• Hindi News
  • International
  • Afghanistan NSA Calls Taliban Pakistan Agent, Says Afghanistan will never accept to be ruled by Pakistanis

अफगानिस्तान / एनएसए ने कहा- पाकिस्तान का एजेंट है तालिबान; ऐसे बर्बाद मुल्क की मदद नहीं चाहिए



अफगानिस्तान के एनएसए हमदुल्लाह मोहिब ने पाकिस्तान को भुखमरी का शिकार मुल्क बताया है। अफगानिस्तान के एनएसए हमदुल्लाह मोहिब ने पाकिस्तान को भुखमरी का शिकार मुल्क बताया है।
X
अफगानिस्तान के एनएसए हमदुल्लाह मोहिब ने पाकिस्तान को भुखमरी का शिकार मुल्क बताया है।अफगानिस्तान के एनएसए हमदुल्लाह मोहिब ने पाकिस्तान को भुखमरी का शिकार मुल्क बताया है।

हमदुल्लाह मोहिब के मुताबिक, अफगानिस्तान तो सोवियत संघ के आगे झुकने से इनकार कर चुका है

उन्होंने कहा- पाकिस्तान तो अपनी अवाम का ही पेट नहीं भर पा रहा है, ऐसे पिछड़ों की मदद नहीं चाहिए

Dainik Bhaskar

Oct 04, 2019, 01:21 PM IST

वॉशिंगटन. अफगानिस्तान ने मुल्क में शांति स्थापना के लिए पाकिस्तान की मदद लेने से इनकार कर दिया। अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) हमदुल्लाह मोहिब वॉशिंगटन में कहा- तालिबान तो पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई का एजेंट है। और पाकिस्तान तो अपने ही लोगों का पेट नहीं भर पा रहा है। हमें उसकी सरपरस्ती या मदद लेना मंजूर नहीं। हमने तो सुपर पॉवर सोवियत संघ के समक्ष समर्पण नहीं किया था। फिर, पाकिस्तान जैसे बर्बाद मुल्क का शासन कैसे स्वीकार कर सकते हैं। मोहिब के इस बयान की टाइमिंग बेहद अहम है। दरअसल, गुरुवार को ही तालिबानी नेताओं ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री से लंबी बातचीत की थी। 

 

पाकिस्तान तो पिछड़ा देश
मोहिब गुरुवार को वॉशिंगटन में कॉउंसिल ऑफ फॉरेन रिलेशन के अहम कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। यहां उन्होंने विशेषज्ञों के सवालों के जवाब भी दिए। तालिबान और अमेरिका की बातचीत विफल हो चुकी है। अब पाकिस्तान इस आतंकी संगठन से बातचीत कर रहा है। मोहिब से इसी बारे में सवाल पूछा गया। जवाब में उन्होंने कहा, “सोवियत संघ तो सुपर पॉवर था। हमने उसकी सरपरस्ती को मंजूर नहीं किया। फिर पाकिस्तान की बिसात क्या? वो तो पिछड़ा और बर्बाद देश है। वहां लोगों को खाने तक के लाले पड़े हैं।”

तालिबान से बेहतर था सोवियत शासन
मोहिब ने आगे कहा, “तालिबान से बेहतर तो सोवियत शासन था। कम से कम शादी हॉल और इन्फ्रास्ट्रक्चर तो बचा था। वैसे, सच तो ये है कि अफगान जनता किसी थोपी गई विचारधारा को स्वीकार नहीं करेगी।” मोहिब का यह बयान बेहद अहम है। हाल ही में तालिबान ने काबुल के एक शादी हॉल पर हमला किया था। इसमें करीब 70 लोग मारे गए थे। एनएसए इसी घटना का जिक्र कर रहे थे। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हालिया अमेरिकी दौरे पर स्वीकार किया था कि उनकी सेना और आईएसआई ने अलकायदा और अन्य आतंकी संगठनों को प्रशिक्षण दिया था। मोहिब ने इमरान के इस बयान को प्रमुखता से उठाया।  

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना