साउथ अफ्रीका के नाइटक्लब में मिले 21 स्टूडेंट्स के शव:मरने वालों में 13 साल का बच्चा भी शामिल, मौत की वजह साफ नहीं

केप टाउन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

साउथ अफ्रीका में एक नाइटक्लब में 21 स्टूडेंट्स के शव मिलने से सनसनी फैल गई। मारे गए बच्चे हाई स्कूल एग्जाम खत्म होने का जश्न मनाने के लिए क्लब गए हुए थे। मौत के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है। एक पुलिस ऑफिसर के मुताबिक, मारे गए बच्चों के शरीर पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं मिले हैं। घटना में मारे गए स्टूडेंट्स की उम्र 13-17 साल बताई जा रही है।

ब्रिगेडियर थेम्बिंकोसी किनाना ने कहा- हमें सूचना मिली कि पूर्वी लंदन में स्थित सीनरी पार्क के पास एक नाइटक्लाब में 21 स्टूडेंट्स की मौत हो गई है। 8 लड़कियों और 13 लड़कों के शव मिले हैं। 17 शव क्लब के अंदर से मिले। 4 बच्चों की मौत इलाज के दौरान हो गई।

पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है। पुलिस, फोरेंसिक टीम के साथ मिलकर इस मामले की जांच कर रही है।
पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है। पुलिस, फोरेंसिक टीम के साथ मिलकर इस मामले की जांच कर रही है।

संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत
किनाना ने कहा- मौत के कारण का पता लगाया जा रहा है। घटना की जांच की जा रही है। फिलहाल लाशों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। प्राइमरी इन्वेस्टिगेशन से लगता है कि मौत जहर की वजह से हुई है। हम ये भी मानकर चल रहे हैं कि- हो सकता है किसी वजह से यहां भगदड़ मच गई हो, जिसमें स्टूडेंट्स की मौत हो गई। रिपोर्ट्स के मुताबिक, खबर मिलने के बाद बच्चों के पेरेंट्स और भीड़ को क्लब के बाहर देखा गया।

प्रेसिडेंट ने जताया शोक
जर्मनी में G7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने गए साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा ने इस घटना पर शोक जताया है। उन्होंने कहा- 18 साल से कम उम्र के 21 स्टूडेंट्स की मौत से स्तब्ध हूं।

साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा ने बच्चों का क्लब में होने हैरान करने वाला बताया।
साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा ने बच्चों का क्लब में होने हैरान करने वाला बताया।

लिकर लॉ में बदलाव को लेकर हो रही चर्चा
एक अधिकारी ने कहा- सिर्फ 18 साल से ज्यादा उम्र वाले ही शराब का सेवन कर सकते हैं। ऐसे में हाई-स्कूल के बच्चों का क्लब में होना सवाल खड़े करता है। लोग कई बार कानून का पालन नहीं करते हैं। एडमिनिस्ट्रेशन शराब लाइसेंस से जुड़े कानून में बदलाव को लेकर चर्चा करेंगे। दरअसल, साउथ अफ्रीका में सबसे ज्यादा अल्कोहोल कन्ज्यूम की जाती है।

प्रांतीय प्रधानमंत्री ऑस्कर मबुयाने ने कहा- यकीन नहीं होता कि एक झटके में 21 बच्चों की जान चली गई। शराब का सेवन खतरनाक है। शहर के बीचों-बीच खुले-तौर पर शराब की बिक्री गलत है। हम ये नहीं मान सकते कि बच्चे इसे ट्राय नहीं करेंगे।