देश-दुनिया में कोरोना का खतरा:बीजिंग की 92% आबादी जनवरी के आखिर तक संक्रमित होगी, कई बार आएगा पीक

10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चीन में लूनर न्यू ईयर मनाने के लिए दुनियाभर से लोगों की आवाजाही शुरू हो गई है। - Dainik Bhaskar
चीन में लूनर न्यू ईयर मनाने के लिए दुनियाभर से लोगों की आवाजाही शुरू हो गई है।

दुनिया के कई हिस्सों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इनमें चीन, जापान, रूस, साउथ कोरिया, फ्रांस और अमेरिका जैसे देश शामिल हैं। हांग कांग यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च के मुताबिक, चीन की राजधानी बीजिंग की 92% आबादी जनवरी के आखिर तक कोरोना से संक्रमित हो जाएगी। यहां की जनसंख्या 2 करोड़ 20 लाख है।

इधर, भारत में बुधवार को 88 नए मामले सामने आए। वहीं एक मरीज की मौत हो गई। हेल्थ मिनिस्ट्री के आंकड़ों के मुताबिक, देश में अभी 1,934 एक्टिव केस हैं। कोरोना के शुरुआती दौर से अब तक देश में 5 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

पहले जानिए भारत में क्या है कोरोना की स्थिति…

अब जानिए दुनिया में कोरोना की स्थिति…

चीन: शहरों में कई बार कोरोना पीक आएगा
हांग कांग यूनिवर्सिटी की ताजा रिसर्च में कहा गया है कि बीजिंग समेत चीन के कई बड़े शहरों में कई बार कोरोना का पीक आ सकता है। यह लूनर न्यू ईयर के दौरान बड़ी संख्या में हो रही आवाजाही के कारण हो रहा है। वहीं चीन की हेल्थ एजेंसी के अनुसार, 27 दिसंबर तक बीजिंग की 80% आबादी कोरोना संक्रमित हो गई थी।

जापान: कोरोना से मौत के रिकॉर्ड टूटे
जापान में कोरोना का कहर जारी है। हेल्थ मिनिस्ट्री के अनुसार, यहां 12 दिन में 5 हजार मरीजों की मौत हुई है। इस महीने कोरोना से अब तक 8 हजार 103 मरीजों की जान गई। यह एक माह में होने वाली मौतों का नया रिकॉर्ड है। मरने वालों में 97% लोग ऐसे हैं, जिनकी उम्र 60 साल से ज्यादा है।

अमेरिका: चीन से आने वालों पर प्रतिबंध लगाना जरूरी
लूनर न्यू ईयर के चलते दुनियाभर से चीनियों की आवाजाही जारी है। ऐसे में एक्सपर्ट्स का मानना है कि अमेरिका में कोरोना के नए खतरे से बचने के लिए चीन से आने वाले यात्रियों पर प्रतिबंध लगाने चाहिए। द वॉशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट में सलाह दी गई है कि चीन से अमेरिका आने वालों को तीन दिन पहले की नेगेटिव कोरोना टेस्ट रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य कर देना चाहिए।

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच चीन में लूनर न्यू ईयर मनाया जा रहा है। इससे दूसरे देशों पर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है।
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच चीन में लूनर न्यू ईयर मनाया जा रहा है। इससे दूसरे देशों पर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है।

दुनिया में 67 करोड़ से ज्यादा मामले
कोरोना worldometer के मुताबिक, दुनिया में अब तक 67 करोड़ 36 लाख 29 हजार 982 मामले सामने आ चुके हैं। 11 जनवरी 2020 को चीन के वुहान में 61 साल के बुजुर्ग की मौत हुई थी। ये दुनिया में कोरोना से होने वाली पहली मौत थी। इसके बाद मौत का सिलसिला बढ़ने लगा। अब तक 67 लाख 48 हजार 650 मौतें हो चुकी हैं।

इन देशों ने चीन के यात्रियों पर लगाया प्रतिबंध
चीन से आने वाले यात्रियों पर स्वीडन, जर्मनी, मलेशिया, कतर, बेल्जियम, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, मोरक्को, फ्रांस, ब्रिटेन, स्पेन, अमेरिका, जापान, इजराइल, भारत, इटली और साउथ कोरिया ने प्रतिबंध लगाए हैं। यहां चीन से आने वाले यात्रियों को नेगेटिव कोरोना रिपोर्ट दिखानी होगी। मोरक्को ने तो चीन के यात्रियों को बैन ही कर दिया है। ताइवान ने भी चीन से आने वालों के लिए कोविड टेस्टिंग कंपलसरी की है। पाकिस्तान और फिलीपींस भी मॉनिटरिंग कर रहे हैं। थाईलैंड और न्यूजीलैंड ने कोई भी प्रतिबंध लगाने से मना कर दिया है।

कोरोना से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें...

चीन ने क्यों छिपाया कोरोना के 174 केस का डेटा: WHO और US सीनेट को शक…वुहान लैब से तो लीक नहीं हुआ कोरोना

क्या चीन में कोरोना बाकी दुनिया से अलग है? क्यों हर बार कोरोना का नाम आते ही चीन का नाम अपने आप सामने आ जाता है? क्या चीन पूरी दुनिया से कुछ छिपा रहा है? अमेरिकी सीनेट कमेटी की रिपोर्ट कहती है…हां। पूरी खबर पढ़ें...

क्या कोरोना में चीन की सख्ती सिर्फ दिखावा थी; 5 दावों की पड़ताल ताकि आज उसकी बदहाली की वजह मिले

चीन में संक्रमण के हालात 2020 की याद दिला रहे हैं। तब से अब तक शी जिनपिंग सरकार ने इससे निपटने के लिए सख्त नियम लागू किए। जीरो कोविड पॉलिसी लाई गई। बेहद सख्त लॉकडाउन लगते रहे। तमाम दावों और वादों के बावजूद कोरोना कंट्रोल नहीं किया जा सका। पूरी खबर पढ़ें...

खबरें और भी हैं...