• Hindi News
  • International
  • Kabul Airport Attack; Afghanistan YouTuber Najma Sadeqi Killed At Hamid Karzai International Airport

एक सपने की मौत:काबुल एयरपोर्ट हमले में 20 साल की मशहूर यूट्यूबर नजमा की भी मौत; आखिरी वीडियो में कहा था- काश, ये एक बुरा ख्वाब बन जाए

काबुल2 महीने पहले

26 अगस्त को काबुल एयरपोर्ट पर हुए धमाके में 13 अमेरिकी सैनिकों समेत 170 लोगों की मौत हुई थी। मारे गए आम अफगानियों में एक मुल्क का मशहूर चेहरा भी था। 20 साल की नजमा सादिकी की भी इस हमले में मौत हो गई थी। मौत से चंद घंटे पहले नजमा ने अपना फेयरवेल वीडियो पश्तो में फैन्स के लिए पोस्ट किया था। इसमें कहा था- शायद अब हम कभी न मिलें। लेकिन, मैं चाहती हूं कि हमारे मुल्क में अभी जो हालात हैं, वो किसी बुरे सपने की तरह खत्म हो जाएं। बहरहाल, न तो तालिबानी हुकूमत सपना है और न इसकी सच्चाई देखने के लिए यह यंग यूट्यूबर अब इस दुनिया में मौजूद है।

अफगानिस्तान की पसंदीदा यूट्यूबर
CNN ने नजमा सादिकी पर एक स्पेशल रिपोर्ट पब्लिश की है। इसमें उनके कुछ सहयोगियों की भी आपबीती है। इस रिपोर्ट के मुताबिक- अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे (15 अगस्त) के चार दिन बाद नजमा ने अपने घर से अपना घर वीडियो रिकॉर्ड किया, लेकिन ये वो नजमा नहीं थीं जिनको लोग पसंद करते थे, सराहते थे। अकसर, सलीके से पहने गए सफेद लिबास में खिलखिलाती नजमा आखिरी वीडियो में बेहद मायूस और गमगीन दिखीं। इस वीडियो में उन्होंने कहा, “अब हमें घर से निकलने और काम करने की आजादी नहीं है। इसलिए, सब अपना आखिरी वीडियो रिकॉर्ड कर लीजिए। सबको अलविदा कहने का वक्त आ गया है।”

नजमा अकसर कुकिंग या टूरिस्ट प्लेस पर युवा अफगानियों के साथ और उनके लिए ही वीडियो बनातीं थीं। वो अफगानिस्तान के इनसाइडर यूट्यूब चैनल के लिए भी काम करती थीं।

घर से बाहर निकलने में डर लगता है
आखिरी वीडियो में नजमा ने कहा, “अब काबुल की सड़कों पर निकलने में डर लगता है। मेरे लिए दुआ कीजिए। यहां जिंदगी बेहद मुश्किल हो गई है। मैं उम्मीद करती हूं कि यह सब एक बुरे सपने की तरह खत्म हो जाएगा। एक दिन हम खूबसूरत सुबह जरूर देखेंगे।” नम आंखों से नजमा ने कहा- मैं जानती हूं, अब ये नामुमकिन है। और ये अब सच्चाई है। हमें इसके साथ ही जीना होगा।

इस वीडियो के बाद, नजमा ने मुल्क छोड़ने का फैसला कर लिया। काबुल एयरपोर्ट पहुंचीं, लेकिन बदकिस्मती ने यहां भी पीछा नहीं छोड़ा। फिदायीन हमला हुआ और नजमा की भी मौत हो गई। वो जर्नलिज्म फाइनल इयर की स्टूडेंट थीं। नजमा के साथ कई वीडियोज में नजर आ चुकीं उनकी दोस्त रोहिना अफसार ने कहा- वो अपनी पढ़ाई और परिवार का खर्च खर्च खुद उठाना चाहती थी। आज काबुल में ज्यादातर परिवार दो वक्त की रोटी चाहते हैं। नजमा और रोहिना अब कभी एक साथ नजर नहीं आएंगी।

खबरें और भी हैं...