शाेध / बार-बार डाइट बदलने से सेहत को नुकसान; उम्र घटने के साथ नकारात्मकता भी आ सकती है

शोधकर्ताओं ने इसके लिए फ्रूट फ्लाइज या ड्रोसोफिलिया मेलानोगास्टर किस्म की मक्खियों पर प्रयोग कर दावा किया है। शोधकर्ताओं ने इसके लिए फ्रूट फ्लाइज या ड्रोसोफिलिया मेलानोगास्टर किस्म की मक्खियों पर प्रयोग कर दावा किया है।
X
शोधकर्ताओं ने इसके लिए फ्रूट फ्लाइज या ड्रोसोफिलिया मेलानोगास्टर किस्म की मक्खियों पर प्रयोग कर दावा किया है।शोधकर्ताओं ने इसके लिए फ्रूट फ्लाइज या ड्रोसोफिलिया मेलानोगास्टर किस्म की मक्खियों पर प्रयोग कर दावा किया है।

  • ब्रिटेन की शेफील्ड यूनिवर्सिटी और साइंस एडवांसेज ने रिसर्च रिपोर्ट जारी की
  • कम खाना उपलब्ध होने की स्थिति में जीवित रहने की क्षमता पर भी असर संभव

दैनिक भास्कर

Feb 25, 2020, 10:58 AM IST

लंदन . अगर आप सेहत फिटनेस के लिए बार-बार खान-पान या डाइट में बदलाव करते हैं, तो इससे फायदा नहीं, बल्कि नुकसान हो सकता है। आपकी सेहत सुधरने के बजाय और खराब हो सकती है। उम्र भी कम हो सकती है। यह खुलासा ब्रिटेन की शेफील्ड यूनिवर्सिटी के साइंटिस्ट की ताजा रिसर्च में हुआ है। इसके मुताबिक अगर आप बिना रोक-टोक के हर तरह का खाना खाते हैं और अचानक सेहत सुधारने के नाम पर हेल्दी खाने को अपना लेते हैं, तो यह नुकसान करता है।

शोधकर्ताओं ने इसके लिए फ्रूट फ्लाइज या ड्रोसोफिलिया मेलानोगास्टर किस्म की मक्खियों पर प्रयोग किए। इन मक्खियों को पहले ऐसा खाना खिलाया जो रोज के खाने से अलग था। इसके बाद वापस उसी खाने पर निर्भर बनाया। इससे उन्हें नुकसान होना शुरू हो गया। रिच डाइट या नियमित डाइट वाली मक्खियों की तुलना में इन मक्खियों के मरने की संभावना बढ़ गई। कई मक्खियों की मौत हुई, और अंडे भी कम दिए। रिच डाइट के लिए मक्खियां तैयार नहीं थीं। 

रिसर्च का परिणाम प्रचलित सिद्धांत के उलट है
रिसर्च में शामिल वैज्ञानिक डॉ. मिरे सिमंत कहते हैं, यह हमारी उम्मीदों और विकास के प्रचलित सिद्धांत के उलट है। विशेष या कुल पोषक तत्वों के सेवन में कमी मनुष्यों और जानवरों में जीवित रहने की क्षमता को जन्म देती है। उनमें यह क्षमता है कि वे भोजन की कम उपलब्धता की स्थिति में जीवित रहने और शरीर में ऊर्जा बनाए रखने में सक्षम होते हैं, जब तक कि पर्याप्त पौष्टिक भोजन न मिले। लेकिन खान-पान में लगातार बदलाव की आदत इस क्षमता और यहां तक कि जीवनकाल को कम कर देती है। शोधकर्ता एंड्र्यू मैकक्रेकन कहते हैं, सबसे आश्चर्यजनक यह रहा कि प्रतिबंधित आहार किसी विशेष नुकसान का मूल कारण भी हो सकता है। इससे फार्मा सेक्टर में रिसर्च के नए दरवाजे खोल सकते हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना