पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • International
  • If The Household Chores Are Divided Equally, Then There Will Be No Disputes: If The Wife Takes The Responsibility Of Feeding The Children, Then The Husband Should Take The Bath.

द न्यूयार्क टाइम्स से विशेष अनुबंध के तहत:घर के काम बराबरी से बांट लें तो फिर विवाद नहीं होंगे: पत्नी बच्चों को खिलाने की जिम्मेदारी निभाती हैं तो पति नहलाने का काम करें

2 महीने पहलेलेखक: जेसिका ग्रोस
  • कॉपी लिंक
अमेरिका में जिन दंपतियों के बच्चे 6 साल से छोटे हैं, महिलाएं बच्चों को खिलाने-पिलाने और शारीरिक देखभाल करती हैं तो पुरुष उन्हें नहलाने का काम करते हैं। - Dainik Bhaskar
अमेरिका में जिन दंपतियों के बच्चे 6 साल से छोटे हैं, महिलाएं बच्चों को खिलाने-पिलाने और शारीरिक देखभाल करती हैं तो पुरुष उन्हें नहलाने का काम करते हैं।
  • एक्सपर्ट्स के मुताबिक ये चार तरीके अपनाकर दंपती तालमेल बेहतर कर सकते हैं

भागदौड़ भरी जिंदगी में अपेक्षा यही रहती है कि घर के कामों में जीवनसाथी बराबर हाथ बटाएं। यह मुश्किल है, पर असंभव नहीं। अमेरिका में जिन दंपतियों के बच्चे 6 साल से छोटे हैं, उनमें महिलाएं बच्चों को खिलाने-पिलाने और शारीरिक देखभाल में रोज औसत 1 घंटे 10 मिनट देती हैं। जबकि पुरुष सिर्फ 27 मिनट। पर जेसिका के घर की स्थिति अमेरिकी श्रम ब्यूरो के इस सर्वे से अलग है। वे और उनके पति बराबर समय देते हैं। वे बच्चों को खिलाती हैं तो पति नहलाते हैं। इसके लिए उन्होंने चार्ट या कैलेंडर नहीं बनाए। अपने जैसे दंपतियों से चर्चा की और जाना कि वे कैसे तालमेल बिठाते हैं। इस दौरान 4 तरीके सामने आए...

महिलाओं को कार्यस्थल के साथ घर पर भी विरोध झेलना पड़ता है, ऐसे में पति थोड़ी ज्यादा जिम्मेदारियां लें

1 काम का संतुलन गड़बड़ाने पर आपस में बात करें

काम के बंटवारे पर नाराजगी हो तो दंपती आपस में बात करते हैं। दो बच्चों की मां इनबाल ऑस्टर्न कहती हैं कि मैं कुछ मन में नहीं रखती। पर आपको जीवनसाथी पर काम के बोझ के बारे में भी पता होना चाहिए। वहीं ब्रिगेड शुल्त बताती हैं कि उन्हें लगा कि पति घर से जुड़े काम नहीं कर रहे हैं तो वे पति के साथ वॉक पर जाने लगीं। इस दौरान हर मुद्दे पर चर्चा हुई। बातचीत से रास्ता निकला।

2 अपने लिए समय निकालें

न्यू जर्सी में जैकलीन व जोश ग्रीनबर्ग के 11, 9 और 7 साल के बच्चे हैं। मझला पूरी तरह पैरेंट्स पर निर्भर है। उसे कई बार डॉक्टर के पास ले जाना, घर पर इलाज जैसी जिम्मेदारियां हैं। ऐसे में झुंझलाहट होने लगती है। जैकलीन बताती हैं, ऐसे वक्त में दूसरा साथी चुपचाप स्थिति संभालने आ जाता है। वे फ्रीलांस लेखक हैं। अपने लिए वक्त निकालने का महत्व समझती हैं। इसलिए जोश को भी रीसेट होने के लिए प्रेरित करती हैं।

3 समझौता करें

ब्रुकलिन के डेबोरा और डेवन सेंडिफोर्ड के दो बेटे हैं। जब भी डॉक्टर बच्चों का पूछते तो डेवन का जवाब होता डेबोरा बताएंगी। पर जब बात स्कूल की जिम्मेदारियों की आती तो डेवन अलर्ट रहते। साउथ कैरोलिना यूनिवर्सिटी में प्रो. जैकलीन वॉन्ग कहते हैं कि कार्यस्थल के साथ घर पर भी महिलाओं को विरोध झेलना पड़ता है, ऐसे में पति थोड़ी ज्यादा जिम्मेदारियां ले लें तो उन्हें आसानी होगी और दोनों के बीच संतुलन बना रहेगा।

4 टेक्नोलॉजी की मदद लें

यदि पति-पत्नी को काम बांटने में मुश्किलें पेश आती हैं तो टेक्नोलॉजी की मदद ले सकते हैं। शेयर्ड कैलेंडर बना सकते हैं। जोश ग्रीनबर्ग कहते हैं कि एप पर काम की लिस्ट साझा कर सकते हैं। इससे समय से पहले अलर्ट मिल जाते हैं। जेसिका कहती हैं कि हमने भी कैलेंडर बनाया था, पर वह खाली रहा। वे कहती हैं कि अगर तालमेल बेहतर है तो फिर इन चीजों की जरूरत नहीं पड़ेगी।

खबरें और भी हैं...