• Hindi News
  • International
  • A. Army Deployed On The Fields In Korea Orders To Shoot Those Who Steal Grain; People Falling Ill After Eating Wild Plants

उ. कोरिया में खेतों पर सेना तैनात:अनाज चुराने वालों को गोली मारने के आदेश; जंगली पौधे खा बीमार पड़ रहे लोग

21 दिन पहलेलेखक: टोक्यो से भास्कर के लिए जूलियन रयाल
  • कॉपी लिंक
उ. कोरिया में भूख मिटाने के लिए फसल रखने वाले किसान दंडित किए जा रहे हैं। - Dainik Bhaskar
उ. कोरिया में भूख मिटाने के लिए फसल रखने वाले किसान दंडित किए जा रहे हैं।

उत्तर कोरिया से जो खबरें आ रही हैं, वे दिन ब दिन और ज्यादा चिंताजनक होती जा रही हैं। इसको लेकर अंतरराष्ट्रीय सहायता एजेंसियां गर्मी से लगातार चेतावनी दे रही हैं कि खाद्यान्न संकट के चलते उत्तर कोरिया बड़े मानवीय संकट की तरफ बढ़ रहा है। इस साल बाढ़ ने फसलें तबाह कर दी हैं। कोरोना के चलते चीन के साथ बंद सीमा ने इस संकट को और बढ़ा दिया है। कड़ाके की सर्दी के महीने जैसे-जैसे आ रहे हैं, हताशा बढ़ती जा रही है।

फसल की रखवाली के लिए खेतों में सैनिक तैनात कर दिए गए हैं और उन्हें आदेश है कि अनाज चुराने वालों की गोली मार देंं। हालात इस कदर भयावह है कि कई लोग जंगली पौधे खाकर बीमार पड़ गए हैं। किसान अपनी फसल सरकार को सौंपने की बजाय छुपा रहे हैं। कुछ किसानों ने भूखे रहने के डर से 60% फसल सरकार को नहीं सौंपी है। खराब मौसम और उर्वरकों की भारी कमी के चलते फसल चौपट हो गई है।

रियानगांग के उत्तरी प्रांत के एक सूत्र ने बताया कि पांच किसानों को अनाज की जमाखोरी करते हुए पकड़ा गया। इन्हें श्रम शिविर में 5 माह की सजा सुनाई गई है और फसल लाने के कार्य में लगे लोगों की नियमित तलाशी ली जा रही है। उत्तर कोरिया में अधिकारी निगरानी इकाइयों को निर्देश दे रहे हैं कि खाद्य आपातकाल 2025 तक चलेगा और तब तक सीमा बंद रह सकती है।

टेम्पल यूनिवर्सिटी में अंतरराष्ट्रीय संबंधों के प्रोफेसर जेम्स ब्राउन कहते हैं कि सभी संकेत बताते हैं कि उत्तर कोरियाई बड़े संकट का सामना कर रहे हैंं। चीन के साथ सीमा बंद करने के फैसले ने इस समस्या को बढ़ा दिया है। क्योंकि चीन खाद्य आपूर्ति का बड़ा स्रोत है।

उ. कोरिया में नब्बे के दशक में भुखमरी से 35 लाख मौतें हुई थीं

विश्व खाद्य कार्यक्रम के कर्मचारियों को 2020 में देश छोड़ने का आदेश दिया गया था। इस संस्था के मुताबिक तब 40% आबादी (करीब 1.30 करोड़) कुपोषण का शिकार थी। उ. कोरिया ने 2020 में 40 लाख टन अनाज पैदा किया, जो 2019 की तुलना में 2.18 लाख टन कम था। इस देश को 2.57 करोड़ लोगों के लिए हर साल 52 लाख टन अनाज की जरूरत पड़ती हैै। इस स्थिति ने 1990 के दशक में पड़े सूखे की यादें ताजा कर दी हैं, तब 35 लाख मौतें हुई थीं।