• Hindi News
  • International
  • A Convoy Of 400 Camels On The Sea Of Sand, The Occasion Was The Celebration Of China's National Day

2000 साल पुराने सिल्क रूट पर लौटी रौनक:रेत के समंदर पर 400 ऊंटों का काफिला, मौका था चीन के राष्ट्रीय दिवस का समारोह

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बड़ी संख्या में लोगों ने ऊंट की सवारी का लुत्फ उठाया। - Dainik Bhaskar
बड़ी संख्या में लोगों ने ऊंट की सवारी का लुत्फ उठाया।

चीन के डुन्हुआंग प्रांत के मिंगशा की पहाड़ियों से क्रीसेंट पार्क तक के रास्ते में गोबी रेगिस्तान में 400 ऊंटों का काफिला लोगों को लेकर निकला, तो सिल्क रूट की ऐतिहासिक रौनक लौट गई। मौका था चीन के राष्ट्रीय दिवस का समारोह। एक अक्टूबर से शुरू हुआ ये समारोह अगले सात दिन तक चलता है। बड़ी संख्या में लोगों ने ऊंट की सवारी का लुत्फ उठाया। ये सभी 400 ऊंट स्थानीय लोगों के ही हैं।

यूनेस्को वर्ल्ड हैरिटेज साइट

क्रीसेंट पार्क के दो हजार वर्ष पुराने नखलिस्तान को सरकार ने 2006 में पुनर्जीवित किया। अब इसे यूनेस्को की वर्ल्ड हैरिटेज साइट में शामिल किया गया है।

गोबी रेगिस्तान से यूराेप तक

सिल्क रूट 200 ईसा पूर्व से सन् 1800 तक आबाद रहा। उत्तरी चीन के गोबी रेगिस्तान से यूरोप को जोड़ता था। व्यापारी रेशम व भारतीय मसालों को लेकर जाते थे।