ब्रिटेन / डॉ. पीटर दुनिया के पहले सायबोर्ग; उनके शरीर का आधा हिस्सा रोबोटिक, बोले- मर नहीं रहा, बदल रहा हूं

डॉ. पीटर। डॉ. पीटर।
X
डॉ. पीटर।डॉ. पीटर।

  • डॉ. पीटर ने दो साल पहले खुद को सायबोर्ग में बदलने का फैसला तब लिया, जब उन्हें मोटर न्यूरॉन डिसीज हुई थी 
  • सायबोर्ग के तहत कोई भी व्यक्ति का शरीर आधा रोबोटिक हो जाता है, उसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से जोड़ा जाता है 
  • पीटर कहते हैं- 13.8 अरब वर्ष में पहली बार कोई इंसान इतना एडवांस रोबोट बनने जा रहा है

दैनिक भास्कर

Oct 17, 2019, 09:50 AM IST

लंदन. ब्रिटेन के वैज्ञानिक डॉ. पीटर स्कॉट मॉर्गन ने मौत के सामने झुकने के बजाय उससे लड़ने के लिए अनोखा तरीका अपनाया। उन्होंने खुद को विज्ञान के हाथों में सौंप दिया। मांसपेशियों की गंभीर बीमारी से जूझ रहे लंदन के डॉ. पीटर अब इंसान से सायबाेर्ग (आधा इंसान, आधा रोबोट) में तब्दील होने के आखिरी चरण में हैं। सायबोर्ग ऐसे रोबोट को कहते हैं, जिसमें इंसान का दिमाग और कुछ अंग काम करते रहते हैं।

 

डॉ. पीटर ने दो साल पहले खुद को सायबोर्ग में बदलने का फैसला तब लिया, जब डॉक्टरों ने बताया कि उन्हें मोटर न्यूरॉन डिसीज है। इस बीमारी में मरीज की मांसपेशियां धीरे-धीरे पूरी तरह काम करना बंद कर देती हैं। डॉ. पीटर ने बीमारी का पता चलने के बाद मौत का इंतजार करने के बजाय इसे चुनौती के तौर पर स्वीकार किया। अब वह चाहते हैं कि जब वह पूरी तरह से रोबोट में तब्दील हो जाएं तो लोग उन्हें पीटर 2.0 के नाम से बुलाएं। 

 

 

पीटर का चेहरा रोबोटिक हो चुका है

डॉ. पीटर दुनिया के पहले ऐसे व्यक्ति हैं, जिनके शरीर के तीन हिस्सों में यंत्र लगाए जा चुके हैं। इन यंत्रों को लगाने के लिए जून, 2018 में कई सर्जरी करनी पड़ी। डॉक्टरों ने ऑपरेशन कर उनकी खाने की ट्यूब को सीधे उनके पेट से जोड़ दिया है। वहीं, उनके ब्लैडर से कैथेटर जोड़ दिया गया है, ताकि उनका मूत्र साफ हो सके। एक और वेस्ट बैग उनके पेट से जोड़ा गया है, जिससे उनके मल की निकासी हो सके। उनके चेहरे को आकार देने वाली सर्जरी भी की गई। अब उनका चेहरा रोबोटिक हो चुका है। उसमें आर्टिफिशियल मांसपेशियां लगी हैं। वह चेहरे में लगाए गए आई कंट्रोलिंग सिस्टम की मदद से कई कंप्यूटर्स को आंखों के इशारे से चला सकते हैं। उनका आखिरी ऑपरेशन 10 अक्टूबर को किया गया। इसमें उनके दिमाग को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से जोड़ा गया और आवाज बदल दी गई। इस सर्जरी से ठीक पहले डॉ. पीटर ने कहा था कि ‘मैं मर नहीं रहा हूं, बदल रहा हूं।’

 

13.8 अरब वर्षों में पहली बार कोई इंसान इतना एडवांस रोबोट बनेगा
डॉ. पीटर ने कहा कि अब वे पीटर 2.0 बनने जा रहे हैं। 13.8 अरब वर्षों में पहली बार कोई इंसान इतना एडवांस रोबोट बनने जा रहा है। मेरे शरीर का ऊपरी हिस्सा पूरी तरह से सिंथेटिक हो जाएगा और दिमाग का कुछ हिस्सा रोबोटिक होगा। मेरा शरीर हार्डवेयर, वेटवेयर, डिजिटल और एनालॉग हो जाएगा। मुझे पता है कि बतौर इंसान मैं मर चुका हूं, लेकिन एक सायबाेर्ग की तरह जिंदा रहूंगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना