• Hindi News
  • International
  • For The First Time In The History Of The US Supreme Court, A Woman Will Be Included, President Biden By The End Of February

अमेरिकियों के लिए फैसले सुनाएंगी अश्वेत जज:SC के इतिहास में पहली बार कोई महिला होगी शामिल, राष्ट्रपति बाइडेन फरवरी के आखिर तक करेंगे ऐलान

वॉशिंगटन5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट में पहली अश्वेत महिला जज की नियुक्ति करने के अपने चुनावी वादे पर अमल के लिए तैयार हैं। वे फरवरी को आखिर तक अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट में बतौर जज पहली अश्वेत महिला को नॉमिनेट करने जा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जज स्टीफन ब्रेयर रिटायर होने वाले हैं। इस पोस्ट के लिए लगभग तीन अश्वेत महिला न्यायाधीशों के नामों पर विचार किया जा रहा है। बाइडन के करीबी सहयोगियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। गुरुवार को ब्रेयर ने अपना इस्तीफा राष्ट्रपति बाइडेन को सौंपते हुए कहा कि किसी अश्वेत महिला को अब तक जज बना दिया जाना चाहिए था। इस फैसले में पहले ही बहुत देर हो गई है।

राष्ट्रपति बनने से पहले किया था बाइडेन ने वादा
अश्वेत लोगों के समर्थन से चुनाव जीतने वाले बाइडेन ने अपने प्रेसिडेंशियल कैंपेन में वादा किया था कि राष्ट्रपति बनने के बाद वे हाईकोर्ट में परमानेंट पोस्ट के लिए अश्वेत महिला को नॉमिनेट करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारी प्रक्रिया मुश्किल होने वाली है। मैं जस्टिस ब्रेयर की विरासत को संभालने के काबिल नॉमिनी सिलेक्ट करूंगा।

बाइडेन ने यह भी कहा कि मैं कैंडिडेट्स के बैकग्राउंड देख रहा हूं और मैंने एक फैसला लिया है कि मैं विशिष्ट योग्यता, चरित्र और ईमानदारी वाले किसी कैंडिडेट को नॉमिनेट करूंगा। उन्होंने यह भी कहा कि यह इंसान एक अश्वेत महिला होगी। मेरे हिसाब से इसकी अपेक्षा लंबे समय से की जा रही।

उम्मीदवारों में तीन महिलाएं
ब्रेयर की जगह लेने वाले उम्मीदवारों में केतनजी ब्राउन जैक्सन, यूएस कोर्ट ऑफ अपील्स जज और कैलिफोर्निया सुप्रीम कोर्ट के लियोन ड्रा क्रूगर के नाम शामिल हैं। अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के 115 जिलों में से केवल पांच महिलाएं हैं, जिनमें आज तीन शामिल हैं - सोनिया सोतो योर, एलेना कगन और एमी कोनी बैरेट। केवल दो अश्वेत व्यक्ति रहे हैं, जिनमें से एक वर्तमान न्यायमूर्ति क्लेरेंस थॉमस हैं। ब्रेयर अदालत में सबसे पुराने जज हैं और उन्हें 1994 में तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्लिंटन द्वारा नामित किया गया था।

जून में खत्म हो रहा ब्रेयर का कार्यकाल
83 साल के ब्रेयर ने हाल ही में बाइडेन को अपना इस्तीफा सौंपा है। उन्होंने इस्तीफे में लिखा कि कोर्ट का मौजूदा सत्र के खत्म होते ही वे नौकरी छोड़ देंगे। उनका कार्यकाल जून के अंत तक चलेगा, उसके पहले अमेरिकी सीनेट को उनका उत्तराधिकारी ढूंढना होगा।

अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव से करीब एक सप्ताह पहले पिछले साल अक्टूबर में अमेरिकी सीनेट में सुप्रीम कोर्ट के नए जज के लिए वोटिंग की गई थी। इस वोटिंग में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा नामित एमी कोनी बैरेट ने जीत दर्ज की थी और वह सुप्रीम कोर्ट की नई जज बनी थीं। अमेरिका में जजों की नियुक्ति लाइफटाइम के लिए होती है और अन्य कोर्ट से अलग यहां के जजों की कोई रिटायरमेंट उम्र भी नहीं होती। अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट में नौ जज होते हैं। किसी अहम फैसले के वक्त यदि उनकी राय 4-4 में विभाजित हो जाती है तो सरकार द्वारा नियुक्त जज का वोट निर्णायक हो जाता है।

महिलाओं को तेहरान स्टेडियम में ईरान-इराक मैच देखने की अनुमति
ईरान में भी महिलाओं को तीन साल बाद गुरुवार को तेहरान स्टेडियम में अपने देश की राष्ट्रीय टीम के फुटबॉल मैच देखने की अनुमति दी गई। आखिरी बार ईरानी महिलाओं को 2019 में फुटबॉल मैच देखने की अनुमति दी गई थी। तब से, कोविड -19 प्रतिबंधों के कारण राष्ट्रीय टीम के मैच बिना दर्शकों के आयोजित किए गए थे। इस्लामिक गणराज्य ने आम तौर पर लगभग 40 वर्षों के लिए महिला दर्शकों को फुटबॉल और अन्य स्टेडियमों से प्रतिबंधित कर दिया था। निर्णय लेने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले मौलवियों का तर्क था कि महिलाओं को मर्दाना माहौल और अर्ध-पहने पुरुषों की दृष्टि से बचाया जाना चाहिए।