• Hindi News
  • International
  • TikTok Pakistan | Imran Khan Goverment Lift Bans From TikTok In Pakistan For The Fourth Time In One Year

U टर्न सरकार:2 साल में चौथी बार इमरान खान ने टिकटॉक से बैन हटाया, कहा- अश्लीलता फैलाना बंद करे सोशल मीडिया ऐप

इस्लामाबाद8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
(प्रतीकात्मक चित्र) - Dainik Bhaskar
(प्रतीकात्मक चित्र)

पाकिस्तान सरकार ने दो साल में चौथी बार टिकटॉक पर लगा बैन हटा लिया है। चीन के इस सोशल मीडिया ऐप पर भारत और अमेरिका समेत कई देशों में बैन है। पाकिस्तान टेलिकॉम अथॉरिटी (PTA) ने कहा है कि टिकटॉक को अश्लीलता फैलाने वाले कंटेंट पर सख्ती से रोक लगानी होगी और PTA इसकी निगरानी करेगा।

इमरान सरकार के कई मंत्री और कट्टरपंथी संगठन कई बार टिकटॉक पर स्थायी बैन की मांग कर चुके हैं, लेकिन सरकार हर बार कुछ दिनों या महीनों का बैन लगाकर हटा लेती है। माना जा रहा है कि चीन की नाराजगी की वजह से बैन खत्म किया जाता है।

टिकटॉक ने फिर दिलाया भरोसा
पाकिस्तान टेलिकॉम अथॉरिटी के मुताबिक, टिकटॉक से कुछ दिनों से बैन को लेकर बातचीत जारी थी। यह बैन 20 जुलाई 2021 को लगाया गया था। तब पीटीए ने कहा था कि बैन इसलिए लगाया गया, क्योंकि कई संगठन और व्यक्ति लगातार टिकटॉक के बारे में शिकायत कर रहे थे। इसके बाद बाद टिकटॉक और पीटीए के बीच बातचीत शुरू हुई। टिकटॉक से कहा गया कि वो पाकिस्तान के कानूनों के हिसाब से ऑपरेट करे।

सरकारी एजेंसी के मुताबिक, टिकटॉक ने भरोसा दिलाया है कि वो मुल्क के कानून और कल्चर दोनों को ध्यान रखेगी। उसने ये भी भरोसा दिलाया है कि अगर किसी यूजर ने गाइडलाइन्स को तोड़ा तो उसका अकाउंट सस्पेंड किया जा सकता है।

पाकिस्तान में करोड़ों यूजर
टिकटॉक को बैन किया जाना आसान नहीं है। इससे सरकार को कमाई तो होती ही है, युवाओं के बीच भी यह काफी लोकप्रिय है। एक आंकड़े के मुताबिक, पाकिस्तान में इस सोशल मीडिया को करीब 3.9 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं। अक्टूबर 2020 से अब तक इसे चार बार बैन किया गया। हालांकि, हर बार यह बैन कुछ ही दिन या महीनों का रहा। हर बार टिकटॉक ने सरकार को यही भरोसा दिलाया कि वो अश्लील कंटेंट पर सख्ती दिखाएगा और हर बार बैन हटा लिया गया।

12वीं पायदान पर पाकिस्तान
रिसर्च फर्म सेन्सर टॉवर के मुताबिक, पाकिस्तान में टिकटॉक के 3.9 करोड़ यूजर हैं। यह पाकिस्तान में पिछले कुछ समय में तीसरा सबसे ज्यादा डाउनलोड किया जानेवाला ऐप है। इस ऐप को डाउनलोड करने के मामले में पाकिस्तान दुनिया में 12वें स्थान पर है। इससे पहले वॉट्सऐप और फेसबुक ऐप डाउनलोड में टॉप पर रहे। यूट्यूब को पाकिस्तान में 2012 से 2016 तक बैन किया गया था। इसके बाद एक नया सायबर सिक्योरिटी कानून पास किया गया। इसमें सोशल मीडिया के लिए गाइडलाइन्स तय की गईं।

ह्यूमन राइट्स पर नजर रखने वाली संस्था फ्रीडम हाउस के मुताबिक, जून 2018 से मई 2019 के बीच पाकिस्तान सरकार ने कुल 8 लाख वेबसाइट्स को ब्लॉक किया है।