दो साल पहले समुद्र में कटाव से चट्टान की प्रतिकृति टूटी, अब स्टील का वैसा ही स्ट्रक्चर बनाने की तैयारी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • रूसी आर्किटेक्ट ने डिजाइन भी तैयार किया, अगले हिस्से में मिरर स्टील का इस्तेमाल किया जाएगा
  • चट्टान पर जैसे उभार थे, मानवनिर्मित स्ट्रक्चर में वैसे ही उभार रखे जाएंगे

वालेटा. माल्टा के समुद्र में चट्टान की प्राकृतिक प्रतिकृति कटाव और तेज हवा के चलते 2017 में टूट गई। गोजो द्वीप में अब इस स्ट्रक्चर को स्टील से बनाने की तैयारी चल रही है। इस प्रतिकृति को एज्योर विंडो रॉक कहा जाता था। नए स्ट्रक्चर को रूसी आर्किटेक्ट स्वेतोजार एंद्रीव ने तैयार भी कर लिया है। 

1) विंडो रॉक की जगह अब हार्ट ऑफ माल्टा

एंद्रीव रूसी आर्किटेक्चरल फर्म होतेई रूस के प्रमुख हैं। उनके डिजाइन को हार्ट ऑफ माल्टा नाम दिया गया है। नए स्ट्रक्चर में सामने की तरफ मिरर स्टील का इस्तेमाल किया गया है।

एंद्रीव के मुताबिक- यह वास्तुकला का एक बेहतरीन नमूना साबित होगा। इसे आधुनिकता और प्रकृति का मेल भी कहा जा सकता है। इसे समय, इतिहास और मानव आत्मा के तप के वसीयतनामे के तौर पर देख सकते हैं।

 

बकौल एंद्रीव नया स्ट्रक्चर मानव निर्मित जरूर है लेकिन यह हूबहू प्राकृतिक प्रतिकृति की तरह बनाया गया है। इसके इंटीरियर में पांच मंजिलें होंगी। हर मंजिल पर माल्टा के इतिहास से जुड़ी चीजें शामिल होंगी। मंजिलों पर घुमावदार सीढ़ियों से जाया जा सकेगा।

 

एंद्रीव के प्रस्तावित डिजाइन को माल्टा ने स्वीकार कर लिया है। इसे वेबसाइट पर डालकर ऑनलाइन पोलिंग के जरिए लोगों की राय ली जा रही है। अभी तक 68% लोगों ने हार्ट ऑफ माल्टा को बनाए जाने के लिए हामी भरी है। एंद्रीव के मुताबिक- लोगों का रिस्पॉन्स से प्रोजेक्ट की असल अहमियत का पता चलता है। 

 

एंद्रीव की डिजाइन सभी को पसंद आई हो, ऐसा नहीं है। मीडिया ग्रुप टाइम्स ऑफ माल्टा और सांद्रो स्पीतेरी ने लिखा कि हार्ट ऑफ माल्टा में लालच के साथ एक अश्लीलता दिखाई देती है जो हास्यास्पद है। 

इससे पहले सरकार ने प्रतिकृति वाली जगह पर एक होटल बनाए जाने के प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया था। साथ ही कहा था कि एज्योर विंडो की याद में बनाए जाने वाले स्ट्रक्चर के सुझावों का रास्ता हमेशा खुला रहेगा।

उधर, एंद्रीव और उनकी टीम की कोशिश है कि स्टील के स्ट्रक्चर से पहाड़ी और समुद्र को कोई नुकसान न हो। उनके मुताबिक- मैं माल्टा से बहुत प्यार करता हूं। मुझे पता है कि वहां की प्राकृतिक चीजों की क्या अहमियत है।