• Hindi News
  • International
  • British Regulatory Disclosure; Online Bets Increased By 12% In Britain In The Corona Epidemic, Betting Of 55 Thousand Crores

ब्रिटिश नियामक का खुलासा:काेरोना महामारी में ऑनलाइन दांव लगाने वाले ब्रिटेन में 12% बढ़े, 55 हजार करोड़ रुपए का सट्‌टा

लंदन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देश के सवा करोड़ लोग ऑनलाइन सट्टेबाजी में लिप्त। - Dainik Bhaskar
देश के सवा करोड़ लोग ऑनलाइन सट्टेबाजी में लिप्त।

कोरोना महामारी के चलते लोग घरों पर रहने को मजबूर हुए। इस कारण स्मार्टफोन समेत अन्य गैजेट पर बिताए जाने वाले वक्त में इजाफा हुआ। हालांकि इससे ब्रिटेन में ऑनलाइन बेटिंग की लत बढ़ गई। ब्रिटिश नियामक के मुताबिक महामारी आने के बाद ऑनलाइन दांव लगाने वालों की संख्या 12% बढ़ गई। कोरोना के पहले 1.08 करोड़ लोग ऑनलाइन सट्‌टेबाजी करते थे। कोरोना के बाद ऐसे लोगों की संख्या 13 लाख बढ़कर 1.21 करोड़ हो गई।

विशेषज्ञों का कहना है कि इसमें दांव लगाने वाले नुकसान में हैं। वहीं, ऑनलाइन बेटिंग खिलाने वाले ऑपरेटर्स मालामाल हो रहे हैं। उनका मुनाफा 75% तक बढ़ गया। सट्‌टेबाजी की लत लगाने में लॉकडाउन के बाद सबसे बड़ा योगदान स्मार्टफोन का रहा। इससे सट्‌टेबाजी आसान हो गई। रिपोर्ट के मुताबिक बीते साल ऑनलाइन गैंबलर्स में से 50% ने दाव लगाने के लिए स्मार्टफोन का सहारा लिया। यह संख्या 2016 के मुकाबले 29% ज्यादा है।

इसी दौरान लैपटॉप, कंप्यूटर के जरिए बेटिंग में गिरावट आई। रिपोर्ट के मुताबिक ऑनलाइन बेटिंग का दायरा बढ़ता जा रहा है। 2018-19 के मुकाबले बेटिंग का बाजार 8.1% बढ़कर 55 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। फरवरी में आयोग ने ऑनलाइन बेटिंग को सुरक्षित बनाने के लिए बदलावों का ऐलान किया था। इसमें हार-जीत की सीमा तय की गई थी। ऑपरेटर्स से कहा गया था कि यूजर्स के हितों को ध्यान रखें।

ऑनलाइन सट्‌टेबाजी पर रोक लगाने की उठ रही मांग

ऑनलाइन सट्‌टेबाजी के खिलाफ अभियान चलाने वाले क्लीन अप गैंबलिंग के निदेशक मैट जर्ब-कुसिन ने मांग की कि सरकार ऑनलाइन बेटिंग पर रोक लगाए। उन्होंने कहा, ‘लॉकडाउन में गैंबलिंग की बाढ़ आ गई।’ दाव लगाने वालों में से 60% को जुए की लत लग गई है। सरकार को चाहिए कि वह ऑनलाइन बेटिंग की समीक्षा करे। गैंबलिंग आयोग देश में बेटिंग इंडस्ट्रीज पर सख्ती करे। सिर्फ उन ऑपरेटर्स को इजाजत दे, जिनके पास लाइसेंस हों।

खबरें और भी हैं...