबॉर्ड की उम्र 88 है।
X
ट्रिप्प 102 साल के हैं और वीसबॉर्ड की उम्र 88 है।ट्रिप्प 102 साल के हैं और वीसबॉर्ड की उम्र 88 है।

  • ट्रिप्प और वीसबॉर्ड ने बताया- एलबम बनाने का मकसद बुजुर्गों के एहसास को संगीत के माध्यम से लोगों तक पहुंचाना है
  • दोनों ने दो साल तक रोजाना करीब 30 मिनट तक प्रैक्टिस की, तब जाकर एलबम तैयार हुआ

Dainik Bhaskar

Dec 11, 2019, 09:56 AM IST

पेंसिल्वेनिया (अमेरिका). सेवानिवृत्त दो बुजुर्ग दोस्तों ने अपना पहला एलबम सीनियर सॉन्ग बुक 15 नवंबर को जारी किया। इसमें आठ गीत हैं और लोग इसे बहुत पसंद कर रहे हैं। इन्हें लगातार प्रशंसा और ई-मेल मिल रहे हैं। इनके एलबम का पहला एडिशन कुछ ही दिनों में बिक गया। इसकी कीमत करीब 17 डॉलर (करीब 1200 रुपए) है। वहीं, यदि इसे ऑनलाइन डाउनलोड करना चाहते हैं, तो लगभग 10 डॉलर खर्च करने पड़ेंगे।

102 साल के ट्रिप्प तथा 88 साल के वीसबॉर्ड आमने-सामने रहते हैं। ट्रिप्प ने बताया कि हमने इस एलबम में शामिल गीतों में बढ़ती उम्र के साथ दूर होते जाते मित्रों के बारे में कविता लिखी है।

ऐसे आया आइडिया

  • ट्रिप्प ने बताया कि एक बार वीसबॉर्ड पियानो बजा रहे थे, तभी मैंने उनकी धुन पर अपने कुछ शब्द गा दिए। तभी उन्हें विचार आया कि क्यों न बुजुर्गों के जीवन तथा बढ़ती उम्र में क्या एहसास होता है, उसे संगीत के माध्यम से बताया जाए, उसका शब्दांकन कविता के रूप में कर स्वरबद्ध किया जाए। इसके बाद ट्रिप्प ने गीत लिखे और वीसबॉर्ड ने गीतों को स्वर में पिरोया है। दोनों ने दो साल तक करीब 30 मिनट रोजाना गीत-संगीत की प्रैक्टिस की, तब जाकर इस एलबम का स्वरूप तैयार हुआ।
  • जैज बैंड तथा पियानो का उपयोग इंस्ट्रूमेंट के रूप में किया गया है। इस एलबम को रिलीज करने से पहले इन दोनों ने कभी कोई गीत नहीं लिखा और न ही कभी संगीतबद्ध किया। इनका एलबम इसलिए भी पसंद किया जा रहा है, क्योंकि गीतों में जीवन की सच्चाई और उसे उत्साह से जीने की उमंग का जज्बा है। दोनों ने कभी नहीं सोचा था कि बढ़ती उम्र में वे ऐसा कोई काम करेंगे, जिससे लोग उनके बारे में चर्चा करें। 

गीतों में प्रेम और ब्रेकअप का अनुभव
ट्रिप्प तथा वीसबॉर्ड ने बताया कि जिस तरह कोई पुराना बॉलर नए बॉलर को अपने अनुभव बताकर टिप्स देता है, जिससे वह खेल में विजय पा सके। ठीक उसी तरह हम दोनों ने जीवन में सच्चे प्रेम से लेकर ब्रेकअप का अनुभव (लुकिंग इन द मिरर) जैसे विषयों पर अपने आठ गीतों को संगीत में पिरोया है। दोनों ने अपने 14 साल की उम्र के समय के अनुभव को भी इसमें शामिल किया है।

पेंसिल्वेनिया स्टूडियो में हुई रिकॉर्डिंग

एलबम बनाने के लिए दोनों ने पेंसिल्वेनिया स्टूडियो में अपने गीत रिकॉर्ड कराए। वीसबोर्ड पियानो बजाते हुए बड़े हुए हैं, इसलिए वे चाहते थे कि अपने दोस्त को 100वें जन्मदिन पर संगीत का यादगार तोहफा दिया जाए। वैसे इस एलबम के गीत बुजुर्ग ही नहीं, आज की युवा पीढ़ी के लिए भी प्रेरणा देने वाले साबित हो रहे हैं। एलबम के गीतों में 2020 की आधुनिकता को ध्यान में रखने के साथ ही 1940 के जमाने की भावनात्मक तरंगें भी शामिल हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना