• Hindi News
  • International
  • Coronavirus Outbreak World Cases Update |south Africa Israel Germany Cheq Republic Botswana Hong Kong Belzium COVID Cases Today

तेजी से फैल रहा कोरोना का ओमिक्रॉन वैरिएंट:4 दिन में ब्रिटेन और इटली समेत 9 देशों तक पहुंचा, दक्षिण एशियाई देशों को सावधानी बरतने के निर्देश

लंदन/ जिनेवा2 महीने पहले

ओमिक्रॉन (B.1.1.529) वैरिएंट पिछले 4 दिनों में 9 देशों तक पहुंच गया है। इनमें दक्षिण अफ्रीका, इजराइल, हॉन्गकॉन्ग, बोत्सवाना, बेल्जियम, जर्मनी, चेक रिपब्लिक, ब्रिटेन और इटली शामिल हैं।

दक्षिण अफ्रीका ने 24 नवंबर को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने (WHO) को पहले केस की जानकारी दी थी। WHO ने नए वैरिएंट को लेकर दक्षिण एशियाई देशों को विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं।

इससे पहले शनिवार को वायरस का यह नया और सबसे खतरनाक वैरिएंट जर्मनी, ब्रिटेन और इटली तक पहुंच गया। जर्मनी के सामाजिक मामलों के मंत्री काई क्लोस ने सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी दी है। क्लोस ने बताया कि कई दिनों पहले ही जर्मनी में इस नए वैरिएंट की एंट्री हो चुकी है।

उन्होंने बताया कि दक्षिण अफ्रीका से लौटने वाले दो यात्रियों के टेस्ट रिपोर्ट में ओमिक्रॉन के म्यूटेंट पाए गए हैं। इस यात्री को क्वारैंटाइन कर दिया गया है। उधर, ब्रिटेन के हेल्थ सेक्रेटरी ने ओमिक्रॉन के दो मामलों की पुष्टि की। वहीं इटली की हेल्थ मिनिस्ट्री ने मोजाम्बिक से लौटने वाले एक यात्री में नए मामले की पहचान की है।

कहां कितने केस सामने आए..

  • दक्षिण अफ्रीका में 21 नवंबर को इसका पहला मामला सामने आया। इसके बाद अब तक इस वैरिएंट से 77 लोग इंफेक्ट हो गए हैं।
  • बोत्सवाना में भी 4 लोग इस वैरिएंट से इंफेक्टेड मिले हैं। चिंता वाली बात ये है कि बोत्सवाना में पूरी तरह वैक्सीनेटेड लोग भी इसकी चपेट में आ गए हैं।
  • इसके बाद हॉन्ग कॉन्ग में भी इस नए वैरिएंट के 2 केस मिले हैं। फिलहाल दोनों मरीजों को आइसोलेशन में रखा गया है और निगरानी की जा रही है।
  • इजराइल में भी इस वैरिएंट से इन्फेक्टेड एक केस की पुष्टि हुई है। इंफेक्टेड व्यक्ति दक्षिण अफ्रीका के मलावी से लौटा है।
  • बेल्जियम में एक और जर्मनी में इसके दो केस सामने आ चुके हैं। यहां ट्रेसिंग बढ़ा दी गई है और विदेश से आने वालों पर सख्ती बरती जा रही है।
  • इसके साथ ही चेक रिपब्लिक में भी एक केस सामने आने की जानकारी है। ब्रिटेन के हेल्थ सेक्रेटरी ने शनिवार को दो केस की पुष्टि की है।
  • इटली की हेल्थ मिनिस्ट्री ने मोजाम्बिक से लौटने वाले एक यात्री में नए वैरिएंट की पहचान की है। उसे क्वारैंटाइन किया गया है।

जर्मनी ने दक्षिण अफ्रीका आने-जाने पर बैन लगाया
जर्मनी ने भी साउथ अफ्रीका आने-जाने वाले नागरिकों के ट्रैवल पर बैन लगाने का फैसला किया है। जर्मनी के हेल्थ मिनिस्टर जेंस स्पॉन ने शुक्रवार को कहा- नए नियम शुक्रवार रात से लागू होंगे, अफ्रीका के आस-पास के देशों पर भी ट्रैवल बैन लगाया जा सकता है। वैक्सीन लगे होने के बावजूद जर्मनी के नागरिकों को देश पहुंचने पर 14 दिनों तक क्वारैंटाइन में रहना होगा।

नीदरलैंड की बढ़ी चिंता
दक्षिण अफ्रीका से शुक्रवार को दो फ्लाइट्स 61 यात्री नीदरलैंड पहुंचे। इन सबकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद नीदरलैंड की चिंता बढ़ गई है। स्वास्थ्य अधिकारियों को इस बात का डर है कि कहीं इन यात्रायों में भी ओमिक्रोन के लक्षण न मिलें।

ब्रिटेन ने दक्षिण अफ्रीका समेत 7 देशों पर बैन लगाए
ब्रिटेन ने दक्षिण अफ्रीका के अलावा 6 और देशों को रेड लिस्ट में शामिल किया है। यूके ने शुक्रवार से दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना, लेसोथो, इस्वातिनी, जिम्बाब्वे और नामीबिया से आने वाले यात्रियों पर यात्रा प्रतिबंध लागू किए हैं। हालांकि, ब्रिटेन में अब तक इस तरह का कोई मामला सामने नहीं आया है।

यूरोप ने भी दक्षिण अफ्रीका पर लगाए यात्रा प्रतिबंध
यूरोप में भी इस वैरिएंट को लेकर सख्ती बरती जा रही है। ऑस्ट्रिया, चेक गणराज्य, जर्मनी, इटली और नीदरलैंड ने शुक्रवार को दक्षिण अफ्रीका से उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया। कुछ यूरोपीय देशों ने बोत्सवाना, इस्वातिनी (स्वाजीलैंड), लेसोथो, नामीबिया, जाम्बिया और जिम्बाब्वे से उड़ानें भी सस्पेंड कर दी हैं।

फ्रांस, सिंगापुर और इजराइल ने भी प्रतिबंध लगाए
फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्री ओलिवियर वेरन ने कहा कि फ्रांस ने 48 घंटे के लिए दक्षिणी अफ्रीका से आने वाली सभी उड़ानों पर रोक लगा दी है। इजराइल, सिंगापुर, जर्मनी और इटली ने भी दक्षिण अफ्रीकी विमानों पर रोक लगा दी है।

बांग्लादेश ने लगाया ट्रैवल बैन, नेपाल में 7 दिन का क्वारैंटाइन जरूरी
बांग्लादेश ने भी दक्षिण अफ्रीका आने-जाने पर पाबंदी लगा दी है। बांग्लादेश के स्वास्थ्य मंत्री जाहिद मलिक ने बताया कि हमनें स्क्रीनिंग बढ़ा दी है। इसके साथ ही बंदरगाहों और एयरपोर्ट पर इसका सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है। वहीं नेपाल में भी दक्षिण अफ्रीका से आने वाले यात्रियों को 7 दिन क्वारैंटाइन में रखने का निर्देश जारी किया है। हेल्थ मिनिस्ट्री के प्रवक्ता कृष्ण प्रसाद पौडेल ने बताया कि नेपाल और दक्षिण अफ्रीका के बीच कोई सीधी उड़ान नहीं है, लेकिन जो यात्री अन्य अफ्रीकी देशों के जरिए यहां आएंगे उन्हें एक हफ्ते के क्वारैंटाइन से गुजरना होगा।