तकनीक / पिज्जा ठीक से नहीं बनाया तो डॉमिनोज का नया कैमरा सॉफ्टवेयर कर्मचारियों को अलर्ट करेगा



डॉमिनोज ने पिज्जा की क्वालिटी बरकरार रखने की कोशिश शुरू की है। डॉमिनोज ने पिज्जा की क्वालिटी बरकरार रखने की कोशिश शुरू की है।
सॉफ्टवेयर कैमरे के जरिए पिज्जा की क्वालिटी पर नजर रखी जाएगी। सॉफ्टवेयर कैमरे के जरिए पिज्जा की क्वालिटी पर नजर रखी जाएगी।
Domino's launches AI-powered camera system that alerts staff if they make substandard pizzas
X
डॉमिनोज ने पिज्जा की क्वालिटी बरकरार रखने की कोशिश शुरू की है।डॉमिनोज ने पिज्जा की क्वालिटी बरकरार रखने की कोशिश शुरू की है।
सॉफ्टवेयर कैमरे के जरिए पिज्जा की क्वालिटी पर नजर रखी जाएगी।सॉफ्टवेयर कैमरे के जरिए पिज्जा की क्वालिटी पर नजर रखी जाएगी।
Domino's launches AI-powered camera system that alerts staff if they make substandard pizzas

  • कर्मचारियों ने तय मानकों के अनुसार पिज्जा नहीं बनाया तो डॉमिनोज का आधुनिक पिज्जा चेकर अलार्म बजाएगा 
  • फिलहाल ऐसे सॉफ्टवेयर वाले कैमरे ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में डॉमिनोज पिज्जा आउटलेट्स पर लगाए गए हैं

Dainik Bhaskar

Oct 19, 2019, 07:45 AM IST

कैनबरा. डॉमिनोज ने अपने पिज्जा की क्वालिटी सुधारने के लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल शुरू किया है। ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में कंपनी ऐसे सॉफ्टवेयर वाले कैमरे इस्तेमाल कर रही है, जिससे कर्मचारियों को बताया जा रहा है कि उनके पिज्जा की क्वालिटी डॉमिनोज के स्टैंडर्ड जैसी है या नहीं। इसके जरिए कंपनी यह तय करने की कोशिश कर रही है कि उनके पिज्जा हर क्षेत्र में एक ही स्वाद और क्वालिटी के रहें। 

 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, डॉमिनोज के इन नए कैमरों का नाम डॉम पिज्जा चेकर रखा गया है। इसी साल अगस्त से ओशियानिया (ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के क्षेत्र) में तकनीक की टेस्टिंग शुरू की गई है। डॉमिनोज की एक रिसर्च के मुताबिक, कस्टमर्स उन पिज्जा को पसंद नहीं करते, जिनमें टॉपिंग्स-चीज की ठीक मात्रा नहीं होती या जिन्हें ओवन से निकलने के 25 मिनट बाद सर्व किया गया हो। 


कैसे काम करता है डॉम पिज्जा चेकर?
इस डिवाइस में ऊपर की तरफ एक कैमरा लगा है, जो मशीन के जरिए मशीन-लर्निंग सॉफ्टवेयर से जुड़ा है। यह कैमरा पिज्जा बनाते समय कर्मचारियों के प्रदर्शन पर नजर रखता है। इसके अलावा कैमरा ऑर्डर किए हुए पिज्जा की तस्वीर बने हुए पिज्जा से भी मैच करता है। सॉफ्टवेयर अपने टेस्ट्स पिज्जा पकने के दौरान ही शुरू कर देता है। प्रोग्राम पहले पिज्जा के बेस के बॉर्डर मापता है। इसके बाद इसमें चीज की मात्रा, ऊपरी हिस्से पर चीज और टॉपिंग्स का फैलाव, इसकी मात्रा और तापमान मापा जाता है।

 

कर्मचारियों को स्टैंडर्ड बनाए रखने में होती है आसानी

अगर पिज्जा में कुछ कमी रह जाती है तो सॉफ्टवेयर फोटोज का विश्लेषण कर अलार्म बजा देता है। इसके बाद कर्मचारियों को पिज्जा को फिर से बनाना पड़ता है। डॉमिनोज पिज्जा के प्रवक्ता के मुताबिक, “कई बार कर्मचारियों से गलत पिज्जा बन जाते हैं, लेकिन इसके चलते उन्हें सजा नहीं दी जा सकती, बल्कि डॉम पिज्जा चेकर के जरिए उन्हें पिज्जा की क्वालिटी और स्थिरता बनाए रखने के लिए प्रशिक्षित किया जा सकता है।”

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना