• Hindi News
  • International
  • Government Centers Open To Take Drugs Became Trouble, Crime Increased; People Enter Schools After Getting Intoxicated

ऑस्ट्रेलिया में सरकारी प्रोग्राम बना जनता के लिए मुसीबत:ड्रग्स लेने के लिए खुले सरकारी सेंटर मुसीबत बने, क्राइम बढ़ा; नशा करके स्कूलों में घुस जाते हैं लोग

7 महीने पहलेलेखक: मेलबर्न से भास्कर के लिए अमित चौधरी
  • कॉपी लिंक
ढाई करोड़ की आबादी वाले ऑस्ट्रेलिया में ड्रग्स लेने के लिए सरकार ने विशेष सेंटर खोल दिए हैं, ताकि ड्रग्स ओवरडोज से हो रही मौतों को रोका जा सके। - Dainik Bhaskar
ढाई करोड़ की आबादी वाले ऑस्ट्रेलिया में ड्रग्स लेने के लिए सरकार ने विशेष सेंटर खोल दिए हैं, ताकि ड्रग्स ओवरडोज से हो रही मौतों को रोका जा सके।
  • ड्रग्स ओ‌वरडोज से हो रही मौतों को रोकने के लिए शुरू हुआ था प्रोग्राम

आमतौर पर लोगों को ड्रग्स से छुटकारा दिलाने के लिए नशा मुक्ति केंद्र भेजा जाता है। लेकिन ढाई करोड़ की आबादी वाले ऑस्ट्रेलिया में ड्रग्स लेने के लिए सरकार ने विशेष सेंटर खोल दिए हैं, ताकि ड्रग्स ओवरडोज से हो रही मौतों को रोका जा सके। लेकिन यह सरकारी प्रोग्राम जनता के लिए मुसीबत बन गया है। इन सेंटरों के चलते अपराध बढ़ गया है। आए दिन मारपीट, लूटपाट, चोरी और डकैती की वारदातें होने लगी हैं।

हाई प्रोफाइल इलाके नॉर्थ रिचमंड में रहने वाली एक महिला ने बताया कि उसके दो बच्चे इस सेंटर से सटे प्राइमरी स्कूल में पढ़ते हैं। आए दिन कोई न कोई नशेड़ी स्कूल में घुस कर हंगामा करता है। इससे परेशान होकर लोगों ने सेफ इंजेक्टिंग रूम को बंद कराने के लिए एमएसआईआर रेसिडेंट्स एक्शन कमेटी बनाई है।

प्रोग्राम के मुताबिक, इन सरकारी सेंटर्स पर 18 साल से ऊपर के लोग हेरोइन या आइस ड्रग ले सकते हैं। सेंटर में ड्रग्स नहीं मिलती। ड्रग लेने वाला व्यक्ति अपनी खुराक साथ लाता है और एक्सपर्ट्स की देखरेख में सेवन करता है। सेंटर के निदेशक निको क्लार्क बताते हैं कि यह एक तरह का मेडिकल सेंटर है। यहां आने वाले से कोई चार्ज नहीं लिया जाता।

डॉ. एरिन लेलर बताती है कि इस प्रोग्राम से कई लोगों की जान बची है। सेंटर में 4300 से ज्यादा लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। 1.19 लाख डोज ले चुके हैं। रेसिडेंट्स एक्शन कमेटी से जुड़े डेविड होर्समेन बताते हैं कि इलाके में ड्रग्स की बिक्री धड़ल्ले से हो रही है। इसलिए कोई इलाके में आने को तैयार नहीं है। हमारा कारोबार ठप पड़ चुका है। बावजूद सरकार इस प्रोग्राम को सफल बताकर एक और सेंटर शुरू करने जा रही हैं।

34 लाख लोगों ने अवैध ड्रग्स सेवन की बात कबूली

ऑस्ट्रेलियन इंटेलिजेंसी कमीशन की रिपोर्ट के मुताबिक बीते 10 सालों में अवैध ड्रग्स जब्त करने की दर 77% बढ़ गई है। ड्रग्स की मात्रा में 241% का उछाल आया। 2018-19 के बीच हर 5 मिनट में एक शख्स ड्रग्स के साथ पकड़ा गया और हर 20 मिनट में 1 किलो ड्रग्स पकड़ी गई। ढाई करोड़ से ज्यादा आबादी वाले ऑस्ट्रेलिया में 34 लाख से ज्यादा लोगों ने अवैध ड्रग्स सेवन की बात कबूली है। इनमें ज्यादातर 20 से 29 साल के हैं।