विज्ञापन

मैराथन / 42 किमी इसलिए दौड़ते हैं ताकि लजीज खाना और पुरानी वाइन टेस्ट करने को मिले

Dainik Bhaskar

Mar 20, 2019, 07:57 AM IST


French marathon where runners take part to eat food, entertain, and taste wine to enjoy
X
French marathon where runners take part to eat food, entertain, and taste wine to enjoy
  • comment

  • मैराथन डू मेडोक के जरिए ऑर्गनाइजर्स दुनियाभर से आए रनर्स को फ्रांस की खूबसूरती दिखाते हैं
  • मैराथन की फीस 7 हजार रुपए फिर भी बड़ी संख्या में रजिस्ट्रेशन होते हैं

पेरिस. फ्रांस में हर साल एक ऐसी मैराथन कराई जाती है जिसमें रनर्स को शानदार व्यंजन खाने को मिलते हैं। एक निश्चित दूरी तय करने पर उन्हें दुनिया की सबसे बेहतरीन वाइन चखने का मौका भी मिलता है। इस मैराथन की लोकप्रियता इसी बात से समझी जा सकती है कि यह सितंबर में होनी है, लेकिन भारी भीड़ को देखते हुए रजिस्ट्रेशन छह महीने पहले मार्च में ही शुरू कर दिया गया है।

रनर्स को पहननी होती है फैंसी ड्रेस

  1. मैराथन में हिस्सा लेनी की कुछ शर्तें हैं। आयोजकों ने कुछ नियम ऐसे बनाए हैं, जिससे लोग 42 किमी दौड़कर अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने के साथ-साथ कुछ मौज-मस्ती भी कर सकें। रनर्स को मैराथन में हिस्सा लेने के लिए फैंसी ड्रेस पहननी पड़ती है। 2019 में होने वाली रेस के लिए आयोजकों ने सुपरहीरो ड्रेस कोड रखा है।

  2. मैराथन जीतने वाले को मिलती है अपने वजन के बराबर वाइन

    एक और मजेदार नियम यह है कि जहां आमतौर पर मैराथन जीतने वाले को कैश रिवॉर्ड या सर्टिफिकेट दिए जाते हैं, वहीं इस रेस के विजेता को मेडोक शहर की मशहूर वाइन दी जाती है, वह भी उनके वजन के बराबर। मैराथन में जीतने वाले पुरुष और महिला दोनों को ही यह अवॉर्ड मिलता है। 

  3. जो नहीं जीतते हैं उनके लिए भी खास इंतजाम किए जाते हैं। सबसे अच्छी फैंसी ड्रेस पहनने वालों के लिए अलग से खाना-पीना मुहैया कराया जाता है। आयोजकों ने मैराथन खत्म करने के लिए 6.5 घंटे का अधिकतम समय रखा है। यानी कोई भी व्यक्ति हर घंटे सात किमी दौड़कर भी रेस आसानी से पूरी कर सकता है। 

  4. रेस में जगह-जगह ब्रेक दिए जाते हैं जहां जल्दी पहुंचने वालों को सालों पुरानी वाइन चखाई जाती है। साथ ही उन्हें खाने के लिए चीज, अंगूर, मछली और आइसक्रीम दी जाती है। सफर में कुछ जगह तो लोगों के लिए डांस परफॉर्मेंस का का कार्यक्रम भी होता है।

  5. 1985 में शुरू हुई यह मैराथन दुनियाभर में मशहूर है। इसमें हिस्सा लेने के लिए लोगों को 88 यूरो (करीब 7 हजार रुपए) खर्च करने होते हैं। इसके बावजूद कई देशों से लोग हिस्सा लेने आते हैं। मैराथन के रूट में लोगों को पाविलैक एस्टेट, सैंट जूलियन बेशवेल जैसी सुंदर इमारतें देखने का मौका मिलता है। इसके अलावा 300 से ज्यादा वॉलंटियर और पांच मोबाइल यूनिट इमरजेंसी के लिए तैनात की जाती हैं।

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन