• Hindi News
  • International
  • Sudan Lions [Updates]; Al Qurashi Park in Khartoum Sudan Lions Latest News and Updates On Lions Death By Starvation

सूडान / खाने और दवाओं की कमी से शेरों में कुपोषण, वजन गिरा; इन्हें बचाने के लिए आम लोग फंड जुटा रहे

सामान्य वजन की तुलना में इन शेरों का वजन दो तिहाई तक गिर गया। सामान्य वजन की तुलना में इन शेरों का वजन दो तिहाई तक गिर गया।
आम लोग जेबखर्च से शेरों के खाने का इंतजाम कर रहे। आम लोग जेबखर्च से शेरों के खाने का इंतजाम कर रहे।
शेरों के बेहतर पालन-पोषण के लिए बाहर भेजने की अपील की जा रही है। शेरों के बेहतर पालन-पोषण के लिए बाहर भेजने की अपील की जा रही है।
X
सामान्य वजन की तुलना में इन शेरों का वजन दो तिहाई तक गिर गया।सामान्य वजन की तुलना में इन शेरों का वजन दो तिहाई तक गिर गया।
आम लोग जेबखर्च से शेरों के खाने का इंतजाम कर रहे।आम लोग जेबखर्च से शेरों के खाने का इंतजाम कर रहे।
शेरों के बेहतर पालन-पोषण के लिए बाहर भेजने की अपील की जा रही है।शेरों के बेहतर पालन-पोषण के लिए बाहर भेजने की अपील की जा रही है।

  • सूडान के खारतूम में 5 अफ्रीकी शेरों की हालत बेहद खराब, खाने की कमी से उनकी हड्डियां तक दिखने लगीं
  • सोशल मीडिया पर ‘सूडान एनिमल रेस्क्यू’ ट्रेंड हुआ, एक्टिविस्ट और जनता की मांग- इन्हें बाहर भेजा जाए

Dainik Bhaskar

Jan 21, 2020, 08:57 AM IST

खार्तूम. अफ्रीकी देश सूडान में खाने और दवाओं की कमी का असर इंसानों के साथ जानवरों पर भी पड़ने लगा है। राजधानी खार्तूम में स्थित अल-कुरैशी चिड़ियाघर में कमी का असर ऐसा पड़ा कि यहां 5 नर और मादा शेर कुपोषण का शिकार हो गए। आलम यह है कि इनकी हड्डियां तक झलकने लगी हैं। बताया गया है कि इनका वजन शेरों के औसत वजन से दो-तिहाई तक गिर चुका है। सोशल मीडिया पर हाल ही में इन शेरों की फोटो वायरल हुईं। इसके बाद कार्यकर्ताओं और आम लोगों ने शेरों के इन हालात पर आवाज उठाई है। 

सूडान में इस वक्त सूडान एनिमल रेस्क्यू हैशटैग ट्रेंड हो रहा है। फेसबुक पर एक्टिविस्ट उस्मान सालिह ने लिखा, “जब मैंने इन शेरों को पार्क में देखा, तो उनकी हड्डियां शरीर से बाहर झांक रही थीं। मैं मददगार लोगों और संस्थानों से इनकी मदद की अपील करता हूं।” उनके इस पोस्ट के बाद से ही लोगों ने मांग की है कि शेरों को किसी ऐसी जगह भेजा जाए, जहां इनका पालन-पोषण ठीक ढंग से हो सके। 
 

शेरों के लिए जेबखर्च से खाना खरीद रहे कर्मचारी
चिड़ियाघर का प्रबंधन खार्तूम नगरपालिका की तरफ से देखा जाता है। हालांकि, यह व्यवस्था भी प्राइवेट फंडिंग के जरिए चलती है यानी आम लोगों के दान से। इस वक्त सूडान अर्थव्यवस्था के सबसे खराब दौर से जूझ रहा है। यहां विदेशी मुद्रा भंडार खात्मे की कगार पर है और खाने-पीने की चीजों के दाम आसमान छू रहे हैं। ऐसे में चिड़ियाघर प्रबंधन जानवरों की देखभाल भी नहीं कर पा रहा है। पार्क के मैनेजर इसामेलुद्दीन हज्जार के मुताबिक, “खाना हमेशा मौजूद नहीं रहता, इसलिए कई बार हमें खुद के पैसों से शेरों को खाना खिलाना पड़ता है।”

कुपोषित शेरों को देखने के लिए उमड़ी भीड़ 
सोशल मीडिया पर शेरों की बिगड़ती हालत को देखने के बाद रविवार को भारी मात्रा में दर्शक चिड़ियाघर पहुंचे। न्यूज एजेंसी के फोटोग्राफर के मुताबिक, 5 में से एक शेर को रस्सी से बांधा गया और ड्रिप के जरिए ग्लूकोज दिया गया, क्योंकि उसे डिहाइड्रेशन हुआ था। उनके बाड़ों के पास खराब मीट के टुकड़े पड़े थे। पार्क के अधिकारियों के मुताबिक, चिड़ियाघर की खराब हालत से ही ज्यादातर जानवरों की सेहत पर असर पड़ा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना