इटली में 25 को होगा PM के लिए चुनाव:जॉर्जिया का वोट शेयर 46% हुआ; चुनाव जीतने पर बन जाएंगी पहली महिला प्रधानमंत्री

रोम12 दिन पहलेलेखक: ओटाविया स्पैगिएयरी, मिलान
  • कॉपी लिंक

इटली में नए प्रधानमंत्री के लिए 25 सितंबर को चुनाव होगा। ब्रदर्स ऑफ इटली की नेता जॉर्जिया मेलोनी ने अपने राष्ट्रवादी एजेंडे की वजह से विरोधियों से भारी बढ़त बना ली है। हालिया पोल में जॉर्जिया का वोट शेयर बढ़कर 46% हो गया है। जबकि लगभग एक पखवाड़े पहले ये 25% था।

जॉर्जिया के विरोध में चुनाव लड़ रहे डेमाेक्रेटिक पार्टी का गठबंधन 28% वोटों के साथ दूसरे नंबर पर पिछड़ रहा है। जॉर्जिया मेलोनी की जीत करीब-करीब तय मानी जा रही है।

जॉर्जिया पहली महिला पीएम होंगी
यदि जॉर्जिया मेलोनी चुनाव जीततीं हैं तो वे इटली की पहली महिला प्रधानमंत्री होंगी। जॉर्जिया की पार्टी इटली के तानाशाह रहे मुसोलिनी की समर्थक हैं। अप्रवासियों को शरण नहीं देना और समलैंगिकों का विरोध और उन्हें हक नहीं देना जॉर्जिया का एजेंडा है।

अप्रवासियों को शरण नहीं देना और समलैंगिकों का विरोध और उन्हें हक नहीं देना जॉर्जिया का एजेंडा है।
अप्रवासियों को शरण नहीं देना और समलैंगिकों का विरोध और उन्हें हक नहीं देना जॉर्जिया का एजेंडा है।

बर्लुस्कोनी की पार्टी भी जॉर्जिया के साथ
इटली के पूर्व पीएम सिल्वियो बर्लुस्काेनी की पार्टी फोर्जा इटालिया भी मेलोनी की पार्टी के साथ गठबंधन में है। अप्रवासियों के विरोध के मुद्दे वाले एजेंडे वाली मैटियो सिलल्वीनी की पार्टी भी राष्ट्रवादी और दक्षिणपंथी गठबंधन में है।

मौजूदा PM की पार्टी मुकाबले में कमजोर
पूर्व प्रधानमंत्री एनरिको लेट्टा की सेंटर-लेफ्ट डेमोक्रेटिक पार्टी मुकाबले में कमजाेर पड़ रही है। इटली के मौजूदा प्रधानमंत्री मारियो ड्रागी भी एनरिको की सेंटर-लेफ्ट डेमोक्रेटिक पार्टी से ही हैं। लिहाजा, सत्ता विरोधी लहर भी हावी है। एनरिको ड्रागी के करीबी माने जाते हैं। जब ड्रागी से उनकी सहयोगी पार्टी फाइव सतारे ने समर्थन खींचकर उनकी सरकार गिराई तो एनरिको ने यही कहा था कि आने वाले चुनाव में जनता इसका जवाब देगी। लेट्‌टा को अपने पक्ष में वोटरों के आने का अब भी भराेसा है, लेकिन ऐसा दिखाई नहीं पड़ता है।

एनरिको लेट्‌टा भावनात्मक मुद्दे उठा रहे हैं। लेकिन लोगों पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है।
एनरिको लेट्‌टा भावनात्मक मुद्दे उठा रहे हैं। लेकिन लोगों पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है।

लेट्‌टा की भावनात्मक अपील से वोटर अप्रभावित
जॉर्जिया के राष्ट्रवाद के मुद्दे के सामने एनरिको लेट्‌टा भावनात्मक मुद्दे उठा रहे हैं। लेकिन लोगों पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है। हाल ही में इटली में आई बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों को देखकर एनरिको ने इसे त्रासदी बताते हुए अपना चुनाव प्रचार भी बंद कर दिया था। बुजुर्ग राजनीतिक नेतृत्व के लिए मशहूर देश में एनरिको एक युवा नेता के तौर पर अपनी पहचान बनाई थी। उन्होंने महज 32 साल की उम्र में इटली का सबसे युवा मंत्री बनने का रिकॉर्ड स्थापित किया था। एनरिको ने 2001 तक उद्योग एवं व्यापार मंत्री के तौर पर भी काम किया। 2004 से 2006 तक एनरिको यूरोपीय संसद के सदस्य रहे। उन्हें मंत्री परिषद का सचिव भी नियुक्त किया।