• Hindi News
  • International
  • For The First Time Ships Crossed The Northern Sea Route Of Minus 40 Degrees, 8 Ships Conquered The Most Difficult Sea Route

साइबेरिया की सर्द बाधा हारी:पहली बार- माइनस 40 डिग्री वाले नॉर्दर्न सी रूट से पार हुए जहाज, 8 जहाजों ने सबसे मुश्किल समुद्री मार्ग फतह किया

मॉस्को5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आइसब्रेकर को कई जगह 3 फीट मोटी बर्फ की पर्त तक काटनी पड़ी। - Dainik Bhaskar
आइसब्रेकर को कई जगह 3 फीट मोटी बर्फ की पर्त तक काटनी पड़ी।

दुनिया के सबसे ठंडे इलाके साइबेरिया में पड़ने वाले नॉर्दर्न सी रूट को 8 जहाजों के कारवां ने पार कर लिया है। इतिहास में दिसंबर के महीने में यह कारनामा पहली बार हुआ है। इस रूट को सर्दियों में दुनिया का सबसे मुश्किल समुद्री मार्ग माना जाता है, क्योंकि समुद्र जम चुका होता है। इन जहाजों ने बर्फीले पश्चिमी किनारे से कारा सागर होते हुए नॉर्दर्न सी रूट के लिए अपनी यात्रा जारी रखी। जब जहाज बोरिस विल्किस्की और मैटिसेन स्ट्रेट से गुजरे तो बर्फ ही बर्फ थी।

तापमान माइनस 30 से 40 डिग्री सेल्सियस तक गिरा हुआ था। ये सफलता इसलिए भी बड़ी है, क्योंकि नवंबर में जहाज फंस गए थे। तब दो आईसब्रेकर तैमीर और बैगाच न्यूक्लियर भेजने पड़े थे। इन आइसब्रेकर को तीन फीट मोटी बर्फ की पर्त हटानी पड़ीं। बेड़े में मोटर जहाज कुम्पुला, सेलेंगा, व्लादिमीर रुसानोव, नॉर्दर्न प्रोजेक्ट, मैकेनिक पुस्टोशनी भी थे। पहली बार न्यूक्लियर आइसब्रेकर के नेतृत्व में बेड़ा नॉर्दर्न सी रूट से गुजरा।

खबरें और भी हैं...