पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • International
  • Another Threat From China, H10N3 Variant Of Bird Flu In Humans, Second Case Of Being Infected With Any Variant Of Bird Flu

चीन में अब नए वायरस का खतरा:इंसान में मिला बर्ड फ्लू का H10N3 वैरिएंट, रूस के बाद दुनिया का दूसरा केस; पिछले वायरस से ज्यादा घातक

बीजिंग4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्वी जिआंगसू प्रांत में 41 साल का व्यक्ति 28 मई को बर्ड फ्लू के एच10एन3 स्वरूप से संक्रमित पाया गया है। - Dainik Bhaskar
पूर्वी जिआंगसू प्रांत में 41 साल का व्यक्ति 28 मई को बर्ड फ्लू के एच10एन3 स्वरूप से संक्रमित पाया गया है।

चीन से एक और खतरे की आहट मिली है। यहां बर्ड फ्लू का H10N3 स्वरूप (वैरिएंट) इंसान में मिला है। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने मंगलवार को एक व्यक्ति के इससे संक्रमित होने की जानकारी दी है। आयाेग के अनुसार पूर्वी जिआंगसू प्रांत में 41 साल का व्यक्ति 28 मई को बर्ड फ्लू के एच10एन3 स्वरूप से संक्रमित पाया गया है। हालांकि आयोग ने यह नहीं बताया कि वह संक्रमित कैसे हुआ।

मरीज का चल रहा इलाज
गौरतलब है कि दुनिया में बर्ड फ्लू से इंसान के संक्रमित होने का पहला मामला इसी फरवरी में रूस में सामने आया था। वह बर्ड फ्लू का अपेक्षाकृत कम घातक H5N8 वैरिएंट था। जबकि H10N3 वैरिएंट को कुछ अधिक घातक माना जा रहा है। हालांकि, चीन के सरकारी चैनल सीजीटीएन टीवी के अनुसार, H10N3 के पीड़ित का झेंजियांग शहर में इलाज चल रहा है उसकी हालत ठीक है।

उसे जल्द अस्पताल से छुट्‌टी मिल सकती है। चीन के स्वास्थ्य अधिकारी भी फिलहाल H10N3 का संक्रमण इंसान तक पहुंचने को ज्यादा तवज्जो नहीं दे रहे हैं। उनके मुताबिक H10N3 के बड़े पैमाने पर महामारी की तरह फैलने का जोखिम कम ही है।

कोरोना संक्रमण के मामले में चीन पहले ही निशाने पर
चीन इस समय कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर पूरी दुनिया के निशाने पर है। तमाम वैज्ञानिकाें ने दावा किया है कि कोरोना स्‍वाभाविक रूप से पैदा नहीं हुआ। इसे चीन के वुहान लैब के वैज्ञानिकों ने बनाया है। उन्होंने वायरस में इस तरह के बदलाव किए जिससे कि वह स्वाभाविक रूप से चमगादड़ों से पैदा हुआ लगे।

फैलने की संभावना से इनकार नहीं: धारीवाल

  • बर्ड फ्लू का यह नया वैरिएंट है। इसके एक व्यक्ति से दूसरे में फैलने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। हालांकि अभी इसके वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं हैं। लिहाजा पक्के तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता। एच10एन3 स्ट्रेन से पीड़ित में ओसेलटामाविर साल्ट का इस्तेमाल किया जा सकता है। - डॉ एसी धारीवाल, पूर्व निदेशक, नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम
खबरें और भी हैं...