• Hindi News
  • International
  • On the US expressing concern over the situation in Kashmir, Jaishankar said Don't worry, a democracy will solve it

म्यूनिख सम्मेलन / कश्मीर पर जयशंकर का अमेरिका को जवाब- चिंता न करें; एक देश मसले को बखूबी सुलझा लेगा, आप उस देश को जानते हैं

विदेश मंत्री एस जयशंकर म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे हैं।
X

  • म्यूनिक सुरक्षा सम्मेलन में अमेरिकी सीनेटर लिंडसे ग्राहम ने कहा- मैं समझ नहीं पा रहा कि कश्मीर में लॉकडाउन कब खत्म होगा
  •  विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा- यूएन बीते दौर की तुलना में अब कम भरोसेमंद, 75 साल पहले की चीजें अब नहीं रहीं

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2020, 03:00 PM IST

म्यूनिख. जर्मनी में चल रहे म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिका को करारा जवाब दिया। अमेरिकी सीनेटर लिंडसे ग्राहम द्वारा कश्मीर के हालात पर चिंता जताने पर जयशंकर ने कहा, “चिंता मत कीजिए। एक लोकतंत्र (भारत) इसे सुलझा लेगा और आप जानते हैं कि वह देश कौन सा है? इससे पहले ग्राहम ने कहा था, “कश्मीर से लौटने के बाद यह समझ नहीं पाया कि वहां जारी लॉकडाउन कब खत्म होगा। दोनों देशों (भारत-पाकिस्तान) को यह आश्वस्त करना होगा कि इस मुद्दे को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा।”

जयशंकर ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र अपने इतिहास की तुलना में अब कम भरोसेमंद रह गया है। जब आप इसके बारे में सोचते हैं तो इसकी कम होती विश्वसनीयता आपको आश्चर्यचकित नहीं करती। संस्था में अब वे चीजें नहीं रही, जो वह 75 साल पहले थीं। स्पष्ट है कि इसके बदलाव के लिए बहुत कुछ किए जाने की जरूरत है।” उन्होंने यह भी कहा, “ऐसे कई देश हैं, जहां पर राष्ट्रवाद को लेकर ज्यादा मुखरता है। कुछ मामलों में राष्ट्रवाद ज्यादा असुरक्षित है। तथ्य यह है कि जो राष्ट्र ज्यादा राष्ट्रवादी दिखता है, वह कम बहुपक्षीय होता है।’’

‘बड़े स्तर पर राष्ट्रवाद को स्वीकृति मिली’

राष्ट्रवाद के सवाल पर उन्होंने कहा, “इस पर कोई सवाल ही नहीं उठता है कि दुनिया में राष्ट्रवाद का बोलबाला है। अमेरिका, चीन समेत दुनिया के कई देशों का इस पर जोर है। जाहिर है कि बड़े स्तर पर राष्ट्रवाद को स्वीकृति मिली है।” म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन 14 से 16 फरवरी तक चलेगा।

अमेरिकी सीनेटरों ने कश्मीर स्थिति को लेकर रिपोर्ट मांगी थी
ट्रम्प की यात्रा को देखते हुए अमेरिका के चार सीनेटरों ने भारत में धार्मिक स्वतंत्रता और कश्मीर में मानवाधिकार की स्थितियों पर रिपोर्ट की मांग की थी। सभी सीनेटरों ने 12 फरवरी को विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को लिखी चिट्‌ठी में कहा था, “अभी भी सैंकड़ों कश्मीरी हिरासत में रखे गए हैं। भारत ने कश्मीर में अब तक का सबसे लंबा इंटरनेट शटडाउन लगाया है। राज्य की चिकित्सा सुविधाएं, कारोबार और शिक्षा पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। करीब 70 लाख लोग इससे प्रभावित हुए हैं।” इन सीनेटरों में क्रिस वैन होलेन, टॉड यंग, रिचर्ड जे डर्बिन और लिंडसे ग्राहम शामिल थे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना