• Hindi News
  • International
  • Britain Unlocked After 97 Days, But Second Wave Of Corona Has Night Curfew In Most States In India

खत्म होने लगा सबसे लंबा लॉकडाउन:ब्रिटेन 97 दिन बाद अनलॉक, लेकिन भारत के ज्यादातर राज्यों में नाइट कर्फ्यू और लॉकडाउन जैसे हालात

लंदन/नई दिल्ली6 महीने पहले
  • ब्रिटेन में रोजाना नए मरीज 4 हजार से नीचे आ गए हैं, 48% आबादी को कोवीशील्ड वैक्सीन लगाई गई

ब्रिटेन 97 दिन बाद फिर से गुलजार होने लगा है। दुनिया का सबसे लंबा और सख्त लॉकडाउन सोमवार से अनलॉक होना शुरू हो गया। बेकाबू होते कोरोना के कारण यहां 5 जनवरी से लॉकडाउन शुरू हुआ था। हालांकि, दिसंबर से ही ब्रिटेन में कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए गए थे। अब फिर से महीनों बाद सैकड़ों जिम, हेयरसैलून और रिटेल स्टोर खुल गए हैं।

पूर्व निर्धारित योजना के मुताबिक, 21 जून से पूरी तरह से लॉकडाउन हटा लिया जाएगा। विशेषज्ञों के मुताबिक, 4 जनवरी को जब ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने नए प्रतिबंधों की घोषणा की तो हर चीज स्पष्ट थी। मतलब कौन सा सेक्टर कब तक बंद रहेगा और कब खुलेगा। इस वजह से लोगों में अफरा-तफरी नहीं मची।

एक तरफ लॉकडाउन और दूसरी तरफ तेज वैक्सिनेशन चला कर ब्रिटेन ने कोरोना की रफ्तार नियंत्रित कर ली। वहीं, यूरोप धीमे टीकाकरण और लॉकडाउन में देरी की वजह से कोरोना की तीसरी लहर झेल रहा है। जनवरी में ब्रिटेन में रोजाना 55 हजार से ज्यादा नए केस मिल रहे थे। अब नए मरीजों का आंकड़ा 4 हजार से नीचे आ गया है। वहीं, ब्रिटेन अपनी 48% से ज्यादा आबादी को कोविशील्ड वैक्सीन लगा चुका है।

दुनिया के टॉप 5 संक्रमित देशों में अब तक क्या-क्या हुआ?

1. अमेरिका
स्टेटस: कभी भी टोटल लॉकडाउन नहीं लगा
पहला केस: 23 जनवरी 2020
कुल कोरोना संक्रमित: 3.20 करोड़+, कुल मौतें: 5.77 लाख+

अब तक क्या हुआ?
पूरे देश में कभी भी टोटल लॉकडाउन नहीं लगा। स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए थे। राज्यों को अपने हिसाब से प्रतिबंध लगाने को कहा गया था। अब लगभग सारे प्रतिबंध भी हटा लिए गए हैं। लोगों को मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखने को बोला गया है। यहां कोरोना का पहला पीक पिछले साल 24 जुलाई को आया था। तब एक दिन के अंदर सबसे ज्यादा 80 हजार मामले सामने आए थे। दूसरा पीक इसी साल 8 जनवरी को आया। तब एक दिन में 3.09 लाख लोग संक्रमित मिले थे।

2. भारत
स्टेटस: कुछ शहरों में नाइट कर्फ्यू और कुछ में टोटल लॉकडाउन
पहला केस: 30 जनवरी 2020
कुल कोरोना संक्रमित: 1.38 करोड़+, कुल मौतें 1.72 लाख

अब तक क्या हुआ?
पूरे देश में पिछले साल 23 मार्च से 30 जून तक टोटल लॉकडाउन रहा। इसके बाद धीरे-धीरे इसमें छूट दी गई। इस बीच देशभर में कोरोना के काफी ज्यादा मामले बढ़े। 11 सितंबर को कोरोना का पहला पीक था। तब एक दिन के अंदर सबसे ज्यादा 97 हजार मरीज मिले थे। 17 सितंबर को देश में 10.17 लाख एक्टिव केस थे। इसके बाद इसमें गिरावट शुरू हो गई थी।

इस साल मार्च से इसमें फिर से बढ़ोतरी शुरू हुई। पिछले 3 दिनों से 1.60 लाख से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं। अब राज्य सरकारें अपने हिसाब से कुछ शहरों में टोटल लॉकडाउन तो कुछ में नाइट कर्फ्यू लगा रही हैं।

3. ब्राजील
स्टेटस: कोई प्रतिबंध नहीं
पहला केस: 26 फरवरी 2020
कुल कोरोना संक्रमित: 1.36 करोड़ +, कुल मौतें: 3.58 लाख +

अब तक क्या हुआ?
देश में कभी भी टोटल लॉकडाउन नहीं लगाया गया। कुछ राज्यों और कुछ शहरों में समय-समय पर कई तरह की पाबंदियां लगाई गईं। स्कूल-कॉलेज लंबे समय तक बंद रहे। अब एक बार फिर से सब कुछ सामान्य होने लगा है। हालांकि, कोरोना के मामले अभी भी यहां तेजी से बढ़ रहे हैं।

19 जून को यहां कोरोना का पहला पीक था। तब एक दिन में 55 हजार से ज्यादा मामले सामने आए। इसके बाद इसमें गिरावट शुरू हुई। हालांकि, अगले ही महीने 29 जुलाई को फिर 79 हजार मामले सामने आए। ये दूसरा पीक था। तीसरा पीक 9 जनवरी को आया, जब एक दिन में 89 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित पाए गए। 25 मार्च को चौथा पीक था, जब एक दिन में 97 हजार लोग संक्रमित मिले। अब देश में किसी तरह का प्रतिबंध नहीं है।

4. फ्रांस
स्टेटस: कई शहरों में लॉकडाउन
पहला केस: 24 जनवरी 2020
कुल कोरोना संक्रमित: 51 लाख+, कुल मौतें: 99 हजार
अब तक क्या हुआ?

कई यूरोपीय देशों ने कोरोना संक्रमण की नई लहर से निपटने के लिए दोबारा प्रतिबंध लागू किए हैं। फ्रांस में पेरिस समेत करीब 16 शहरों के 2.1 करोड़ लोग करीब एक महीने से लॉकडाउन का सामना कर रहे हैं। यहां संक्रमण की तीसरी लहर चल रही है। प्रधानमंत्री जीन कास्टेक्स ने कहा है कि देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने का यह (लॉकडाउन) एक मात्र संभव रास्ता है।

राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने बुधवार को देशव्यापी लॉकडाउन लगाने का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि स्कूलों को तीन सप्ताह के लिए बंद कर दिया जाए, ताकि कोविड-19 संक्रमण की तीसरी लहर को पीछे धकेलने में मदद मिले, नहीं तो तीसरी लहर अस्पतालों पर भी भारी पड़ सकता है। इमैनुएल मैक्रों ने कहा कि 'अगर अभी हमने ठोस कदम नहीं उठाया तो हम कोरोना पर नियंत्रण खो देंगे।'

5. रूस
स्टेटस: कुछ शहरों में अलग-अलग तरह के प्रतिबंध
पहला केस: 31 जनवरी 2020
कुल कोरोना संक्रमित: 46.57 लाख+, कुल मौतें: 1.03 लाख+
अब तक क्या हुआ?

पिछले साल कोरोना के आने के बाद कई अन्य देशों की तरह यहां भी लॉकडाउन लगाया गया। बाद में इसमें धीरे-धीरे सहूलियत दी गई। अब देश के कुछ शहरों में अलग-अलग तरह के प्रतिबंध हैं। यहां वैक्सीनेशन काफी तेजी से हुआ। इसका असर है कि अब कोरोना के मामलों में काफी गिरावट आई है।

इधर, देश में ज्यादातर राज्यों में नाइट कर्फ्यू, स्कूल-कॉलेज बंद

पंजाब

  • पूरे राज्य में नाइट कर्फ्यू।
  • राजनीतिक-धार्मिक आयोजनों पर प्रतिबंध।
  • स्कूल-काॅलेज बंद।

हरियाणा

  • 8वीं तक के स्कूल 30 अप्रैल तक बंद।
  • शादियों में 500 लोग शामिल हो सकते हैं।

राजस्थान

  • 10 शहरों में रात 9 से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू।
  • स्कूल-कॉलेज बंद।

गुजरात

  • 20 शहरों में रात 8 से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू।
  • शादी में 100 लोगों को ही अनुमति।

महाराष्ट्र

  • 30 अप्रैल तक लॉकडाउन जैसी पाबंदियां, सिर्फ जरूरी सेवाएं खुलेंगी।

गोवा

  • पब्लिक मूवमेंट पर कोई पाबंदी नहीं।
  • स्कूल बंद, धारा-144 लागू।
  • आयोजनों पर पाबंदी।

केरल

  • विदेशों से आने वालों को सात दिन का क्वारैंटाइन।
  • स्पेशल मजिस्ट्रेट की तैनाती।

तमिलनाडु

  • धार्मिक आयोजनों पर प्रतिबंध।
  • रेस्तरां और क्लब में 50% लोगों को अनुमति।

हिमाचल

  • स्कूल-कॉलेज 30 अप्रैल तक बंद।
  • कार्यक्रमों में 50 लोगों को ही अनुमति।

दिल्ली

  • अप्रैल के अंत तक नाइट कर्फ्यू।
  • इनडोर शादियों में 100 लोगों को ही अनुमति।

बिहार

  • स्कूल-कॉलेज 30 अप्रैल तक बंद।
  • पब्लिक इवेंट शादी में 200 लोगों को अनुमति।

झारखंड

  • रांची में किसी भी धार्मिक आयोजन की अनुमति नहीं।
  • 7वीं तक के स्कूल बंद।

उत्तर प्रदेश

राजधानी लखनऊ समेत कई जिलों में नाइट कर्फ्यू, सख्ती बढ़ाने पर विचार।

ओडिशा

  • 12वीं तक के सभी स्कूल अगले आदेश तक बंद।

तेलंगाना

  • स्कूल, कॉलेज और सभी विश्वविद्यालय अगले आदेश तक बंद।

कर्नाटक

  • बेंगलुरु समेत 7 शहरों में रात 10 से सुबह 5 बजे तक का नाइट कर्फ्यू।

मध्यप्रदेश

  • भोपाल, छिंदवाड़ा, कटनी, बैतूल और खरगौन समेत कई शहरों में 19 अप्रैल तक कोरोना कर्फ्यू।
  • स्कूल 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे।
  • इकॉनोमिक एक्टिविटी चालू रहेंगी।
  • दूसरे राज्यों में आवाजाही जारी रहेगी।

जम्मू-कश्मीर

  • 18 अप्रैल तक स्कूल बंद।
  • इंडोर स्पोर्ट्स एक्टिविटी पर पाबंदी।

चंडीगढ़

  • रात 10 से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू।
  • 10 अप्रैल तक स्कूल-कॉलेज बंद।

छत्तीसगढ़

  • रायपुर में 19 अप्रैल तक पूर्ण लॉकडाउन।
  • शहरी क्षेत्रों में नाइट कर्फ्यू।
  • वाहनों में 50% सवारियां ही बैठा सकेंगे।

उत्तराखंड

  • 12 राज्यों से पहुंचने वालों के लिए कोरोना रिपोर्ट ले जाना अनिवार्य।