मध्य प्रदेश / 20 रुपए के खर्च में अंडे के छिलकों पर थीम पेंटिंग, नाम दिया सड़क सुरक्षा-जीवन सुरक्षा

गजेंद्र ने बताया, ज्यादातर वेस्ट मटेरियल पर पेंटिंग बनाने में मजा आता है। गजेंद्र ने बताया, ज्यादातर वेस्ट मटेरियल पर पेंटिंग बनाने में मजा आता है।
X
गजेंद्र ने बताया, ज्यादातर वेस्ट मटेरियल पर पेंटिंग बनाने में मजा आता है।गजेंद्र ने बताया, ज्यादातर वेस्ट मटेरियल पर पेंटिंग बनाने में मजा आता है।

  • इंदौर के छात्र गजेंद्र शर्मा ने थीम पेंटिंग में जेब्रा क्रॉसिंग, नो पार्किंग, राउंड रोड, नो ट्रैफिक, वर्किंग रोड जैसे 20 ट्रैफिक सिग्नल चिह्न बनाए हैं
  • गजेंद्र ने पहले नारियल के खोल पर 51 विश्व धरोहर उकेरी, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज 

दैनिक भास्कर

Feb 17, 2020, 08:42 AM IST

इंदौर (सृष्टि भट्‌ट). विश्व में हर सेकंड करीब 450 सड़क दुर्घटनाएं होती हैं। ज्यादातर हादसे यातायात नियमों की जानकारी के अभाव में होते हैं। इसी बात को अपने केंद्र में रखकर इंदौर के गजेंद्र शर्मा ने अंडों के छिलकों पर सड़क सुरक्षा और जीवन सुरक्षा थीम पर पेंटिंग बनाई है। इस पर महज स्केच पेन का करीब बीस रुपए खर्च आया।

यह पेंटिंग एक साल तक खराब नहीं होगी। अंडे के छिलकों पर एलबियुमिन और कार्टिन प्रोटीन होता है, जिससे से एक साल तक वह खराब नहीं होता। इसलिए पेंटिंग थीम तैयार करने के लिए एग शेल का इस्तेमाल किया है। सफेद छिलकों पर लाल और काले रंग से की गई पेंटिंग आकर्षक लग रही है।

गजेंद्र पांच से ज्यादा थीम पेंटिंग बना चुके हैं 

गजेंद्र होलकर कॉलेज में फाइनल ईयर के छात्र हैं। वह इसके पहले भी कच्चे नारियल के खोल पर 51 विश्व धरोहरों को उकेर कर उन्हें सहेजने का संदेश दे चुके हैं। इसके लिए उनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी दर्ज है। गजेंद्र पांच से ज्यादा थीम पेंटिंग बना चुके हैं। वे चाहते हैं कि इस कला का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करने में हो। इस थीम पेंटिंग में उन्होंने जेब्रा क्रॉसिंग, नो पार्किंग, राउंड रोड, नो ट्रैफिक, वर्किंग रोड समेत बीस ट्रैफिक सिग्नल चिह्न तैयार किए हैं। उनका कहना है कि जिन चीजों पर पेंटिंग करने के बारे में कोई सोचता भी नहीं है। उन्हें उन पर चित्र उकेरने में मजा आता है। ये ज्यादातर वेस्ट मटेरियल ही होते हैं।

60 घंटों में 60 स्कूलों में विद्यार्थियों को बताएंगे ट्रैफिक नियम
गजेंद्र के मुताबिक, 'यातायात के नियम बताती इन पेंटिंग को बनाने का उद्देश्य लोगों, खासकर छात्रों को जागरूक करना है। अब तक दस स्कूल-कॉलेज में थीम पेंटिंग दिखाकर छात्रों को यातायात के नियम सिखा चुका हूं। मेरा लक्ष्य है कि साठ घंटों में साठ अलग-अलग स्कूल-कॉलेजों में जाकर बच्चों को सड़क सुरक्षा से जुड़े नियम बताऊं, ताकि स्वच्छता के बाद इंदौर ट्रैफिक में भी नंबर एक बन जाए।’

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना