पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ट्रम्प के खिलाफ FB की सख्ती:अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति का फेसबुक अकाउंट 2 साल के लिए सस्पेंड; ट्रम्प बोले- यह 7.5 करोड़ लोगों की बेइज्जती है

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फेसबुक ने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का अकाउंट दो साल के लिए सस्पेंड कर दिया है। दो साल का समय 7 जनवरी 2021 से गिना जाएगा। उसी दिन पहली बार ट्रम्प का अकाउंट सस्पेंड किया गया था। फेसबुक के वाइस प्रेसिडेंट (ग्लोबल अफेयर्स) निक क्लेग ने शुक्रवार को ब्लॉग पोस्ट के जरिए यह जानकारी दी है।

फेसबुक के मुताबिक ट्रम्प अब 7 जनवरी 2023 तक अपना फेसबुक अकाउंट एक्सेस नहीं कर पाएंगे। यानी नवंबर 2022 में होने वाले मिड टर्म इलेक्शन में भी उन्हें फेसबुक से दूर रहना पड़ेगा।

ट्रम्प ने कहा- ये हमारे वोटर्स की बेइज्जती है
ट्रम्प ने फेसबुक की इस कार्रवाई को उन 7.5 करोड़ लोगों की बेइज्जती बताया है, जिन्होंने 2020 के चुनाव में ट्रम्प को वोट दिया था। ट्रम्प ने कहा है कि उन लोगों को सेंसर कर और चुप कराकर बाहर नहीं किया जा सकता। हम फिर जीतेंगे। हमारा देश इस बेइज्जती को और ज्यादा बर्दाश्त नहीं कर सकता।

फेसबुक ने कहा है कि एक्सपर्ट से बातचीत कर फैसला लिया जाएगा कि ट्रम्प का अकाउंट कब एक्टिव किया जाए जिससे कि जनता के लिए खतरा नहीं हो। इसके लिए हिंसा और शांतिभंग होने की घटनाओं को ध्यान में रखा जाएगा।

ट्रम्प को हमेशा के लिए बैन कर चुका है ट्विटर
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों के बाद 6 जनवरी को अमेरिकी संसद कैपिटल हिल के बाहर हिंसा हुई थी। इस दौरान ट्रम्प पर अपने समर्थकों को भड़काने का आरोप लगा था। इसी के चलते अगले दिन यानी 7 जनवरी को फेसबुक समेत दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स ने ट्रम्प के खिलाफ एक्शन लिया था। फेसबुक की ही कंपनी इंस्टाग्राम और गूगल के प्लेटफॉर्म यू-ट्यूब ने भी ट्रम्प का अकाउंट सस्पेंड कर दिया था। वहीं ट्विटर तो ट्रम्प को हमेशा के लिए बैन कर चुका है।

जनवरी में सोशल मीडिया कंपनियों की कार्रवाई के बाद भी ट्रम्प का जवाब आया था। उन्होंने कहा था कि अगली बार वे सोशल मीडिया कंपनियों के CEOs को डिनर पर नहीं बुलाएंगे। ट्रम्प ने कहा था कि फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग और उनकी पत्नी के साथ अब व्हाइट हाउस में डिनर नहीं होगा। उनसे सिर्फ बिजनेस की बात होगी। इसके बाद जुकरबर्ग ने एक पोस्ट में कहा था कि राष्ट्रपति को हमारी सर्विसेज का इस्तेमाल करने देना इस वक्त एक बहुत बड़ा जोखिम है।

खबरें और भी हैं...