कुरैशी की अपील/:PAK विदेश मंत्री ने कहा- एम्बेसेडर देश के लिए लॉबिंग करें, मुल्क की खराब इमेज सुधारें

इस्लामाबाद7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कुरैशी के मुताबिक, पाकिस्तान की इमेज सुधारे जाने की जरूरत है। (फाइल) - Dainik Bhaskar
कुरैशी के मुताबिक, पाकिस्तान की इमेज सुधारे जाने की जरूरत है। (फाइल)

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने दूसरे देशों में तैनात देश के राजदूतों से कहा है कि वो संबंधित देशों में पाकिस्तान के लिए लॉबिंग करें और प्रेशर ग्रुप्स बनाएं ताकि मुल्क की इमेज सुधारी जा सके। कुरैशी ने यह बात इस्लामाबाद में एक प्रोग्राम के दौरान कही। यह प्रोग्राम पाकिस्तान मिशन्स को डिजिटली कनेक्ट करने के लिए आयोजित किया गया था।

कुरैशी का यह बयान प्रधानमंत्री इमरान खान के उस बयान के उलट है, जिसमें कुछ महीनों पहले उन्होंने दूसरे देशों में तैनात अपने एम्बेसेडर्स को फटकार लगाते हुए काम करने और देश के नागरिकों की परेशानियों को दूर करने को कहा था।

लोगों ने संपर्क करना छोड़ दिया है
इस प्रोग्राम के दौरान कुरैशी ने कहा- एम्बेसी अच्छा काम कर रही हैं, लेकिन कुछ पाकिस्तानी नागरिक ऐसे हैं जिनका मुल्क से रिश्ता कट गया है। ये लोग उसी देश में बस गए हैं या बस जाना चाहते हैं, जहां वो रहते हैं। ऐसे लोगों को फिर देश से जोड़ना होगा। युवाओं को तो मुख्य तौर पर साथ लाना होगा। ये ही वो लोग हैं जो देश के लिए बहुत कीमती हैं और इन्हीं से हम अपेक्षा करते हैं कि वो दूसरे मुल्कों में पाकिस्तान की इमेज को बेहतर करेंगे। यूएई और सऊदी अरब में तो लाखों पाकिस्तानी हैं।

लॉबिंग बहुत जरूरी
कुरैशी ने कहा- हमारे एम्बेसेडर्स के लिए यह बेहद जरूरी है कि वो देश के लिए लॉबिंग करें। इसके लिए उन्हें अलग से कोशिश करनी होगी। उन लोगों से संपर्क करना होगा जो उस देश में प्रभाव रखते हैं और जिनका समाज में दबदबा है। इन लोगों से संपर्क करना होगा और उन्हें ये बताना होगा कि पाकिस्तान में क्या खूबियां हैं। इस तरह के कदम उठाकर ही हम मुल्क की इमेज को सुधार कर सकते हैं। उन लोगों को भी एप्रोच करना होगा, जो धीरे-धीरे हमसे या देश से दूर हो रहे हैं।

ढेर सारी शिकायतें
अप्रैल में इमरान खान ने फॉरेन मिनिस्ट्री के एक प्रोग्राम में एम्बेसेडर्स को जमकर फटकार लगाई थी। सऊदी अरब में पाकिस्तान के एम्बेसेडर की पोस्टिंग सस्पेंड कर दी गई थी। इसके अलावा रियाद से 6 स्टाफर्स को वापस बुला लिया गया था। इन लोगों के खिलाफ वहां रह रहे पाकिस्तानियों ने गंभीर आपत्तियां दर्ज कराईं थीं।

हैरानी की बात यह है कि अप्रैल तक राजा अली एजाज सऊदी अरब में पाकिस्तान के एम्बेसेडर थे और उन्हें रिटायरमेंट के चंद महीने पहले ही सस्पेंड कर दिया गया था और इसके साथ ही जांच भी शुरू कर दी गई थी।

कुरैशी ने इस मामले का जिक्र तो नहीं किया, लेकिन कहा- एम्बेसेडर्स के खिलाफ शिकायतें मिली हैं और मिलती रहती हैं। उन्हें बर्ताव सुधारने की बहुत जरूरत है।