• Hindi News
  • International
  • 8 year old Case Came To The Fore, Protest Outside PM's House; The Matter Reached The Parliament

नेपाल में रेप से जुड़े कानून को लेकर विरोध:8 साल पुराना केस आया सामने, PM के घर के बाहर प्रदर्शन; संसद पहुंचा मामला

काठमांडू3 महीने पहलेलेखक: वृष्टि नारद
  • कॉपी लिंक

नेपाल में इन दिनों महिलाओं के खिलाफ यौन शोषण से जुड़े कानून में बदलाव लाने के मामले ने जोर पकड़ा हुआ है। लोग सड़कों पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। हाल ही में एक 24 साल की युवती ने ब्यूटी पेजेंट ऑर्गेनाइजर पर उसके साथ दुष्कर्म करने के आरोप लगाए। इसके बाद लोगों ने न्याय की मांग करते हुए प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा के घर के बाहर प्रदर्शन किया।

क्या है मामला
दरअसल, ये मामला 2014 का है। नेपाल में कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक 24 साल की युवती ने उसके साथ रेप होने की बात कही। वीडियो में युवती ने बताया कि साल 2014 में ब्यूटी पेजेंट ऑर्गेनाइजर ने उसका कई बार रेप किया।

विक्टिम का दर्द

युवती ने कहा- उस समय मैं 16 साल की थी। मैंने ब्यूटी पेजेंट जीता था। मेरी जीत का जश्न मनाने के लिए ऑर्गेनाइजर ने मुझे एक सक्सेस पार्टी में शामिल होने के लिए इनवाइट किया। मैं जब वहां पहुंची तो ऑर्गेनाइजर के अलावा कोई और मौजूद नहीं था। उसने मुझे इंतजार करने के लिए कहा। फिर एक वेटर मेरे लिए नींबू पानी लाया। जिसे पीने के बाद मुझे कुछ ठीक नहीं लगा। मैंने ऑर्गेनाइजर से घर छोड़ने के लिए कहा, लेकिन उसने मुझे जाने नहीं दिया। ऑर्गेनाइजर ने मुझे ड्रग्स देकर मेरे साथ गलत काम किया। बाद में वो मुझे ब्लैकमेल करने लगा। इस घटना के बाद मैंने कई लोगों से मदद मांगी, लेकिन किसी ने साथ नहीं दिया। सभी मुझे नीचा दिखा रहे थे या मेरा फायदा उठाना चाहते थे।

ये केस संसद पहुंचा जहां स्पीकर ने इस मामले में जांच करने के निर्देश दिए हैं।
ये केस संसद पहुंचा जहां स्पीकर ने इस मामले में जांच करने के निर्देश दिए हैं।

कानून है या मजाक
नेपाल में यौन शोषण से जुड़े कानून के तहत शिकायत दर्ज करवाने की सीमा एक साल है। यानी दुष्कर्म होने के एक साल बाद तक ही महिला आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज करवा सकती है। ये समय सीमा खत्म होने के बाद महिला न्याय की मांग नहीं कर सकती है। इसी कानून में बदलाव लाने के लिए लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। लोगों ने रेप और यौन शोषण से जुड़े मामलों की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाए जाने की मांग की।

सांसद बोले- बेटी की आंखों में डर देखा
नेपाली संसद में इस मुद्दे पर चर्चा हुई। जिसके बाद स्पीकर अग्नि प्रसाद सापकोटा ने सरकार को जांच के बाद सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया। नेपाली कांग्रेस विधायक गगन कुमार थापा ने इस मुद्दे को संसद में उठाया। उन्होंने कहा- मैं अपने परिवार के साथ घर वापस जा रहा था तभी हमने 24 साल की युवती का वीडियो देखा। जिसके बाद मैंने अपनी बेटी की आंखों में डर देखा। मैं स्पीकर से इस मामले में जांच और कार्रवाई के निर्देश देने की मांग करता हूं।

लोगों में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों और न्याय नहीं मिलने के खिलाफ नाराजगी जताई और प्रदर्शन किए।
लोगों में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों और न्याय नहीं मिलने के खिलाफ नाराजगी जताई और प्रदर्शन किए।

युवती ने की थी आत्महत्या की कोशिश
वीडियो में युवती ने बताया कि घटना के बाद वह पूरी तरह से टूट गई थी। न्याय की कोई उम्मीद नहीं दिख रही थी जिसके बाद वह डिप्रैशन में चली गई। उसने कहा- मैंने अपनी तकलीफों से बाहर आने के लिए खुद को खत्म करने की कोशिश की। मुझे बचा लिया गया। फिर मैंने ठान लिया की जो मेरे साथ हुआ वह किसी और के साथ नहीं होने दूंगी। इसलिए अब मैंने आवाज उठाई है।