बांग्लादेश में फेरी में आग से 36 की मौत:नाव में 1000 यात्री थे; कुछ आग और धुएं से मारे गए, कुछ पानी में कूदे

एक वर्ष पहले

बांग्लादेश के झालाकाठी जिले में शुक्रवार सुबह एक फेरी में आग लग गई। इससे फेरी में सवार 36 लोगों की मौत हो गई है और 200 लोग घायल हो गए हैं। झालाकाठी जिले के एडिशनल डिप्टी कमिश्नर मोहम्मद नजमुल आलम ने बताया कि फेरी में करीब 1,000 लोग सवार थे और फेरी सुगंधा नदी में ढाका से बरगुना जिले की तरफ जा रही थी।

बढ़ सकती है मरने वालों की संख्या
हादसा शुक्रवार सुबह बांग्लादेश की राजधानी ढाका से 250 किमी दूर झालाकाठी गांव के पास हुआ। स्थानीय पुलिस चीफ मोईनुल इस्लाम ने बताया कि बीच नदी में तीन मंजिला फेरी ओभिजान में आग लग गई। हमने अब तक 36 लाश निकाली हैं, मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है।

उन्होंने कहा कि कई लोग आग से मरे और कुछ लोगों की जान नदी में कूदकर डूबने से गई। आशंका है कि आग इंजन रूम से शुरू हुई और फिर पूरी फेरी में फैल गई। आग से जख्मी 200 लोगों को हमने अस्पतालों में भर्ती कराया है।

आग बुझने के बाद फेरी कबाड़ जैसी हो गई। इसमें करीब 1000 लोग सवार थे।
आग बुझने के बाद फेरी कबाड़ जैसी हो गई। इसमें करीब 1000 लोग सवार थे।

कुछ लोग ठंडे पानी में तैरकर किनारे तक पहुंचे
हादसे में सुरक्षित रहे एक यात्री सईदुर रहमान ने बताया कि सुबह करीब 3 बजे इंजन रूम में आग लग गई और तेजी से फैली। बच्चों और बुजुर्गों को मिलाकर बड़ी संख्या में यात्री फेरी में सवार थे। कई लोग पानी में कूद गए और किनारे तक पहुंचने में सफल रहे। मुझे आग लगने की दुर्गंध आई तो मैं अपने VIP केबिन से बाहर निकला और आग लगी देखकर अपनी बीवी और साले के साथ ठंडे पानी में कूद पड़ा। हम लोग तैरकर किनारे तक पहुंचे।

हादसे के बाद राहत और बचाव कार्य को अंजाम देता सुरक्षाबल।
हादसे के बाद राहत और बचाव कार्य को अंजाम देता सुरक्षाबल।

बांग्लादेश में कुछ समय से ऐसे हादसे हो रहे हैं।

  • जुलाई में ढाका के बाहर एक इंडस्ट्रियल टाउन रूपगंज में फूड एंड बेवरेज फैक्ट्री में आग लगने से 52 लोगों की मौत हुई थी।
  • फरवरी 2019 में ढाका में एक अपार्टमेंट में अवैध तरीके से केमिकल स्टोर किए गए थे, जहां आग लगने से 70 लोगों की जान गई।
  • अगस्त में पूर्वी बांग्लादेश में एक झील में यात्रियों से भरी नाव रेत से भरे कार्गो जहाज से टकरा गई थी, जिसमें 21 लोगों की मौत हुई।
  • अप्रैल और मई में दो अलग-अलग हादसों में 54 लोगों की मौत हुई।
  • पिछले साल जून में ढाका में एक फेरी ने सामने चल रही दूसरी फेरी को टक्कर मार दी, जिसमें 32 लोगों की मौत हुई।
  • फरवरी 2015 में क्षमता से ज्यादा भरे जहाज के एक कार्गो शिप से टकराने से 78 लोगों की मौत हुई।
खबरें और भी हैं...