पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • If You Are Following Social Distancing, There Is No Need To Change Clothes And Bathe Again And Again; Shoes Must Be Outside The House

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

न्यूयॉर्क टाइम्स से:सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं तो बार-बार कपड़े बदलने और नहाने की जरूरत नहीं; जूतों की जगह घर के बाहर ही होनी चाहिए

वॉशिंगटन10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर अमेरिका के वॉशिंगटन की है। लॉकडॉउन में ढील के बाद जब तीन दोस्त मिलीं तो सोशल डिस्टेसिंग रखते हुए उन्होंने अपनी कार में बैठकर इस तरह बातें की। - Dainik Bhaskar
तस्वीर अमेरिका के वॉशिंगटन की है। लॉकडॉउन में ढील के बाद जब तीन दोस्त मिलीं तो सोशल डिस्टेसिंग रखते हुए उन्होंने अपनी कार में बैठकर इस तरह बातें की।
  • एयरोसोल साइंटिस्ट डॉ. मार बोले- वायरस का खत्म होना हमारे व्यवहार पर भी निर्भर करता है
  • विशेषज्ञ बोले- कपड़ाें काे झटकर संक्रमण खत्म नहीं कर सकते, धोकर पहनें

(तारा पार्कर पाेप) कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा असर अमेरिका पर पड़ा है। यहां 34 हजार से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। न्यूयॉर्क टाइम्स ने पाठकों से कोरोनावायरस से जुड़े अपने सवाल भेजने को कहा तो ज्यादातर लोगों ने पूछा कि क्या यह वायरस जूते से या फिर वे जो कपड़े पहनकर बाहर खरीददारी के लिए जा रहे हैं, उससे फैल सकता है? वर्जिनिया टेक के एयरोसोल साइंटिस्ट डॉ. लिंसे मार ने कहा, ‘वायरस कब खत्म होगा, यह मेडिकल के साथ-साथ हमारे व्यवहार पर भी निर्भर करता है। जूतों का सवाल है तो इसका स्थान घर के बाहर ही हाेना चाहिए। अगर आप सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं तो बार-बार कपड़ों को बदलने की भी जरूरत नहीं है, लेकिन अगर हमने इस वायरस को हल्के में लिया तो यह हमें खोज लेगा इसलिए हमें और ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। धोकर सुखाए गए कपड़ों से संक्रमण का कोई खतरा नहीं होता, लेकिन कपड़ों को झटकर संक्रमण को खत्म नहीं किया जा सकता।’

न्यूयॉर्क टाइम्स के रीडर्स के सवाल, साइंटिस्ट डॉ. लिसें के जवाब

सवाल- क्या मुझे किराने की दुकान से घर आकर कपड़े बदलने चाहिए और नहाना चाहिए? 
जवाब- अगर आप सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं, तो आपको बार-बार कपड़े बदलने या फिर नहाने की जरूरत नहीं है। हाथों को धोते रहना चाहिए। एक छोटी बूंद जो थोड़ी देर के लिए हवा में तैरती है, एयरोडायनामिक्स की वजह से उसके कपड़ों पर जमा होने की संभावना नहीं के बराबर होती है।

सवाल- ऐसा क्यों है कि छोटी बूंदें और वायरल कण आमतौर पर हमारे कपड़ों पर नहीं चढ़ते हैं? 
जवाब- कपड़े जैसे छिद्रयुक्त सतहों पर कोरोनावायरस लंबे समय तक जिंदा नहीं रह सकता है। छिद्रयुक्त सतहों में वायरस फंस जाते हैं और उनसे दूसरी सतह को संक्रमित करने की क्षमता कम हो जाती है। आप धीमे चलते हुए जाते हैं और कोई छींकता है तो आप भी सांस छोड़ते समय इन कणों को बाहर धकेल देते हैं।

सवाल- क्या वायरस मेरे बालों या दाढ़ी में हो सकता है?

जवाब- संक्रमण का खतरा तब ज्यादा होता है, जब आपके पास छींकने वाले व्यक्ति के जरिए ठीक-ठाक मात्रा में वायरस के कण पहुंचें। फिर आप जहां हैं, वहां जमीन में बहुत सारी बूंदें होनी चाहिए। इसके बाद आप अपने बाल या कपड़े के उस हिस्से को छूते हैं, जहां बूंदें गिरी हैं और उसे अपने चेहरे के किसी हिस्से में संपर्क में लाते हैं, तो खतरा हो सकता है। फिर भी सावधानी रखें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

    और पढ़ें