तालिबान की गुहार:हमारा पैसा रिलीज करे अमेरिका, अफगान सेंट्रल बैंक का रिजर्व अनफ्रीज किया जाए

काबुल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कई दिनों तक चले संघर्ष के बाद तालिबानी अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज हो गए। - Dainik Bhaskar
कई दिनों तक चले संघर्ष के बाद तालिबानी अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज हो गए।

अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज तालिबान ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से देश के बैंक रिजर्व को अनफ्रीज करने की अपील की है। तालिबानी सरकार ने इसके लिए देश में खड़े हुए मानवीय संकट को रोकने का हवाला दिया है। दरअसल, इसी साल अगस्त में अफगानिस्तान की चुनी हुई सरकार का पतन हो गया और यहां की सत्ता तालिबान के हाथों में आई। इसके तुरंत बाद ही अमेरिका ने अफगानिस्तान की अरबों डॉलर की संपत्ति को फ्रीज कर दिया।

तालिबान के वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता अहमद वली हौमल ने कहा कि अफगान संपत्ति को बिना किसी शर्त के रिलीज किया जाना चाहिए। किसी देश के भंडार को फ्रीज करना अंतरराष्ट्रीय कानूनों के खिलाफ है। अफगान लोगों के खिलाफ हो रही क्रूरता का यह उदाहरण है। उन्होंने कहा कि जमा किया गया पैसा इस्लामिक अमीरात की संपत्ति नहीं है, यह जरूरतमंद लोगों और व्यापारियों का धन है।

सेंट्रल बैंक के रिजर्व को फ्रीज करने के खिलाफ रैली
टोलो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, रविवार को अफगान उद्योगपतियों और व्यापारियों ने अफगानिस्तान के रिजर्व को फ्रीज करने के खिलाफ रैली निकाली। इनका कहना है कि मौजूदा गंभीर आर्थिक संकट न केवल अफगानिस्तान, बल्कि दूसरे देशों को भी नुकसान पहुंचाएगा। ऐसे में यह पाबंदी जल्द हटाई जानी चाहिए। एक उद्योगपति मोहम्मद शाहब ने कहा कि अगर देश का रिजर्व अनफ्रीज नहीं किया गया तो अपराध बढ़ेंगे। साथ ही अफीम की खेती और ड्रग्स की तस्करी भी बढ़ेगी, जिससे अफगानिस्तान और दूसरे देशों को नुकसान होगा।

अनफ्रीज कराने के लिए इन शर्तों का पालन जरूरी
वहीं, मानवाधिकार कार्यकर्ता जरका यफ्ताली बैंक का रिजर्व अनफ्रीज किए जाने के खिलाफ हैं। उन्होंने कहा कि यह पैसा जारी नहीं किया जाएगा। दुनिया नई सरकार को मान्यता नहीं देगी, अगर इस्लामिक अमीरात शर्तों को लागू नहीं करता है। मालूम हो कि बैंक का रिजर्व जारी कराने के लिए कुछ शर्तों का पालन करना होता है, जिसमें मानवाधिकारों का सम्मान करना, महिलाओं को शिक्षा और काम का अधिकार देना जैसी मूलभूत शर्तें शामिल हैं।

अफगानिस्तान के सेंट्रल बैंक में करीब 1,000 करोड़ डॉलर
न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अफगानिस्तान के सेंट्रल बैंक में करीब 1,000 करोड़ डॉलर का रिजर्व पड़ा हुआ है, जिसमें से ज्यादातर पैसा न्यूयॉर्क में फेडरल रिजर्व बैंक के पास है। अफगानिस्तान के सेंट्रल बैंक का करीब 700 करोड़ डॉलर का रिजर्व फेडरल रिजर्व बैंक ऑफ न्यूयॉर्क के पास है। वहीं, अफगान सेंट्रल बैंक के रिजर्व की करीब 100.30 करोड़ डॉलर की रकम इंटरनेशनल एकाउंट में रखी है, जिसमें से कुछ हिस्सा यूरो और ब्रिटिश पाउंड में है।