जर्मनी / क्रिसमस के दौरान जिस पेड़ को सजाते हैं, उसी को फेंकने के लिए होती है कॉम्पीटिशन



Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
X
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany
Christmas tree throwing competition in Germany

  • चैम्पियनशिप में तीन इवेंट होते हैं, इनमें लोगों को अपने पेड़ को सबसे दूर फेंकना होता है
  • प्रतियोगिता के बाद लोग अपने क्रिसमस ट्री को जलाकर पार्टी करते हैं

Dainik Bhaskar

Jan 09, 2019, 06:51 AM IST

फ्रैंकफर्ट.  दुनियाभर में क्रिसमस के दौरान लोग घरों में क्रिसमस ट्री सजाते हैं। आमतौर पर त्योहार के बाद पेड़ों को अगले साल तक संभाल कर रखा जाता है या दूसरे कामों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन जर्मनी के विडेंथल में हर साल क्रिसमस के 12 दिन बाद क्रिसमस ट्री को फेंकने की अनोखी कॉम्पीटिशन होती है। कॉम्पीटिशन ‘नट फेस्ट’ को क्रिसमस सीजन का पारंपरिक अंत माना जाता है।

10 सालों से चल रही कॉम्पीटिशन

  1. क्रिसमस ट्री फेंकने की यह कॉम्पीटिशन पिछले 10 साल से जारी है। इसमें तीन अलग इवेंट्स रखे गए हैं। पहले इवेंट में लोगों को पेड़ को किसी भाले की तरह दूर फेंकना होता है। इसमें जिसका क्रिसमस ट्री सबसे दूर गिरता है, उसकी एंट्री अगले राउंड में होती है।

  2. दूसरे राउंड में लोगों को पेड़ को हथौड़े की तरह घुमाकर फेंकना होता है। यह इवेंट काफी हद तक हैमर थ्रो जैसा होता है। इसके अलावा आखिरी इवेंट में प्रतियोगी को अपना पेड़ हाई-जंप इवेंट की तरह ऊंचाई पर लगे एक पोल (डंडे) के पार कराना होता है। 

  3. तीनों इवेंट में सबसे ज्यादा दूरी तक पेड़ फेंकने वाले प्रतियोगी को विजेता घोषित किया जाता है। खास बात यह है कि पेड़ों के टूटने के बाद उन्हें जलाकर पार्टी की जाती है। इसके अलावा जीत के बाद आतिशबाजी भी की जाती है। हर साल देश के हजारों लोग इस कॉम्पीटिशन को देखने पहुंचते हैं। 

COMMENT