महामारी के खिलाफ वैक्सीन हथियार:अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा- QUAD की साझेदारी से भारत में अगले साल तक 100 करोड़ डोज बनाएंगे

वॉशिंगटन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कोरोना पर हुए ग्लोबल समिट में कहा है कि QUAD (अमेरिका, भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान) की साझेदारी से हम 2022 तक भारत में 100 करोड़ वैक्सीन डोज बनाने की राह पर हैं। इससे दुनियाभर में वैक्सीन सप्लाई की जाएगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि मौजूदा समय में कोरोना को हराने से ज्यादा अहम कुछ और नहीं है।

बाइडेन ने कहा कि हम पार्टनर देशों, फार्मा कंपनियों और दूसरे मैन्युफैक्चरर के साथ मिलकर सुरक्षित और प्रभावी वैक्सीन बनाने की क्षमताएं बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं, QUAD इसका उदाहरण है। साथ ही बताया कि दक्षिण अफ्रीका में वैक्सीन मैन्युफैक्चरिंग बढ़ाने में मदद करने के साथ-साथ आर्थिक सहायता भी दी जा रही है। वहीं अफ्रीका के लिए अगले साल तक जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के 50 करोड़ डोज तैयार करने का काम भी चल रहा है।

अमेरिका 50 करोड़ डोज और खरीदेगा
बाइडेन ने ऐलान किया कि दुनिया के गरीब और मिडिल इनकम वाले देशों को वैक्सीन दान करने के लिए अमेरिका फाइजर की वैक्सीन के 50 करोड़ डोज खरीद रहा है। इन्हें अगले साल तक अलग-अलग देशों में भेज दिया जाएगा। इस तरह हम 1.1 अरब वैक्सीन दान करने के अपने वादे को पूरा करेंगे। अमेरिका अभी तक 100 देशों को करीब 16 करोड़ वैक्सीन डोज दे चुका है।

मोदी ने कहा- कोरोना की विपदा अभी खत्म नहीं हुई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ग्लोबल कोविड समिट को संबोधित करते हुए कहा कि जब भारत कोरोना की दूसरी लहर में मुसीबत का सामना कर रहा था, उस समय दुनिया ने हमारी मदद की। कोरोना महामारी अचानक सामने आई विपदा है और अब तक खत्म नहीं हुई है। साथ ही कहा कि दुनिया को वैक्सीन सर्टिफिकेट को आसान बनाना चाहिए। इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि वैक्सीन के लिए कच्चे माल की आपूर्ति में रुकावट न हो। दुनिया के अधिकांश हिस्सों में अभी वैक्सीनेशन पूरा होना बाकी है। इसलिए अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन की वैक्सीन डोनेशन डबल करने की पहल सराहनीय है।

QUAD देशों ने बनाई है वैक्सीन सप्लाई चेन
हिंद-प्रशांत महासागर (इंडो-पैसिफिक) इलाके में कोरोना महामारी से निपटने के लिए QUAD देशों (भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया) ने इस साल मार्च में वैक्सीन सप्लाई चेन बनाने की पहल की थी। इसके तहत तय किया गया अमेरिका में वैक्सीन का फॉर्मूला डेवलप किया जाएगा, भारत में मैन्युफैक्चरिंग होगी, जापान-अमेरिका आर्थिक मदद देंगे और ऑस्ट्रेलिया वैक्सीन सप्लाई में लॉजिस्टिक सपोर्ट देगा। QUAD के इस करार को इंडो-पैसिफिक में चीन के दबदबे को चुनौती देने के तौर पर भी देखा जा रहा है।

खबरें और भी हैं...