पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • International
  • Chinese Security Law Completes One Year In Hong Kong; Thousands Of Troubled People Want To Leave Hong Kong And Settle In Britain

चीनी सुरक्षा कानून का हाॅन्गकॉन्ग में एक साल पूरा:हजारों परेशान लोग हॉन्गकॉन्ग छोड़ ब्रिटेन में बसना चाह रहे हैं

हॉन्गकॉन्ग2 महीने पहलेलेखक: इसाबेला क्वाई/ एलेक्जेंड्रा स्टीवेंसन
  • कॉपी लिंक
चीन की संसद में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून 30 जून 2020 को पास हुआ था। (फाइल) - Dainik Bhaskar
चीन की संसद में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून 30 जून 2020 को पास हुआ था। (फाइल)

हॉन्गकॉन्ग में चीन का नया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू हुए एक साल से ज्यादा हो गया। अब हजारों लोग हॉन्गकॉन्ग छोड़ देना चाहते हैं। उन्होंने दूसरी जगह बसने की योजना बनाई है। इनमें से ज्यादातर लोग ब्रिटेन में जाकर बसना चाहते हैं। उनका कहना है कि वे ब्रिटेन में शरणार्थी ही रहेंगे। लेकिन शायद वहां रहते हुए शरणार्थी की तरह महसूस नहीं करेंगे। लिन क्वांग हॉन्गकॉन्ग में अच्छा जीवन जी रही थीं। वे एक कॉलेज में अंशकालिक शिक्षिका के तौर पर खेल प्रबंधन पढ़ाती थीं।

वे हांगकांग में एक शौकिया ड्रामा क्लब की अध्यक्ष भी थीं। लिन अपने बेटे और परिवार के सदस्यों के साथ हॉन्गकॉन्गमें खुश थीं। लेकिन फरवरी में हॉन्गकॉन्ग के हालात बिगड़ने के बाद उन्होंने अपना घर छोड़ने का फैसला किया। वे लंदन आ गईं। लिन कहती हैं, ‘ऐसी जगह रहना मुश्किल है, जहां आजादी नहीं है। इतनी जल्द हांगकांग इसलिए छोड़ा, ताकि बेटे पर बुरा असर न पड़े। बेटे को यह न पता चले कि जो बात वह घर में खुलकर बोल सकता है, वह बाहर नहीं बोल सकता।

मैं अपने बेटे को दासता के वातावारण में नहीं पालना चाहती।’ अब लिन लंदन में नौकरी और बेटे के लिए स्कूल की तलाश कर रही हैं। हॉन्गकॉन्ग छोड़ने वाले अन्य लोगों ने भी कहा कि वे चीन के बजाय ब्रिटेन में अपना घर बनाना पसंद करेंगे। ये लोग ब्रिटेन में कार्यक्रमों का आयोजनों कर एक-दूसरे से जुड़ रहे हैं। आपस में मदद कर रहे हैं। वे यह चर्चा कर रहे हैं कि कैसे ब्रिटिश समाज में अपने लिए जगह बना सकेंगे।

चीन में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून 30 जून 2020 को पास हुआ था। यह कानून प्रमुख रूप से हांगकांग को लेकर लागू किया गया था। इस साल की पहली तिमाही में हांगकांग के 34,300 लोगों ने ब्रिटेन सरकार को विशेष वीसा के लिए आवेदन दिया है। ब्रिटेन के प्रवासी विभाग ने यह जानकारी दी है।

खबरें और भी हैं...