• Hindi News
  • International
  • Corona Death Graph | Coronavirus Death Graph Of In India Latest Vs COVID 19 Deat Rate Wordwide Including Pakistan China USA Spain

कोरोना की भयावहता:पहली मौत 9 जनवरी को हुई थी, 70 दिनों में आंकड़ा 10 हजार पहुंचा; पिछले 22 दिनों में 90 हजार लोग मारे गए

नई दिल्ली2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना से 75% मौतें इटली, अमेरिका, स्पेन, फ्रांस और ब्रिटेन में हुईं, कुल मामलों का 60% हिस्सा भी इन्हीं पांच देशों का
  • इटली और स्पेन में हर दिन हो रही मौतों की संख्या में ठहराव आया; अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस में रोजाना करीब हजार लोग मर रहे
  • भारत में पिछले 6 दिनों में मामले दोगुने हो गए, हर दिन 500 से ज्यादा नए मामले आ रहे; 6 दिनों में मौतों की संख्या भी तीन गुना हो गई

चीन के वुहान शहर में 9 जनवरी की शाम को 61 साल के बुजुर्ग की कोरोनावायरस से मौत हुई थी। चीन के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, यह कोरोनावायरस से हुई पहली मौत थी। ठीक 92 दिन बाद दुनियाभर में इस वायरस से मौत का आंकड़ा एक लाख पार कर गया। 19 मार्च को कोरोना संक्रमितों की मौतों का आंकड़ा 10 हजार पहुंचा था, लेकिन अगले 22 दिनों में कुल 90 हजार लोग मारे गए। 1 लाख मौतों के अलावा दुनियाभर में 12 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं, जो या तो इंटेसिंव केयर, हॉस्पिटल या होम क्वारैंटाइन हैं। 3.75 लाख मरीज इस महामारी से ठीक भी हो चुके हैं। 

एक रिपोर्ट में चीनी दस्तावेजों के मुताबिक, कोरोना का पहला मामला 17 नवंबर को आया 
साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट की एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि चीन सरकार के डॉक्यूमेंट्स के मुताबिक, हुबेई प्रांत के 55 साल के एक बुजुर्ग कोरोना के सबसे पहले संक्रमित हो सकते हैं। दस्तावेजों के मुताबिक, वे 17 नवंबर को 2019 को कोरोनावायरस के संपर्क में आए थे (डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, चीन में कोरोना का पहला मामला 8 दिसंबर को पाया गया)। इसी रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि इसी दिन के बाद से हर दिन 1 से 5 मामले सामने आए। 20 दिसंबर तक ऐसे कुल 60 मामले थे, जिनके लक्षण कुछ निमोनिया की बुखार जैसे थे लेकिन असल में इस बीमारी का कारण समझ नहीं आ रहा था। हालांकि, चीन सरकार के घोषित आंकड़ों में इस समय तक कोरोना केस से जुड़े मामलों की संख्या दहाई तक भी नहीं बताई जा रही थी। 

20 जनवरी तक 4 देशों में कोरोना के कुल 282 मामले थे, 80 दिनों में यह 17 लाख हो गए
31 दिसंबर को चीन ने डब्ल्यूएचओ को इस अजीबोगरीब बीमारी के बारे में जानकारी दी थी। 7 जनवरी को चीन ने कोरोनावायरस की पहचान भी कर ली। चीन के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, 11 जनवरी तक कोरोना संक्रमितों की संख्या 41 थी। इसके बाद चीन के बाहर पहली बार 13 जनवरी को थाईलैंड में इस वायरस से संक्रमण का पहला मामला सामने आया और फिर 15 जनवरी को जापान इस वायरस की पहुंच वाला तीसरा देश बना। 20 जनवरी तक यह वायरस 4 देशों में पहुंच चुका था। इस दिन तक चीन में 278, थाईलैंड में 2 और जापान व दक्षिण कोरिया में 1-1 केस थे। 20 जनवरी के बाद इस वायरस ने ऐसी रफ्तार पकड़ी कि 80 दिनों में यह दुनियाभर के 210 देशों में पहुंच गया और इससे 17 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो गए।

75% मौतें पांच देशों में हुईं 
चीन के वुहान से शुरू हुई इस महामारी से अब तक 150 से ज्यादा देशों में मौतें हो चुकी हैं। करीब 50 देशों में इससे मरने वालों की संख्या इकाई के अंकों में हैं और करीब इतने ही देशों में मौतों का आंकड़ा दहाई के अंकों में हैं। कुल 10 देश ऐसे हैं, जहां 2 हजार से लेकर 19 हजार तक मौतें हो चुकी हैं। इन्हीं 10 देशों में 90 हजार मौतें हुई हैं यानी कुल मौतों का 90% इन्हीं देशों में हुआ। वहीं 75% मौतें सिर्फ 5 देशों में हुई हैं। इन पांच देशों में चीन शामिल नहीं है। मौतों के लिहाज से चीन का नम्बर सातवां हैं।

इन पांच के अलावा ईरान में अब तक 4 हजार, चीन और बेल्जियम में 3-3 हजार और जर्मनी और नीदरलैंड्स में ढाई-ढाई हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं।

कुल मामलों का 90% हिस्सा 10 देशों में

जिन पांच देशों में कोरोनावायरस से सबसे ज्यादा मौतें हुईं, उन्हीं देशो में दुनियाभर के कुल कोरोना संक्रमितों का 60% (10 लाख+ ) हिस्सा है। अगर इनमें 2 हजार से ज्यादा मौतों वाले 5 अन्य देश भी जोड़ लिए जाएं तो इन 10 देशों में कुल कोरोना संक्रमितों का 90% (13.5 लाख+) हिस्सा हो जाता है।

जर्मनी में 1.20 लाख, चीन में 81 हजार, ईरान में 68 हजार और बेल्जियम, स्विटजरलैंड में 25-25 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमित पाए गए।

4 हफ्ते पहले अमेरिका और फ्रांस में रोजाना 8 से 10 कोरोना संक्रमितों की मौत हो रही थी, अब इन देशों में हर दिन हजार से ज्यादा लोग मर रहे

इटली में हर दिन हो रही मौतों में कुछ कमी आई है, स्पेन में भी रोजाना मौतों के इस आंकड़े में ठहराव आया है, लेकिन अमेरिका में चार हफ्ते पहले की तुलना में मौतों की संख्या 200 गुना बढ़ गई है। ब्रिटेन और फ्रांस में भी हर दिन मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इन दोनों देशों में रोजाना 800 से 1400 लोग मारे जा रहे हैं।

ब्रिटेन, फ्रांस और स्पेन में हर दिन इटली के बराबर नए मामले आ रहे, अमेरिका में यह आंकड़ा इन देशों से 8 गुना ज्यादा
इटली और स्पेन में मार्च के तीसरे-चौथे सप्ताह में हर दिन कोरोना संक्रमण के 6 से 7 हजार मामले सामने आ रहे थे, लेकिन अब यहां नए मामलों में कमी आई है। ब्रिटेन और फ्रांस में नए मामले लगातार बढ़ रहे हैं। सबसे ज्यादा बढ़ोतरी अमेरिका में हो रही है। यहां इन चारों देशों की तुलना में हर दिन 8 गुना ज्यादा मामले आ रहे हैं।

भारत में हर दिन 500 से 800 नए मामले सामने आ रहे, रोजाना 10 से ज्यादा लोग मर रहे
भारत में 30 जनवरी को केरल में कोरोना संक्रमण का पहला केस सामने आया था। वहीं, पहली मौत 11 मार्च को कर्नाटक में हुई थी। अब तक यहां कोरोना संक्रमण के 7,600 मामले सामने आ चुके हैं, 261 लोगों की मौत भी हो चुकी है। अन्य देशों की तुलना में भारत में कोरोना संक्रमण फैलने की दर धीमी है। हालांकि इसका एक कारण कम टेस्टिंग होना भी बताया जा रहा है। फिलहाल, भारत सबसे ज्यादा कोरोना मामलों की लिस्ट में 22वें नम्बर पर है। वहीं, मौतों की संख्या में वह 24वें स्थान पर है।