• Hindi News
  • International
  • Astronaut Will Land In Florida On April 20 From Dragon Capsule After Completing 26 Experiments In ISS

पहले प्राइवेट एस्ट्रोनॉट रिसर्च कर लौटेंगे:26 एक्सपेरिमेंट पूरे करके ड्रैगन कैप्सूल से 20 अप्रैल को फ्लोरिडा में उतरेंगे यात्री

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर उतरने के एक हफ्ते बाद चार प्राइवेट अंतरिक्ष यात्री जीरो ग्रेविटी में लाइफ चेंजिंग साइंस और टेक्नोलॉजी की रिसर्च पूरी करके घर लौट रहे हैं। ये उड़ान 9 अप्रैल को भरी गई थी। जिसे नासा के रिटायर्ड अंतरिक्ष यात्री माइकल लोपेज-एलेग्रिया लीड कर रहे थे। एक्सिओम मिशन-1 स्पेसएक्स के ड्रैगन कैप्सूल के जरिए 20 अप्रैल को फ्लोरिडा में अपनी यात्रा खत्म करेगा। ​​

मिशन में खोजा नया रास्ता
एक्सिओम स्पेस ने कहा कि Ax-1 मिशन के दौरान क्रू ने दुनिया भर के व्यक्तियों, राष्ट्रों और रिसर्चर्स को माइक्रोग्रैविटी में काम के ज्यादा मौके तलाशने के लिए अंतरिक्ष में एक नया रास्ता खोजा है।

26 से ज्यादा प्रयोग किए
अंतरिक्ष में एक हफ्ते में क्रू ने 26 से ज्यादा प्रयोग किए। इनमें सैटेलाइट और फ्यूचर स्पेस रेसिडेंस, कैंसर स्टेम सेल स्टडी, एयर प्यूरिफिकेशन, टेस्टिंग ऐज कम्प्यूटिंग जैसी सेल्फ बिल्ड टेक्नोलॉजी शामिल हैं। साइंस और टेक्नोलॉजी एक्टिविटी के लिए नासा की प्रोसेस में एग्जियोम की पूरी सर्विस को आसान बनाया गया है।

ह्यूमन साइंस होगा प्रभावित
कमर्शियल स्पेस कंपनी ने कहा- इन फ्लाइट में इकट्ठा किए गए डेटा से पृथ्वी पर ह्यूमन साइंस की समझ को प्रभावित करेंगे और साथ ही नोबेल टेक्नोलॉजी की जरूरत को स्थापित करेंगे। जिनका इस्तेमाल भविष्य में मानव अंतरिक्ष यान और पृथ्वी पर लोगों के लिए किया जा सकता है। ये परीक्षण सीधे पृथ्वी पर जीवन में सुधार करेगा और साथ ही साथ ग्रह पर सबसे कमजोर लोगों की मदद करने की कोशिश करेगा।

कई सारी तकनीकों की रिसर्च कर वापस लौटेंगे प्राइवेट अंतरिक्ष यात्री।
कई सारी तकनीकों की रिसर्च कर वापस लौटेंगे प्राइवेट अंतरिक्ष यात्री।

ब्रेन एक्टिविटी पर भी रिसर्च किया
लोपेज़-एलेग्रिया, स्टिब्बे और लैरी कॉनर ने ईईजी सिस्टम के साथ ब्रेन एक्टिविटी की रिसर्च करके न्यूरोवेलनेस का आखिरी सेशन पूरा किया। क्रू एक नए ड्राय सेंसर ईईजी डिवाइस का इस्तेमाल प्रतिदिन 10 मिनट तक की दो रिकॉर्डिंग लेने के लिए कर रहा था। इस स्टडी ने अंतरिक्ष मिशन में काफी लंबा समय लिया।

नई तकनीकों की जांच करने में मिलेगी मदद
उन्होंने बायोमॉनिटर की भी स्टडी की, जो हृदय, फेफड़े और सर्कुलेशन के नेगेटिव इफेक्ट का पता लगाने के लिए नई तकनीकों की जांच करने में मदद करेगा। एक्स-1 मिशन अंतरिक्ष यात्रियों की पहली ऑल-कर्मशियल टीम है, जो लैब के रूप में अपने उद्देश्य के लिए ISS का इस्तेमाल करेगी।