ड्रैगन का आरोप:चीन ने कहा- क्लाइमेट समिट में भाषण के लिए जिनपिंग को वीडियो लिंक नहीं भेजा गया, इसलिए बयान जारी करना पड़ा

बीजिंग7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिनपिंग पिछले साल जनवरी के बाद से चीन के बाहर नहीं निकले हैं। (फाइल) - Dainik Bhaskar
जिनपिंग पिछले साल जनवरी के बाद से चीन के बाहर नहीं निकले हैं। (फाइल)

स्कॉटलैंड के ग्लास्गो में COP26 क्लाइमेट समिट खत्म हो गई है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इसमें शामिल नहीं हुए। उन्हें वर्चुअली शिरकत करनी थी, लेकिन ऐन वक्त पर ये भी नहीं हो पाया। अब चीन ने आरोप लगाया है कि जिनपिंग का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से भाषण इसलिए नहीं हो सका, क्योंकि COP26 के ऑर्गनाइजर्स ने स्पीच के लिए वीडियो लिंक ही नहीं भेजा। बाद में लिखित बयान जारी किया गया। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन इस मीटिंग में वर्चुअली शामिल हुए थे।

लिखित बयान जारी करना पड़ा
COP26 समिट शुरू होने के पहले चीन के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी किया था। इसमें कहा गया था कि राष्ट्रपति जिनपिंग इस समिट के लिए ग्लास्गो नहीं जाएंगे। इसके बजाए वे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए समिट में संबोधन करेंगे। बहरहाल, ये भी नहीं हो सका और चीन के विदेश मंत्रालय ने राष्ट्रपति का लिखित बयान जारी किया। अब ये आरोप लगाया जा रहा है कि जिनपिंग के लिए वो वीडियो लिंक ही मुहैया नहीं कराया गया, जिसके जरिए उन्हें भाषण देना था। यही वजह है कि जिनपिंग को लिखित बयान जारी करना पड़ा।

क्या कहा गया बयान में
जिनपिंग के लिखित बयान में कहा गया- चीन चाहता है कि क्लाइमेट चेंज और ग्लोबल वॉर्मिंग से निपटने के लिए मजबूत और निर्णायक कदम उठाए जाएं। इसके लिए सभी देशों को मिलकर रणनीति बनानी होगी और ग्रीन एनर्जी पर फोकस करना होगा।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा- लिखित बयान इसलिए जारी करना पड़ा, क्योंकि हमारे पास वीडियो लिंक नहीं थी। वैसे कुछ खबरों में ये भी कहा जा रहा है कि जिनपिंग के बारे में चीन शायद सही जानकारी नहीं दे रहा है। सं‌भवत: वे बीमार हैं। पिछले साल जनवरी से अब तक वे देश से बाहर नहीं गए।

बचना चाहता है चीन
कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि चीन के राष्ट्रपति जानबूझकर इस मीटिंग में शामिल नहीं हुए, क्योंकि चीन पर कार्बन उत्सर्जन कम करने के लिए दुनिया का सबसे ज्यादा दबाव है। वैसे, रुस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन भी समिट में नहीं आए। उन्होंने वर्चुअली इस समिट को एड्रेस किया।