अमेरिका / सरकार ने ‘वकांडा’ से व्यापारिक रिश्ते बताए, लोग बोले- हम अब काल्पनिक देश के साथ ट्रेड वॉर शुरू करेंगे

फिल्म ब्लैंक पैंथर ने पिछले साल ऑस्कर अवॉर्ड जीता था। फिल्म ब्लैंक पैंथर ने पिछले साल ऑस्कर अवॉर्ड जीता था।
X
फिल्म ब्लैंक पैंथर ने पिछले साल ऑस्कर अवॉर्ड जीता था।फिल्म ब्लैंक पैंथर ने पिछले साल ऑस्कर अवॉर्ड जीता था।

  • प्रोडक्शन कंपनी मार्वेल की फिल्म ब्लैक पैंथर में वकांडा को दिखाया गया है, जो पूर्वी अफ्रीका का एक काल्पनिक देश है 
  • अमेरिकी कृषि विभाग के प्रवक्ता ने कहा- एक स्टाफ ने गलती से लिस्टिंग के दौरान वकांडा का नाम सूची में डाला

दैनिक भास्कर

Dec 23, 2019, 08:38 AM IST

वॉशिंगटन. अमेरिका के कृषि विभाग ने ‘वकांडा’ को एक मुक्त-व्यापार भागीदार देश के रूप में सूचीबद्ध किया है। फिल्म प्रोडक्शन कंपनी मार्वल यूनिवर्स में ‘वकांडा’ सुपरहीरो ‘ब्लैक पैंथर’ का काल्पनिक पूर्वी अफ्रीकी देश है। कृषि विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि किंगडम ऑफ वकांडा का नाम एक टेस्ट के दौरान गलती से सूची में आ गया।

विभाग के ऑनलाइन टैरिफ ट्रैकर ने दो देशों के बीच व्यापार किए जाने वाले चीजों की एक सूची भी दी है। इसमें बतख, गधे और गाय शामिल है। अमेरिकी मीडिया में आने के बाद विभाग को इसकी जानकारी हुई। इसके बाद काल्पनिक देश को सूची से हटाया गया। सोशल मीडिया पर इसे लेकर मजाक भी बने। लोगों ने कहा- अमेरिका अब काल्पनिक देशों के साथ ट्रेड वार शुरू कर दिया है।

‘वकांडा’ का नाम पहली बार 1966 में सामने आया

‘वकांडा’ का नाम पहली बार 1966 में ‘फैंटास्टिक फोर’ कॉमिक में सामने आया था। इसके बाद फिल्म ब्लैक पैंथर में दोबारा सामने आया। इस फिल्म को पिछले साल ऑस्कर भी मिला था। न्यूयॉर्क के सॉफ्टवेयर इंजीनियर फ्रांसिस सेंग ने गलती से लिस्टिंग के दौरान इसका नाम सूची में डाल दिया था। उन्होंने कृषि विभाग में फैलोशिप के लिए आवेदन किया था। उन्होंने न्यूज एजेंसी रॉयटर्स से कहा- जब उन्होंने पहली बार वकांडा को सूची में देखा, तो वह बेहद उलझन में थे।

वकांडा का नाम सूची से हटाए जाने के बाद कृषि विभाग के प्रवक्ता ने वॉशिंगटन पोस्ट को बताया- वकांडा का नाम स्टाफ के टेस्ट के लिए डाला गया था। उन्हें इसकी उम्मीद नहीं थी कि यह सार्वजनिक हो जाएगा। वकांडा का नाम टेस्ट के बाद लिस्ट से हटा दिया जाना चाहिए था।

इसके पहले भी काल्पनिक देशों का नाम वास्तविक दुनिया से जोड़ा गया

यह पहली बार नहीं है जब काल्पनिक देश का नाम वास्तविक दुनिया में शामिल किया गया है। 2017 में पोलैंड के तत्कालीन विदेश मंत्री विटोल्ड वाज्जकोव्स्की ने संवाददाताओं से कहा था कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पोलैंड को शामिल किए जाने को लेकर चर्चा के लिए कई देशों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की। जैसे बेलीज या सैन एस्कोबार। जबकि ऐसे किसी देश का कोई अस्तित्व ही नहीं है।

कई बार वास्तविक देशों का नाम भी हटाया गया

कभी-कभी तो ऐसा भी हुआ है कि अधिकारियों ने उन देशों को भी हटा दिया है जो वास्तव में मौजूद हैं। उदाहरण के लिए 2004 में यूरोपीय संघ की गाइडबुक के कवर में यूके समेत यूरोपीय संघ के सदस्य राज्यों का नक्शा दिखाया गया था। जबकि वेल्स का नाम ही नहीं था।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना