• Hindi News
  • International
  • 7 Days Of Conflict Between Israel And Hamas; 10 Thousand Indians In Israel Spending Day And Night In Bunkers

भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट:इजरायल और हमास के बीच संघर्ष के 7 दिन; इजरायल में 10 हजार भारतीय दिन-रात बंकरों में गुजार रहे

7 महीने पहलेलेखक: इजरायल के बेरसेवा शहर से आनंद चौहान
  • कॉपी लिंक
तस्वीर बेरसेवा शहर की है। यहां सभी दुकानें और बाजार पिछले एक हफ्ते से बंद हैं। सड़कों पर बैरिकेड लगा दिए गए हैं। इतना ही नहीं डरे-सहमे लोग भी घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। - Dainik Bhaskar
तस्वीर बेरसेवा शहर की है। यहां सभी दुकानें और बाजार पिछले एक हफ्ते से बंद हैं। सड़कों पर बैरिकेड लगा दिए गए हैं। इतना ही नहीं डरे-सहमे लोग भी घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं।

मैं पत्नी और तीन बेटियों के साथ ढाई साल से इजरायल के बेरसेवा शहर में रह रहा हूं। यह शहर गाजा पट्‌टी बॉर्डर से करीब 45 किमी दूर है। फिलिस्तीनी संगठन हमास ने रॉकेट हमले शुरू कर यहां युद्ध जैसे हालात पैदा कर दिए हैं। इजरायली सेना भी जवाबी कार्रवाई कर हमास को भारी नुकसान पहुंचा रही है। इजरायल और हमास के बीच संघर्ष शुरू होने के बाद पिछले सात दिन से बाजार बंद हैं। जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है। लोग सहमे हुए और दिन-रात मकानों में बने बंकरों में बिता रहे हैं।

मेरे मकान में बंकर नहीं है, इसलिए हम पास में बने एक बंकर में रहते हैं। 1995 के बाद बनने वाले मकान-इमारतों में सेफ्टी-रूम और बंकरों की व्यवस्था है। लेकिन, 1992 से पहले बने मकानों में ऐसे इंतजाम नहीं हैं। इस कारण 1992 से पहले के मकानों में रहने वालों को आपसास के बंकर-सेफ्टी रूम में रखा जा रहा है। शनिवार रात करीब ढाई बजे इलाके में बमबारी हुई थी। तब से लगातार वॉर्निंग सायरन गूंज रहे हैं।

इलाकों की छोटी-छोटी दुकानें कुछ वक्त के लिए खोली जा रही हैं, ताकि लोग जरूरी चीजों को खरीद कर गुजारा कर सकें। इजरायल में करीब 10 हजार भारतीय रहते हैं। इनमें ढाई-तीन हजार गुजराती हैं, जो राजकोट के अलावा पोरबंदर-जूनागढ़ और वडोदरा सहित इलाकों से हैं।

1200 भारतीय स्टूडेंट्स हॉस्टल के सेफ्टी रूम में हैं: इजरायल की 9 यूनिवर्सिटी में करीब 1200 भारतीय स्टूडेंट हैं। स्टूडेंट्स हॉस्टल से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। वे हॉस्टल के सेफ्टी रूम में सुरक्षित हैं। सोशल मीडिया के जरिए एक-दूसरे से संपर्क में हैं और मदद के हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

सोशल मीडिया के जरिए सुरक्षा के टिप्स दे रहे: संकट के इस समय में लोग सोशल मीडिया के जरिए एक-दूसरे का सहारा बने हुए हैं। भारतीय इजरायल में अपने शहरों में हो रही घटनाओं से एक दूसरे को अपडेट कराने के साथ-साथ सुरक्षा उपाय भी बता रहे हैं, ताकि हर व्यक्ति जहां है वहां सुरक्षित रहे।
(आनंद चौहान की महेंद्र सिंह जाड़ेजा से हुई बातचीत के अनुसार। आनंद राजकोट के रहने वाले हैं।)

इजरायल ने गाजा पर फिर हवाई हमले किए; 42 लोगों की जान गई
इजरायल ने रविवार को गाजा पट्‌टी पर फिर हवाई हमले किए। इसमें 42 लोगों की मौत हो गई है। इनमें 16 महिलाएं और 10 बच्चे शामिल हैं। इनके अलावा 50 लोग घायल हो गए हैं। गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी। पिछले एक हफ्ते में यह इजरायल का गाजा पर सबसे बड़ा हमला है। पिछले एक हफ्ते के संघर्ष में गाजा में 188 फिलिस्तीनी मारे गए हैं। जबकि 1,230 फिलिस्तीनी घायल हो गए हैं। मारे गए फिलिस्तीनियों में 55 बच्चे भी शामिल हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने नेतन्याहू और फिलिस्तीनी राष्ट्रपति से बात की
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास से बात की है। फोन पर हुई इस बातचीत में बाइडेन ने इजरायल की कार्रवाई का समर्थन किया है। हालांकि, हमले में बच्चों और आम लोगों के मारे जाने पर दुख जताया। बाइडेन ने अब्बास से कहा कि हमास इजरायल पर रॉकेट हमले बंद करे। रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रपति बनने के बाद जो बाइडेन ने पहली बार महमूद अब्बास से बात की है।

हमास हमले में मारी गईं सौम्या के घर केरल पहुंचे इजरायली राजनयिक
हमास के रॉकेट हमले में जान गंवाने वाली सौम्या संतोष (30) का रविवार को केरल के इडुक्की में अंतिम संस्कार किया गया। इजरायल के महावाणिज्यदूत जोनाथन जड़का श्रद्धांजलि देने सौम्या के घर पहुंचे। उन्होंने सौम्या के परिवार को हर संभव मदद का आश्वासन दिया। सौम्या इजरायल में 7 साल से घरेलू कामगार थीं। वह एश्केलॉन शहर में रहती थीं।

नेतन्याहू बोले- यह जंग आतंक के खिलाफ; 25 देशों का शुक्रिया
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने फिलिस्तीन के साथ जारी संघर्ष के लिए हमास को दोषी ठहराया। उन्होंने कहा कि जब तक हम अंजाम तक नहीं पहुंचते, तब तक गाजा के खिलाफ हमारी जवाबी कार्रवाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि ये लड़ाई आतंक के खिलाफ है। हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि इससे नागरिकों की जान खतरे में न पड़े। वहीं नेतन्याहू ने रविवार को इजरायल का समर्थन कर रहे 25 देशों का शुक्रिया कहा। इसमें भारत का नाम शामिल नहीं है।

खबरें और भी हैं...