पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • International
  • Chancellor Angela Merkel Claims Russia Made Hacking To Gather Information About My Activities, I Have Solid Evidence

जर्मनी में जासूसी:चांसलर एंजेला मर्केल का दावा- रूस ने मेरी गतिविधियों की जानकारी जुटाने के लिए हैकिंग कराई, मेरे पास इसके ठोस सबूत

बर्लिनएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने बुधवार को संसद में रूस पर अपनी जासूसी कराने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि उनके अकाउंट हैक करने में शामिल संदिग्ध की पहचान कर ली गई है।(फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने बुधवार को संसद में रूस पर अपनी जासूसी कराने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि उनके अकाउंट हैक करने में शामिल संदिग्ध की पहचान कर ली गई है।(फाइल फोटो)
  • जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने बताया- मेरी जासूसी में रूसी सेना के शामिल होने के ठोस सबूत
  • साल 2015 में मर्केल की एक ईमेल और एक बुंडेस्टैग अकाउंट हैक करने की कोशिश की गई थी

जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा है कि रूस उनकी जासूसी करवा रहा है। उन्होंने बुधवार को संसद में कहा कि मैंने हर रोज रूस के साथ बेहतर रिश्ते बनाने की कोशिश की। दूसरी ओर रूस सेना ने मेरी जासूसी करने की कोशिश की। इसके ठोस सबूत सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि 2015 में उनके कुछ अकाउंट्स की हैकिंग की जांच करने वाले जांचकर्ताओं ने एक विशेष संदिग्ध की पहचान की है।

जर्मनी की खुफिया एजेंसी ने कई बार रूस की जर्मनी के नेताओं और संसदों की जासूसी करवाने की बात कही है। जर्मन मीडिया के मुताबिक, 2015 में मर्केल की एक ईमेल और एक बुंडेस्टैग अकाउंट हैक करने की कोशिश की गई थी।
तथ्यों से भरमाना रूस की रणनीति का हिस्सा: मर्केल
मर्केल ने कहा कि दुर्भाग्यवश मैं इस निष्कर्ष पर पहुंची हूं कि रूस की यह कोशिश नई नहीं है। साइबर मध्यमों का इस्तेमाल कर तथ्यों से भरमाना रूस की रणनीति का हिस्सा। जाहिर है कि इस तरह की गतिविधियां रूस और जर्मनी के बीच बेहतर संबंध कायम करने के लिए आसान नहीं है। इस तरह की जासूसी कराने की गतिविधियां असुविधाजनक होने से कहीं ज्यादा हैं।

रूसी सेना के खुफिया अफसर के खिलाफ वारंट जारी हुआ था

जर्मनी की न्यूज मैगजीन डेर स्पाइगेल ने सबसे पहले मर्केल के दो ईमेल अकाउंट हैक करने की कोशिश होने का दावा किया था। हालांकि जर्मनी सरकार ने  इस पर कोई जवाब नहीं दिया। अब तक यह भी पता नहीं चला है कि हैकर्स को इन अकाउंट से कुछ जानकारियां हासिल हुई या नहीं। इस साल 5 मई को जर्मनी ने इस मामले में संदिग्ध रूसी सेना के खुफिया अफसर दिमित्री बदिन के खिलाफ वारंट जारी किया था। बदिन पर साल 2016 में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में भी दखल देने का आरोप है।