नॉर्थ कोरिया में लॉकडाउन:नॉर्थ कोरिया में कोरोना का पहला केस मिला; किम के आदेश पर 3 मिसाइल टेस्ट भी हुए

नॉर्थ कोरिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नॉर्थ कोरिया से दो अहम खबरें आ रही हैं। यहां 8 मई को कोरोना का पहला मामला सामने आया था। गुरुवार को इसकी पुष्टि की गई और इसके साथ ही पूरे देश में लॉकडाउन लगा दिया गया। दूसरी अहम खबर यह है कि तानाशाह किम जोंग के आदेश पर यहां की सेना ने एक साथ तीन मिसाइल टेस्ट किए।

कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने कहा-गुरुवार को नॉर्थ कोरिया की राजधानी प्योंगयांग में कुछ बीमार लोगों के सैंपल लिए गए थे। इसके बाद जांच में कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट का पहला मामला कन्फर्म हुआ और सरकार हरकत में आ गई। किम जोंग उन ने महामारी की गंभीरता को देखते हुए देश में सख्त लॉकडाउन का ऐलान कर दिया।

साउथ कोरिया के पूर्वी तट पर दागी 3 मिलाइलें
मिसाइल टेस्टिंग के बाद पड़ोसी देश साउथ कोरिया के जॉइंट चीफ ने अहम बयान दिया। कहा- गुरुवार दोपहर पूर्वी तट पर नॉर्थ कोरिया ने एक के बाद एक तीन मिसाइलें दागीं। ये मिसाइल टेस्ट तब किया गया है, जब वहां पहला कोरोना केस दर्ज हुआ है।

किम जोंग उन के दौर में अब तक नॉर्थ कोरिया 18 बैलिस्टिक मिसाइल टेस्ट कर चुका है।
किम जोंग उन के दौर में अब तक नॉर्थ कोरिया 18 बैलिस्टिक मिसाइल टेस्ट कर चुका है।

2 सालों में एक भी मामला नहीं:WHO
वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) के मुताबिक नॉर्थ कोरिया ने 2020 के आखिर तक 13,259 लोगों के सैंपल की जांच की थी। मगर सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई। नॉर्थ कोरिया में कोरोना का ये पहला मामला है। पड़ोसी देश साउथ कोरिया और चीन में कोरोना केस होने के बावजूद नॉर्थ कोरिया में अभी तक एक भी केस नहीं था। जिससे दुनिया के सभी देश हैरान थे।

दरअसल, जब पूरी दुनिया में कोरोना फैल रहा था, तो नॉर्थ कोरिया ने वायरस से बचाव के लिए सख्त नियम लागू किए हुए थे। इस दौरान कोरिया ने अपने बॉर्डर दुनिया के लिए बंद कर दिए थे। परमाणु परीक्षण की वजह से नॉर्थ कोरिया पहले से ही पाबंदियों की चपेट में है।

मिसाइल के साथ कोरोना मैनेजमेंट की भी कोशिश
किम लंबे समय से दुनिया को ताकत दिखाना चाहते हैं। लेकिन इसके साथ इस समय उन पर कोरोना मैनेजमेंट का भी प्रेशर है। इस वजह से पिछले दिनों उन्होंने इमरजेंसी मीटिंग बुलाई थी। इस मीटिंग में तानाशाह ने कहा था-फैक्ट्रीज और बिजनेस बंद करके ऐसे बचाव किए जाएं, जिससे इस संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।