कोरोना टीकाकरण के लिए सख्त कदम:पाकिस्तान में वैक्सीन नहीं लगवाने वालों की सेलफोन सेवा बंद, वेतन भी रोका

इस्लामाबाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अधिकारियों ने कहा- ‘पाकिस्तान में पोलियो से लेकर कोरोना तक के टीकों का दुष्प्रचार होता रहा है। - Dainik Bhaskar
अधिकारियों ने कहा- ‘पाकिस्तान में पोलियो से लेकर कोरोना तक के टीकों का दुष्प्रचार होता रहा है।

पाकिस्तान में अधिकारी कोरोना टीकाकरण की धीमी गति से चिंतित हैं। वे टीकाकरण के लिए सख्त कदम उठा रहे हैं। इसके तहत अधिकारियों ने दो राज्यों में लोगों की सेलफोन सेवा बंद करा दी है। साथ ही कोरोना टीकाकरण न कराने वाले कुछ सरकारी कर्मचारियों का वेतन रोक दिया है।

अधिकारियों ने कहा- ‘पाकिस्तान में पोलियो से लेकर कोरोना तक के टीकों का दुष्प्रचार होता रहा है। लोग आमतौर पर बच्चों का पोलियो टीकाकरण नहीं कराना चाहते। उनका कहना है कि यह अमेरिकी साजिश का हिस्सा है। इससे बच्चों की नसबंदी हो जाएगी।

अब वे कोरोना के टीकों पर शक कर रहे हैं। उनके भ्रम दूर करने की जरूरत है।’ कराची के एक ट्रक ड्राइवर एहसान अहमद ने कहा, “मैंने सुना है कि कोरोना का टीका लगाने वाले लोग दो साल में मर जाएंगे। इसलिए हमारे परिवार में किसी ने यह टीका नहीं लगाया। हमारे परिवार में 25 सदस्य हैं।’

सरकार ने इस साल के आखिर तक करीब 6.5 करोड़ लोगों के कोरोना टीकाकरण का लक्ष्य रखा है। हाल ही में सरकार ने कोरोना टीके खरीदने के लिए 8,068 करोड़ रुपए खर्च करने की घोषणा की है। पाकिस्तान में अब तक सिर्फ 30 लाख लोगों को कोरोना टीका लगा है।

खबरें और भी हैं...