UN में उठी यूक्रेन में शांति बहाल करने की मांग:मैक्सिको के विदेश मंत्री बोले- जंग रोकने कमेटी बनाई जाए; PM मोदी अहम भूमिका निभा सकते हैं

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के बाद अब मैक्सिको ने कहा है कि रूस-यूक्रेन जंग खत्म कराने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अहम भूमिका निभा सकते हैं। मैक्सिको के विदेश मंत्री मार्सेलो लुईस एब्रार्ड कासाउबोन ने UN में कहा कि रूस और यूक्रेन के बीच शांति बहाल करने के लिए एक कमेटी बनाई जानी चाहिए। इस कमेटी में नरेंद्र मोदी, वेटिकन के पोप फ्रांसिस और UN के महासचिव एंटोनियो गुटरेस को शामिल करना चाहिए।

कासौबोन ने कहा- मैं UN महासचिव एंटोनियो गुटरेस के प्रयासों को मजबूत करने के लिए मैक्सिको के राष्ट्रपति आंद्रेस मैनुएल लोपेज ओब्राडोर की ओर से एक प्रस्ताव रखता हूं कि यूक्रेन वार्ता एवं शांति समिति का गठन किया जाए। इस समिति का लक्ष्य वार्ता के लिए नया तंत्र बनाना, दोनों देशों के बीच भरोसा कायम करना और शांति का स्थायी मार्ग खोलना होना चाहिए।

SCO में मोदी ने पुतिन से जंग खत्म करने की बात कही थी

बैठक में पुतिन ने मोदी से कहा था- मैं यूक्रेन से जंग पर आपकी स्थिति और आपकी चिंताओं से वाकिफ हूं। हम चाहते हैं कि यह सब जल्द से जल्द खत्म हो। हम आपको वहां क्या हो रहा है, इसकी जानकारी देते रहेंगे।
बैठक में पुतिन ने मोदी से कहा था- मैं यूक्रेन से जंग पर आपकी स्थिति और आपकी चिंताओं से वाकिफ हूं। हम चाहते हैं कि यह सब जल्द से जल्द खत्म हो। हम आपको वहां क्या हो रहा है, इसकी जानकारी देते रहेंगे।

मोदी ने समरकंद में शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की बैठक में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन से मुलाकात की थी। दोनों के बीच करीब 50 मिनट बातचीत हुई। इस दौरान मोदी ने कहा था- आज का युग युद्ध का नहीं। आज भी दुनिया और खासकर विकासशील देशों के सामने फूड सिक्योरिटी, फ्यूल सिक्योरिटी और उर्वरक जैसी बड़ी समस्याएं हैं। हमें इनके लिए रास्ते निकालने होंगे। आपको भी इन्हें लेकर पहल करनी होगी। मोदी के इस बयान का अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस समेत कई देशों ने स्वागत किया था।

जेलेंस्की बोले- नुकसान की भरपाई करें पुतिन
यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को 22 सितंबर को संबोधित किया था। इस दौरान उन्होंने कहा था- यूक्रेन के लोग हमारे क्षेत्र पर कब्जा करने वालों के खिलाफ सजा की मांग कर रहे हैं। हजारों लोगों की हत्या करने वालों को सजा मिलनी चाहिए। जेलेंस्की ने मुआवजा राशि की मांग करते हुए कहा था कि मास्को को इस युद्ध के लिए भुगतान करना चाहिए। जेलेंस्की ने ये भी कहा कि रूस हमेशा से ही वार्ता से डरता रहा है।