--Advertisement--

चीन / चेहरा देखे बगैर शरीर के आकार, चाल से व्यक्ति को पहचान लेगा सॉफ्टवेयर



Chinese gait recognition tech IDs people by how they look and walk
X
Chinese gait recognition tech IDs people by how they look and walk

  • लोगों पर नजर रखने के लिए चीन की वैट्रिक्स कंपनी ने बनाया सर्विलांस सिस्टम
  • बीजिंग और शंघाई की गलियों में पुलिस पहले से ही इस्तेमाल कर रही यह सॉफ्टवेयर

Dainik Bhaskar

Nov 07, 2018, 08:25 AM IST

बीजिंग. चीन में आम लोगों पर नजर रखने के लिए नई तकनीक ईजाद की गई है। यहां आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) की मदद से ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है, जो किसी भी व्यक्ति का चेहरा देखे बगैर शरीर के आकार और चलने के अंदाज से ही पहचान सकता है। इसे ‘गेट रिकगनीशन’ नाम दिया गया है। यह किसी व्यक्ति को भीड़ के बीच भी पहचान सकता है।

 

फिलहाल इस तकनीक को बीजिंग और शंघाई की पुलिस ने इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। हालांकि, लोगों को डर है कि इसे आम लोगों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। सॉफ्टवेयर को बनाने वाली कंपनी वेट्रिक्स के सीईओ हुआंग योनझेन के मुताबिक, इसके जरिए 50 मीटर (165 फीट) दूर तक खड़े व्यक्ति को आसानी से पहचाना जा सकता है। योनझेन ने बताया कि नया सॉफ्टवेयर पुलिस की कई जरूरतें पूरी कर सकता है, क्योंकि यह अपराधियों की पहचान करने वाली फेशियल रिकगनीशन तकनीक में छूटी कमी को पूरा करता है।

 

सॉफ्टवेयर के लिए लोगों के सहयोग की जरूरत भी नहीं
हुआंग ने बताया कि इस सॉफ्टवेयर में पहचान का डेटाबेस बनाने के लिए लोगों के सहयोग की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। यह सॉफ्टवेयर इतना बेहतर है कि अगर कोई अपनी चाल बदल ले तब भी वह संबंधित व्यक्ति को पहचान लेगा।

 

मुस्लिम बहुल शिनजियांग प्रांत ने दिखाई सॉफ्टवेयर में दिलचस्पी
चीन के पश्चिमी शिनजियांग प्रांत के सुरक्षा अधिकारियों ने इस सॉफ्टवेयर में खास दिलचस्पी दिखाई है। शिनजियांग में पहले ही मुस्लिमों पर कड़ी नजर रखी जाती है। ऐसे में नए सॉफ्टवेयर के जरिए प्रांत में लोगों पर नियंत्रण की कोशिश तेज हो जाएंगी। 


कैसे काम करता है गेट रिकगनीशन? 
वेट्रिक्स की गेट रिकगनीशन तकनीक वीडियो से लोगों का फोटो निकाल लेती है। इसके बदलते आकार का विश्लेषण करने के बाद सॉफ्टवेयर व्यक्ति के चलने का एक मॉडल तैयार करता है। इसके जरिए रियल-टाइम में किसी की पहचान नहीं की जा सकती। लेकिन प्रोग्राम में वीडियो को डालने के कुछ ही देर बाद सॉफ्टवेयर व्यक्ति की पहचान बता सकता है। खास बात यह है कि इस तकनीक के लिए किसी स्पेशल कैमरे की भी जरूरत नहीं होती। सीसीटीवी के फुटेज से भी एक्शन देखकर प्रोग्राम व्यक्ति की पहचान कर सकता है। गेट की एक खासियत यह है कि इससे किसी की गतिविधियां देखकर उनकी बॉडी लैंग्वेज भी समझी जा सकती है। परेशानी की स्थिति में चलने वालों और बीमार लोगों की मदद में यह सॉफ्टवेयर काफी काम आ सकता है। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..