• Hindi News
  • International
  • Coronavirus USA Brazil China Russia Update; Reported Cases And Deaths By Worldwide Today Latest Data

कोरोना दुनिया में:ओमिक्रॉन वैरिएंट से लड़ने वाले टीके का प्रोडक्शन अमेरिकी कंपनी नोवावैक्स जनवरी से शुरू करेगी

6 महीने पहले

कोरोना वैक्सीन बनाने वाली अमेरिकी कंपनी नोवावैक्स अगले साल जनवरी में ओमिक्रॉन वैरिएंट से लड़ने के लिए टीके का कॉमर्शियल मैन्यूफैक्चरिंग शुरू कर सकती है। कंपनी ने कहा कि ओमिक्रॉन वैरिएंट के म्यूटेशन को देखते हुए कंपनी ने खास तौर पर इस वैक्सीन के निर्माण का फैसला किया है। अगले दो महीनों में इस पर काम शुरू कर दिया जाएगा। कंपनी की मौजूदा वैक्सीन वैरिएंट के खिलाफ कितनी कारगर है इस पर भी स्टडी की जा रही है। अगले कुछ हफ्तों में इसके डेटा सामने आ जाएंगे।

दुनिया में कोरोना से जुड़े अन्य अपडेट्स...

ब्रिटेन सरकार ने दिया कोरोना वैक्सीन की 11.4 करोड़ डोज का ऑर्डर
ओमिक्रॉन वैरिएंट के खतरे के बीच ब्रिटेन सरकार ने फाइजर-बायोएनटेक और मॉर्डना से 11.4 करोड़ वैक्सीन डोज खरीदने का ऐलान किया है। अगले दो साल में सरकार वैक्सीनेशन ड्राइव को बढ़ाने पर जोर दे रही है। सरकार ने मॉर्डना वैक्सीन के 6 करोड़ डोज और फाइजर-बायोएनटेक के 5.4 करोड़ शॉट ऑर्डर किए हैं। ब्रिटेन ने अगले दो महीने में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को तीसरी डोज देने का टार्गेट रखा है।

द. अफ्रीका में कोरोना की रफ्तार दोगुनी हुई
दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नए मामले एक दिन में दोगुने हो गए हैं। बुधवार शाम यहां के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिसीसेज ने बताया कि पिछले 24 घंटे में वहां 8,561 मामले दर्ज किए गए, जबकि उससे 24 घंटे पहले सिर्फ 4,373 मामले सामने आए थे। इसके बाद सरकार पर दबाव बढ़ गया है कि वह बिना वैक्सीन वाले लोगों पर प्रतिबंध लगाए, ताकि एक तय संख्या से ज्यादा अनवैक्सीनेटिड लोग एक जगह जमा न हो पाएं।

वहीं, दक्षिण अफ्रीकी साइंटिस्ट्स ने चेताया है कि अभी से यह मान लेना जल्दबाजी होगा कि ओमिक्रॉन हल्की बीमारी देगा। साइंटिस्ट्स ने कहा कि फिलहाल ओमिक्रॉन के असली प्रभाव की सही जानकारी देना मुश्किल है। अभी ज्यादातर युवा आबादी इससे संक्रमित हो रही है, जो वायरस से लड़ने में सक्षम हैं। ऐसे में यह बड़े लोगों, बच्चों और बीमार लोगों पर क्या असर डालेगा इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है

अफ्रीका से पहले लंदन में ओमिक्रॉन मिलने का दावा
दुनिया में कोरोना के नए वैरिएंट से हलचल मची हुई है। अफ्रीका में ओमिक्रॉन की पुष्टि के बाद इसे अफ्रीकी वायरस या बोत्सवाना वैरिएंट कहा जाने लगा था। लेकिन अब जानकारी सामने आ रही है कि दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टरों की तरफ से इस नए वैरिएंट की पहचान किए जाने से पहले ही लंदन में यह वायरस मौजूद था।

कार्डियोलॉजिस्ट एलाड माओर ने बताया- लंदन की कॉन्फ्रेंस में मिला ओमिक्रॉन संक्रमण
इजरायल के तेल अवीव में शेबा मेडिकल कॉलेज में कार्डियोलॉजिस्ट एलाड माओर का कहना है कि उन्हें लंदन से ओमिक्रॉन का संक्रमण मिला। उन्होंने द गार्डियन को बताया है कि 19 नवंबर को वे एक मेडिकल कॉन्फ्रेंस में भाग लेने के लिए लंदन गए था, जहां 1200 हेल्थ प्रोफेशल्स जुटे थे। 23 नवंबर को वे इस ईवेंट से लौटे और इसके कुछ दिन बाद उन्हें कोरोना के लक्षण महसूस होने लगे। 27 नवंबर को वे कोरोना पॉजिटिव टेस्ट किए गए। उनका दावा है कि यह संक्रमण उन्हें लंदन में ही मिला है।

UN प्रमुख ने कहा- ट्रैवल बैन से कोरोना नहीं रुकने वाला
संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंटोनियो गुटरेस ने दुनियाभर में लागू किए जा रहे ट्रैवल बैन को गलत और अप्रभावी बताया है। उन्होंने कहा है कि नया कोरोना वैरिएंट सामने आने पर कुछ देशों और क्षेत्रों को टार्गेट किया जा रहा है। यात्रियों के लिए टेस्टिंग की सुविधा बढ़ाने पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा वायरस जिसकी कोई सीमा नहीं है, उसे आप यात्रा प्रतिबंधों से नहीं रोक सकते। अफ्रीका में पिछले हफ्ते ओमिक्रॉन का वैरिएंट रिपोर्ट किया गया थाा, जिसके बाद एक दर्जन से ज्यादा देशों ने दक्षिण अफ्रीकी देशों पर ट्रैवल बैन लगा दिया है।

अमेरिका भी ओमिक्रॉन की चपेट में, कैलिफोर्निया में मिला पहला मामला
कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की चपेट में अमेरिका भी आ गया है। दुनिया भर में तेजी से फैल रहे इस वैरिएंट का अमेरिका में पहला मामला कैलिफोर्निया में सामने आया है, जिसकी पुष्टि बुधवार रात को US सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (USCDCP) ने कर दी।

USCDCP ने बताया कि जिस मरीज में ओमिक्रॉन वैरिएंट की पुष्टि हुई है, वह 22 नवंबर को साउथ अफ्रीका से लौटा है। कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके इस व्यक्ति ने महामारी से जुड़े बेहद हल्के लक्षण दिखने पर खुद को सेल्फ क्वारैंटाइन कर लिया था। बाद में उसका टेस्ट पॉजिटिव पाया गया। उसके संपर्क में आने वाले सभी व्यक्तियों के टेस्ट निगेटिव आए हैं।

ब्राजील के बाद नाइजीरिया में भी ओमिक्रॉन का पहला केस मिला
पश्चिमी अफ्रीकी देश नाइजीरिया में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट का पहला केस मिला है। नाइजीरियाई सरकार ने इंटरनेशनल ट्रावेल पर पाबंदियां सख्त कर दी हैं।

नाइजीरिया के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के प्रमुख इफेडायो अदेतिफा ने बताया कि देश में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग बढ़ा दी गई है। वहीं, कोरोना वैक्सीन-निर्माता बायोएनटेक के CEO उगुर साहिन ने कहा कि ओमिक्रॉन वैरिएंट से वैक्सीनेटेड लोग भी संक्रमित हो सकते हैं। हालांकि वो बहुत गंभीर तौर पर बीमार नहीं होंगे।

खबरें और भी हैं...