• Hindi News
  • International
  • Claim Crude Oil May Cross $ 100, There Will Be An Outcry In Europe If The Supply Of Natural Gas Is Stopped

रूस-यूक्रेन युद्ध के साइड इफेक्ट​​​​​​​:दावा- ​​​​​​​100 डॉलर के पार जा सकता है कच्चा तेल, नेचुरल गैस की सप्लाई रुकी तो यूरोप में मचेगा हाहाकार

मॉस्के/कीव6 महीने पहले

रूस और यूक्रेन दोनों युद्ध के मुहाने पर पहुंच चुके हैं। हालात ऐसे हैं कि कभी भी सीधी लड़ाई शुरू हो सकती है। लगातार बढ़ते तनाव की वजह से दुनिया भर के क्रूड ऑइल मार्केट में भी उथल-पुथल जारी है। रूस एक दिन में एक करोड़ बैरल तेल का उत्पादन करता है, जो वैश्विक मांग का लगभग 10% है। इसके साथ ही वो यूरोप में नेचुरल गैस का सबसे बड़ा सप्लायर है। अगर यह सप्लाई लाइन बिगड़ती है तो ईंधन की कीमतें आसमान छूने लगेंगी।

मांग के मुकाबले सप्लाई नहीं होने की वजह से क्रूड ऑयल की कीमत 90 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गई है, जो कि 2014 के बाद सबसे ज्यादा है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक जल्द ही ये 100 डॉलर प्रति बैरल का आंकड़ा भी पार कर जाएगी। सोमवार को ऑयल मार्केट में करीब 2 फीसदी की तेजी आई। वहीं, यूरोपीय नेचुरल गैस की कीमतों में भी लगभग 6 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

यूरोप की 33% नेचुरल गैस रूस से आती है

रूस यूरोप का सबसे बड़ा नेचुरल गैस सप्लायर है। अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन धमकी दे चुके हैं कि अगर रूस ने यूक्रेन पर हमला किया तो उसकी यूरोप के साथ गैस पाइप लाइन परियोजना नॉर्ड स्ट्रीम 2 को शुरू होने नहीं दिया जाएगा।
रूस यूरोप का सबसे बड़ा नेचुरल गैस सप्लायर है। अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन धमकी दे चुके हैं कि अगर रूस ने यूक्रेन पर हमला किया तो उसकी यूरोप के साथ गैस पाइप लाइन परियोजना नॉर्ड स्ट्रीम 2 को शुरू होने नहीं दिया जाएगा।

युद्ध का सबसे बड़ा खतरा नेचुरल गैस की सप्लाई चेन के डैमेज को लेकर है। रूस यूक्रेनियन पाइपलाइन के जरिए यूरोप को कुल नेचुरल गैस का लगभग 33% सप्लाई करता है। अगर यह सप्लाई चेन प्रभावित होती है तो बिजली उत्पादन में कटौती करनी पड़ सकती है साथ ही कारखानों को भी बंद करना पड़ सकता है। इसके साथ ही दुनिया भर के शेयर मार्केट्स में और ज्यादा गिरावट आएगी।

अमेरिकी कंपनियां भी बढ़ा रही हैं ऑयल प्रोडक्शन

कोरोना की वजह से दुनिया भर में लोग पर्सनल व्हीकल के इस्तेमाल पर जोर रहे हैं। इसे देखते हुए अमेरिकी ऑयल कंपनियां प्रोडक्शन बढ़ा रही हैं।
कोरोना की वजह से दुनिया भर में लोग पर्सनल व्हीकल के इस्तेमाल पर जोर रहे हैं। इसे देखते हुए अमेरिकी ऑयल कंपनियां प्रोडक्शन बढ़ा रही हैं।

कंसल्टिंग फर्म रिस्टैड एनर्जी के निशांत भूषण का कहना है कि, सिर्फ युद्ध का संभावित खतरा ही कीमतों में तेजी ला सकता है। बहुत से लोग कोरोना वजह से पब्लिक ट्रांसपोर्ट छोड़कर प्राइवेट व्हीकल का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं। इस वजह से मांग और ज्यादा हो गई है। इसे देखते हुए अमेरिकी ऑयल कंपनियां धीरे-धीरे प्रोडक्शन बढ़ा रही हैं।

बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन ईरान के साथ न्यूक्लियर डील को फिर से ट्रैक पर लाने की कोशिश कर रहा है। इस डील के अधर में लटके होने की वजह से ईरान को अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ रहा है। अगर यह डील हो जाती है तो ईरान हर दिन 10 लाख बैरल तेल का उत्पादन कर सकेगा।

कीमत 100 से 120 डॉलर प्रति बैरल पहुंच सकती है

रूस दुनिया की मांग का 10% तेल उत्पादन करता है। अगर रूस यूक्रेन में युद्ध शुरू होता है तो कच्चे तेल की कीमतें 100 डॉलर से 120 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच जाएंगी।
रूस दुनिया की मांग का 10% तेल उत्पादन करता है। अगर रूस यूक्रेन में युद्ध शुरू होता है तो कच्चे तेल की कीमतें 100 डॉलर से 120 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच जाएंगी।

टेक्सास की ऑयल कंपनी पायनियर नेचुरल रिसोर्सेज के स्कॉट शेफील्ड ने कहा- अगर पुतिन हमला करते हैं, तो कच्चे तेल की कीमतें 100 डॉलर से 120 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकती हैं, लेकिन अगर बाइडेन ईरान पर से प्रतिबंध हटाते हैं, तो इनमें 10 डॉलर की गिरावट होगी। फिलहाल मार्केट में जितनी मांग है उतनी आपूर्ति नहीं है, इस वजह से यह तो तय है कि कीमतें 100 डॉलर के पार जाएंगी।

अमेरिका में महंगाई दर रिकॉर्ड 7.5% के स्तर पर
अमेरिका में फिलहाल महंगाई दर रिकॉर्ड 7.5% के स्तर पर है। इससे निपटने के लिए फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरें बढ़ाई हैं, इसका असर दुनिया भर के शेयर मार्केट पर पड़ रहा है। भारत में भी सोमवार को सेंसेक्स में 1,747 और निफ्टी में 532 अंकों की गिरावट हुई। बाजार में ताजा गिरावट के तीन प्रमुख कारण हैं- महंगा क्रूड ऑयल, दरें बढ़ाने को लेकर अमेरिकी फेड रिजर्व की बैठक और रूस-यूक्रेन युद्ध की आशंका।

रूस के साथ तत्काल बैठक करना चाहते हैं

युद्ध टालने के लिए रूस और यूक्रेन की तरफ से डिप्लोमैटिक कोशिशें भी जारी हैं। यूक्रेन ने रूस के साथ 48 घंटे के अंदर बैठक करने की इच्छा जताई है।
युद्ध टालने के लिए रूस और यूक्रेन की तरफ से डिप्लोमैटिक कोशिशें भी जारी हैं। यूक्रेन ने रूस के साथ 48 घंटे के अंदर बैठक करने की इच्छा जताई है।

सीमा पर हमले की आशंका के बीच यूक्रेन ने रूस के साथ 48 घंटे के अंदर बैठक करने की इच्छा जताई है। यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने कहा, हमने अनुरोध किया था कि रूस बताए कि उसने सीमा पर सेना और युद्ध तैयारियां तेज क्यों कर दी हैं। इस अनुरोध को रूस ने अनदेखा कर दिया। उधर, रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने पुतिन को सुझाव दिया है कि भले ही अमेरिका ने रूस की सुरक्षा मांगों को खारिज कर दिया है, फिर भी हमें अमेरिका और उसके सहयोगियों के साथ बातचीत जारी रखनी चाहिए।