कोरोना के बाद चीन में नई मुसीबत:इंसान में बर्ड फ्लू वायरस का पहला केस सामने आया, इसके तेजी से फैलने के आसार कम

बीजिंगएक वर्ष पहले
NHC ने अपनी वेबसाइट पर जारी एक बयान में कहा कि H10N3 स्ट्रेन से 41 साल का एक व्यक्ति संक्रमित हुआ है। - फाइल फोटो

सबसे पहले कोरोना का सामना करने वाले चीन के सामने एक नई मुसीबत आ खड़ी हुई है। यहां के पूर्वी प्रांत जिआंगसू में बर्ड फ्लू स्ट्रेन से इंसानों के संक्रमित होने का मामला सामने आया है। इसकी पुष्टी चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन ने की है। इंसान का बर्ड फ्लू वायरस से संक्रमित होने का यह पहला केस है।

NHC ने अपनी वेबसाइट पर जारी एक बयान में कहा कि H10N3 बर्ड फ्लू स्ट्रेन से 41 साल का एक व्यक्ति संक्रमित हुआ है। मुर्गी पालन करने से व्यक्ति इस वायरस की चपेट में आया। हालांकि, इस वायरस के फैलने की गुंजाइश काफी कम है।

एक्सपर्ट्स ने फिलहाल पक्षियों से दूरी बनाने को कहा है। - फाइल फोटो
एक्सपर्ट्स ने फिलहाल पक्षियों से दूरी बनाने को कहा है। - फाइल फोटो

संक्रमित से मिलने वाले लोग भी निगरानी में रखे गए
चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने बताया कि पिछले हफ्ते मरीज के ब्लड सैंपल लिए गए थे। इसके बाद इनका जीनोम सीक्वेंस किया। इसमें पाया कि ये HI0N3 बर्ड फ्लू स्ट्रेन है। साथ ही संक्रमित व्यक्ति से मिलने वालों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग भी की जा रही है। सभी लोगों को निगरानी में रखा गया है।

एक्सपर्ट्स बोले- बीमार या मरे हुए पक्षियों से दूरी रखे
इस तरह का पहला मामला सामने आने के बाद एक्सपर्ट्स ने सलाह दी है कि इलाके के लोग बीमार या मरे हुए मुर्गे और पक्षियों के संपर्क में आने से बचें। साथ ही खाने का विशेष ध्यान रखने को कहा गया है।

पूर्वी चीन के अनहुई प्रांत के बोझोउ शहर के दयांग टाउनशिप में एक पोल्ट्री फार्म में एक स्वास्थ्य कर्मी कीटनाशक दवाई का छिड़काव करता। - फाइल फोटो
पूर्वी चीन के अनहुई प्रांत के बोझोउ शहर के दयांग टाउनशिप में एक पोल्ट्री फार्म में एक स्वास्थ्य कर्मी कीटनाशक दवाई का छिड़काव करता। - फाइल फोटो

फरवरी में मिला था H5N8 एवियन इन्फ्लूएंजा
चीन में एवियन इंफ्लूएंजा के कई स्ट्रेन मौजूद हैं। इससे पहले फरवरी में चीन ने लियानयुंगंग शहर में H5N8 एवियन इन्फ्लूएंजा फैलने की सूचना दी थी। तब बताया था कि ये वायरस बर्ड फ्लू वायरस का सबटाइप है। ये केवल मनुष्य के लिए खतरनाक होता है। इसके अलावा अप्रैल के समय जंगली पक्षियों में H5N6 एवियन फ्लू पाया गया था।

खबरें और भी हैं...