तालिबानी राज में भी धमाके:अफगानिस्तान-पाकिस्तान बॉर्डर पर स्कूल के सामने ब्लास्ट, 9 बच्चों की मौत, चार घायल

काबुल4 महीने पहले

अफगानिस्तान में सोमवार दोपहर हुए एक बम ब्लास्ट में 9 बच्चों की मौत हो गई, जबकि चार गंभीर तौर पर घायल हैं। यह ब्लास्ट पाकिस्तान और अफगानिस्तान बॉर्डर पर हुआ। इसकी पुष्टि मुल्क की सत्ता पर काबिज तालिबान सरकार ने भी की है।

तालिबान गवर्नर ऑफिस की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि नांगरहार के लालोपुर में एक स्कूल के सामने खाने का सामान ले जा रही गाड़ी में धमाका हुआ। कुछ खबरों में कहा गया है कि इस गाड़ी में एक मोर्टार छिपाकर रखा गया था और लालोपुर जिले की चौकी पर जैसे ही यह गाड़ी पहुंची, वहां ब्लास्ट हो गया।

यहां ISIS का कब्जा
मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि नांगरहार प्रांत के लालोपुर इलाके में यह धमाका उस हिस्से में हुआ, जहां पाकिस्तानी चेक पोस्ट्स और कंटीले तार हैं। खास बात यह है कि इस इलाके में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट एक्टिव है और उसकी तालिबान से अक्सर हिंसक झड़पें होती रहती हैं। आईएस आतंकी तालिबान के चेक पोस्ट्स पर भी हमले करते हैं। यह संगठन 2014 से ही इस क्षेत्र में आतंकी वारदातों को अंजाम दे रहा है। इनके ज्यादातर हमले शिया माइनॉरिटीज के खिलाफ होते हैं।

ब्लास्ट वाली जगह मौजूद लोग।
ब्लास्ट वाली जगह मौजूद लोग।

कैसे हुआ ब्लास्ट?
धमाके के बारे में अलग-अलग मीडिया रिपोर्ट्स आ रही हैं। कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि एक हाथ ठेले में खाने का सामान ट्रांसपोर्ट किया जा रहा था। इसी दौरान उससे जमीन में छिपे मोर्टार पर वजन पड़ा और वो फट गया। कुछ और रिपोर्ट्स में कहा गया है कि घटनास्थल के ठीक सामने स्कूल और उसकी दूसरी तरफ पाकिस्तान बॉर्डर है। वहीं एक गाड़ी में बम छिपाकर रखा गया था।
पिछले महीने भी नांगरहार प्रांत के एक कस्बे में धमाका हुआ था और उसमें 4 महिलाओं समेत 7 लोग मारे गए थे।