सुप्रीम कोर्ट ने बंद किया 9 साल पुराना केस:इटली के दो नौसैनिकाें के खिलाफ भारतीय मछुआरों की हत्या का मामला बंद

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
काेर्ट ने मामले की कार्यवाही को रद्द करने का आदेश दिया, कहा- भारत ने अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता न्यायाधिकरण के निर्णय को भारत ने स्वीकार किया है। - Dainik Bhaskar
काेर्ट ने मामले की कार्यवाही को रद्द करने का आदेश दिया, कहा- भारत ने अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता न्यायाधिकरण के निर्णय को भारत ने स्वीकार किया है।

केरल तट पर 2012 में दो भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी इटली के दाे नौसैनिकों के खिलाफ आपराधिक मामला बंद कर दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस इंदिरा बनर्जी और एमआर शाह की बेंच ने मंगलवार काे यह फैसला किया। इस बाबत पिछले दिनाें केंद्र ने बताया था कि पीड़ितों के परिवारों के लिए 10 करोड़ रुपए का मुआवजा सुप्रीम काेर्ट रजिस्ट्री में जमा कर दिया गया है। इसके साथ ही मामले काे बंद करने पर सहमति जताई थी। इसी आधार पर कोर्ट ने यह फैसला दिया।

काेर्ट ने मामले की कार्यवाही को रद्द करने का आदेश दिया। कहा- भारत ने अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता न्यायाधिकरण के निर्णय को भारत ने स्वीकार किया है। इसके अनुसार, इटली मामले में आगे की जांच फिर शुरू करेगा। सुप्रीम काेर्ट ने मुआवजे को भी उचित और पर्याप्त करार दिया। कोर्ट ने केरल हाईकाेर्ट के चीफ जस्टिस काे मारे गए मछुआराें के परिजनाें के हितों की रक्षा और मुआवजे के उचित वितरण का आदेश देने दिया। इसके लिए वे एक जज को नामित करेंगे।

परिजन भी सहमत हुए
मारे गए मछुआरों के परिजन भी मुआवजे पर सहमत हैं। इसके तहत इटली सरकार द्वारा पहले भुगतान किए गए दो करोड़ रुपए के अलावा प्रत्येक को 4 करोड़ रु. अतिरिक्त मिलेंगे। नाव के घायल मालिक ने भी दो करोड़ का हर्जाना प्राप्त करने की सहमति दी है।

यह थी वारदात
भारत के विशेष आर्थिक क्षेत्र में 15 फरवरी 2012 को घटना हुई थी। तब तेल टैंकर में सवार इटली के दो नाैसैनिकाें ने दो भारतीय मछुआरों पर गाेली चलाई थी। ये मछुआरे मछली पकड़ने के जहाज से लक्षद्वीप द्वीप से लौट रहे थे। घटना के बाद भारतीय नाैसेना ने दाेनाें इतालवी नाैसैनिकाें- मैसिमिलियानाे लाताेर और सल्वाताेर गिराेन काे गिरफ्तार कर लिया था।

खबरें और भी हैं...