20 साल पीछे पहुंची अफगान महिलाएं:तालिबान का फरमान- पुरुष साथ लिए बिना सफर नहीं; पब्लिक ट्रांसपोर्ट में बिना हिजाब यात्रा भी बैन

काबुल6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तालिबान हुकूमत ने रविवार को महिलाओं के अकेले सफर करने पर रोक का फरमान जारी किया है। तालिबान की तरफ से जारी बयान में कहा गया- वो औरतें जो पुरुष रिश्तेदार के बिना लंबी दूरी का सफर तय करती हैं, उन्हें सवारी गाड़ी में नहीं बैठाया जाए। इसी के साथ वाहन मालिकों से कहा गया है कि सिर्फ इस्लामिक हिजाब पहनने वाली महिलाओं को ही वाहन में बैठाया जाए।

लंबी दूरी के लिए पुरुष का साथ होना जरूरी
तालिबानी प्रवक्ता सादिक अकिफ मुहाजिर ने कहा- 45 मील (72 किलोमीटर) से ज्यादा की दूरी तय करने वाली औरतों के साथ अगर कोई पुरुष रिश्तेदार नहीं है तो, उन्हें पब्लिक ट्रांसपोर्ट में नहीं बैठाना चाहिए। इससे पहले महिला किरदारों वाले टीवी सीरियल्स पर रोक लगाने का आदेश दिया था।

महिलाओं के लिए हिजाब पहनना अनिवार्य
मुहाजिर ने आगे कहा- वो महिलाएं जो सफर करना चाहती हैं, उनके लिए इस्लामी हिजाब पहनना अनिवार्य होगा। इसके अलावा आम लोगों से अपनी गाड़ियों में म्यूजिक नहीं बजाने के लिए भी कहा गया। महिला न्यूज एंकर्स को एंकरिंग के दौरान भी हिजाब पहनना होगा। अगस्त में सत्ता संभालने के बाद, तालिबान ने आम लोगों को कई छूट देने का वादा किया था। जबकि इसके उलट अफगान औरतों पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए।

तालिबान नेता नेमातुल्लाह बरकजई ने हाल ही में दुकानों के बाहर लगे महिलाओं की तस्वीर वाले बोर्ड हटाने के आदेश दिए थे। महिलाओं की तस्वीर हटाने के पीछे इस्लामी नियमों का हवाला दिया गया था।

चौतरफा परेशानियों से घिरा तालिबान
तालिबान हुकूमत इस वक्त चौतरफा परेशानियों का सामना कर रही है। एक तरफ जहां उनके पास देश चलाने के लिए पैसा नहीं है, वहीं पाकिस्तान के साथ बॉर्डर फेंसिंग के मुद्दे पर तनाव हो गया। बुधवार को पाकिस्तानी सेना नांगरहार प्रांत में फेंसिंग कर रही थी। इसी दौरान वहां तालिबान पहुंच गए। उन्होंने तारबंदी का विरोध किया और वहां मौजूद सामान जब्त कर लिया।

खबरें और भी हैं...